बेगूसराय : सदर अस्पताल में बना सुरंग, सुरंग से गुजरनेवाले सेनिटाइज हो जाएंगे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 13 अप्रैल 2020

बेगूसराय : सदर अस्पताल में बना सुरंग, सुरंग से गुजरनेवाले सेनिटाइज हो जाएंगे

sanetize-tunnel-begusarai
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) बेगूसराय सदर अस्पताल में कुछ ऐसी व्यवस्था की गई है जिसे जानने के बाद कुछ अजीब तो अवश्य लगेगा किन्तु है सत्य।जी "अस्पताल में सुरंग" जी हाँ लगा न अजीब।अभी तक आपने फिल्मों में ही सुरंग की बात या दृश्य देखा होगा,या फिर फ़िल्म शोले में सुरंग तो देखी होगी पर अस्पताल में नहीं देखी या सुनी होगी कभी।तो श्रीमन हम बात कर रहे हैं सदर अस्पताल बेगूसराय की।यहाँ राज्यस्तर पर साफ-सफाई व चिकित्सा के मामले में प्रथम स्थान पानेवाला सदर अस्पताल,बेगूसराय ने फिर एक मिशाल कायम कर दिया है।इसका श्रेय जाता है इस  अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ० आनंद शर्मा को।गौर से देखा जाए तो ये सुरंग नहीं बल्कि यह सुरंगनुमा द्वार है।बेगूसराय जिले में बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए सदर अस्पताल बेगूसराय में कोरोना कीटाणु नाशक द्वार का निर्माण कराया गया है,जिसका द्वार सुरंगनुमा है। रविवार को इसका विधिवत उद्घाटन अस्पताल उपाधीक्षक आनंद शर्मा ने किया।डॉ आनंद शर्मा ने बताया अब अस्पताल में आने वाले डॉक्टर और मरीज सभी इसी सुरंग से होकर गुजरेंगे जहाँ वे आँटोमेटिक पूरी तरह से सैनिटाइज हो जाएंगे। इस सुरंग के माध्यम से लोगों को जागरूक भी किया जाएगा कि वह अपने घर की साफ-सफाई पर ध्यान देते हुए किस तरह से अपना और अपने परिवारों की सुरक्षा और बचाव कर सकेंगे।डॉ० आनन्द शर्मा ने बताया कि हाइड्रोक्लोराइड किटाणु नाशक से विषाणु को समाप्त किया जाता है,उसी कीटाणु नाशक दवा का प्रयोग इस सुरंग में किया जाएगा।इतना ही नहीं अब चिकित्सकों की सहूलियत के लिए आने वाले मरीजों के सैंपल भी अब इसी के अन्दर बनाए गए एक कॉटेज में लिया जाएगा। जिससे कि बार-बार चिकित्सकों को सैनिटाइज होने या हेंड ग्लब्स बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी।कुल मिलाकर बेगुसराय सदर अस्पताल में बनाया गया यह सुरंग आने वाले समय में काफी कारगर साबित हो सकती है।चिकित्सा के क्षेत्र में इसे एक अनोखा प्रयोग ही बताया जा रहा है।जो भी हो,इस प्रयोग से डाक्टर व चिकित्सा कर्मियों में आत्म विश्वास बढ़ा है और वे पहले से अधिक सुरक्षित महसूस कर रहे हैं,इससे इन्कार नहीं किया जा सकता है।वाकई डॉ०शर्मा का कोई जवाब नहीं सतर्कता बरतने के साथ नए नए शोधों का।

कोई टिप्पणी नहीं: