सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 24 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 27 अप्रैल 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 24 अप्रैल

28 दिनों तक होम क्वारंटाइन में रहे विदेश से लौटै सभी 184 व्यक्ति स्वस्थ

sehore news
जिले के लिए एक और राहत भरी खबर  है।  अन्य देशों से सीहोर शहरी क्षेत्र सहित अन्य सभी विकासखण्ड में लौटे सभी 184 व्यक्तियों ने होम क्वारंटाइन की 28 दिन की अवधि सफलतापूर्वक पूर्ण कर ली है उक्त सभी व्यक्ति स्वस्थ है। होम क्वारंटाइन के दौरान सभी की प्रतिदिन स्वास्थ्य विभाग के अलग.अलग दलों द्वारा स्क्रीनिंग की जा रही थी वहीं जिला एवं विकासखण्ड स्तर पर बनाए गए नियंत्रण कक्ष से भी उनका प्रतिदिन हाल-चाल पूछा जाकर उनके स्वास्थ्य के बारे में फीडबैक लिया जा रहा था। ज्ञात हो कि कोविड-19  (कोरोना संक्रमण) से बचाव एवं सावधानियों के लिए स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रषासन द्वारा व्यापक तैयारियां की गई हैं। संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं भोपाल द्वारा सीहोर जिले में अन्य देशों से लौटे 232 व्यक्तियों की सूची प्राप्त हुई थी। जिसमें सीहोर शहरी क्षेत्र में 94 व्यक्ति अन्य देशों से पहुंचने का उल्लेख था। सूची के अनुसार नसरूल्लागंज  में 20, बुदनी 12, इछावर 30, श्यामपुर में 14 तथा आष्टा में 62 व्यक्ति अन्य देशों से पहुंचने का उल्लेख था परंतु स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्राप्त सूची का सत्यापन किए जाने पर 184 व्यक्तियों के विदेश से सीहोर के अलग-अलग विकासखण्ड में लौटने पर सत्यापन किया गया जिसमें से  48 व्यक्ति ऐसे थे जिनका पता तो सीहोर जिले का था परंतु वे विदेश से जिले में नहीं लौटे थे अथवा अन्य राज्यों व जिलों में निवासरत है। स्वास्थ्य अमले ने जब उनका सत्यापन किया तो उन सभी 48 व्यक्ति दिए गए पते पर नहीं मिले अथवा उनका पता ही गलत था। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर कुमार डेहरिया के मुताबिक स्वास्थ्य विभाग की रेपिड रिस्पांस टीमए मेडिकल मोबाइल यूनिट तथा पीएचएमयूएकाम्बेट दलों द्वारा शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में स्क्रीनिंग के दौरान विदेश से लौटे 184 व्यक्तियों को चिन्हित कर सभी को 28 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन कर दिया गया था  जिनमें सभी 184 व्यक्ति होम क्वारंटाइन की अवधि पूर्ण कर चुके है। विदेश से सीहोर लौटकर होम क्वारंरटाइन की अवधि पूर्ण कर चुके 184 व्यक्तियों में से सीहोर शहरी क्षेत्र के 69 व्यक्ति शामिल है। वहीं नसरूल्लागंज के  14ए बुदनी के 6 व्यक्ति, इछावर के 28, श्यामपुर के 11 व्यक्ति तथा विदेश से आष्टा लौटे 56 व्यक्ति शामिल थे।  यह सभी व्यक्ति नीदरलैण्ड, मलेशिया, थाईलैण्ड, दुबई, एम्सटर्डम, आष्ट्रेलिया, इण्डोनेशिया, मक्का मदीना, सउदी अरब, न्यूयार्क, ईरान, उज्बेकिस्तान, सिंगापुर, स्वीडन, बांग्लादेश, श्रीलंका, बैंकाक, अफ्रिका, चीन, बाली, यूक्रेन, दुबई, थाईलैण्ड, यूरोप, इण्डोनेशिया, कम्बोडिया,  नेपाल, म्यामांर, थाईलैण्ड, भूटान, जेद्दाए मालदीव, बोस्टन, यूएसए, मारीशस, अब्बुदाबी इण्डोनेशिया, मिश्र से लौटे  थे। सभी 184 व्यक्ति होम क्वारंटाइन की अवधि पूर्ण कर चुके है तथा सभी स्वस्थ है। 

पिछले 24 घंटों में की गई 368 लोगों की स्क्रीनिंग अभी तक भेजे गए कुल 188 सेंपलों में से 84 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष 

sehore news
स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा मैदानी स्तर पर ग्राम एवं शहरी वार्डो में निरंतर घर-घर सर्वे कर विदेश से सीहोर जिले में लौटे तथा अन्य जिलों व राज्यों से व्यक्तियों की खोजबीन की जा रही है। पिछले 24 घंटे के दौरान जिले में अन्य राज्यों व अन्य जिलों से आए हुए करीब 368 व्यक्तियों की पहचान व पता लगाकर उनकी तत्काल स्क्रीनिंग की गई तथा उन्हें होम क्वारेंटाईन किया गया है। सीहोर जिले में अन्य जिलों अथवा राज्यों से लौटे हुए यात्रियों की संख्या अब तक कुल 29541 है। उन्हें होम कोरेंटाईन से संबंधित गाईड लाईन की जानकारी प्रदान कर सख्त हिदायत दी गई है कि होम कोरेंटाइन गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर डेहरिया ने जानकारी दी कि जिले में अन्य देशों से सीहोर पहुंचे कुल व्यक्तियों की संख्या 232 है जिनमें से 184 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 368 ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई जो अन्य राज्यों और अन्य जिलों से लौटे थे इन सभी व्यक्तियों की तत्काल स्क्रीनिंग कर इन्हें 24 अप्रैल को ही होम कोरेंटाईन कर दिया गया है जिले में अब तक होम कोरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की संख्या 29541 है। डॉ.डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान ऐसे व्यक्ति जो विदेश से सीहोर जिले में नहीं लौटे थे परंतु अन्य जिलों एवं राज्यों से लौटे थे और विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा घर-घर सर्वे के दौरान चिन्हित किए गए। पिछले 24 घंटों में होकोंरेटाईन की अवधि से 364 लोग बाहर आ चुके हैं जबकि अब तक कुल 23181 व्यक्तियों का होम कोरेंटाइन पूर्ण किया जा चुका है। जिले से अब तक 188 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 100 की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। शुक्रवार को ही 26 सेम्पल जांच के लिए भोपाल भेजे गए है। 26 सेंपलों सहित कुल 88 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। आज की स्थिति में हास्पिटल आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की संख्या, कोरोना संक्रमण पाजीटिव मरीजों की संख्या शून्य है। विभाग की ओर से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 7247704181 है इस नंबर पर बाहर से बाहर से आए हुए व्यक्तियों की जानकारी 24 घंटे दी जा सकती है। वहीं कलेक्ट्रेट कार्यालय में भी 24 घंटे के लिए काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है इस नंबर पर संपर्क कर कोविड-19 के संबंध में किसी प्रकार की सलाह ली जा सकती है 24 घंटे संचालित उक्त काल सेंटर में चिकित्सा अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है जिनके द्वारा विदेश, अन्य राज्यों व जिलों से आकर होम कोरेंटाइन किए गए व्यक्तियों को फोनकर  प्रतिदिन फीडबैक लिया जाता है तथा इसकी जानकारी जिला स्तरीय नोडल अधिकारी, संबंधित ब्लाक मेडिकल आफिसर को तत्काल दी जाती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसिन सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-401259 है यहां पर टेलीमेडिसिन के संबध में उचित सलाह ली जा सकती है।

कोरोना संक्रमित क्षेत्रों को छोड़ शेष ग्राम पंचायतों में प्रारंभ होगें मनरेगा के काम

प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में कोविड-19 के संक्रमण की संभावना वाले क्षेत्रों को छोड़कर शेष ग्राम पंचायतों में मनरेगा के काम प्रारंभ किए जाएंगे। अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विभाग श्री मनोज श्रीवास्तव ने कहा है कि भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार सामाजिक दूरी का पालन करते हुए स्थानीय परिस्थितियों का आंकलन कर जल संरक्षण, जल संवर्धन, कृषि, सिंचाई गतिविधियों, व्यक्तिमूलक कार्य प्रारंभ कराए जाएं। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कार्यस्थल पर आवश्यक सुरक्षा इंतजाम करने और श्रमिकों को जागरुक करने के लिए पेम्पलेट बाँटे जाएं। जिलों द्वारा भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार कार्य कराने एवं प्रतिदिन मेट द्वारा कार्य.स्थल पर आवश्यक इंतजाम की चेकलिस्ट जारी की गयी है। जिला स्तर से करना होगा अनुपालन- जिले के किसी भी क्षेत्र को कन्टेनमेन्ट घोषित होने पर किसी भी स्थिति में उस क्षेत्र में मनरेगा के कार्य नहीं कराए जाएंगे। जिले में कोरोना संक्रमण की परिस्थिति के अनुरूप ही कार्य कराने होंगे। मनरेगा के कार्यों को प्रारंभ करते समय व्यक्तिमूलक कार्यए स्वच्छता संबंधी कार्य, सिंचाई, कृषिमूलक कार्य, जल संरक्षण कार्यों को प्राथमिकता दी जाएगी। स्वच्छाग्राही, स्व-सहायता समूह के सदस्य को मेट बनाए जाने में प्राथमिकता दी जाएगी। मनरेगा कार्यों पर नियोजित होने वाले श्रमिकों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए कलेक्टर द्वारा स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए गए हैं। कार्यस्थल पर कोरोना संक्रमण से बचाव के करने होगे इंतजाम- अपर मुख्य सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव ने कहा है कि कार्यस्थल पर श्रमिकों को कोरोना संक्रगमण से बचाने के लिए जागरुक किया जाएगा। श्रमिकों को कार्यस्थल पर मुंह एवं चेहरे को ढकने के लिए मास्क या गमछा लगाने की अनिवार्यता होगी। श्रमिकों को कार्य आवंटन इस प्रकार करना होगाए जिसमें श्रमिकों के बीच 6 फिट से अधिक दूरी हो। साथ ही कार्यस्थल पर श्रमिकों धूम्रपान, गुटका तम्बाकु सेवन और थूकना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। इसके अलावाए कार्यस्थल पर पानी और साबुन का इंतजाम रहेगा तथा श्रमिकों को नियमित अंतराल पश्चात हाथ धोना होगा। श्रमिक द्वारा कार्य के बाद वापस घर जाने पर उसके कपड़ों को साबुन या डिटर्जेंट से धोकर स्नान करना होगाए जिससे कोरोना संक्रमण से बचा जा सके। प्रत्येक कार्य.स्थल पर मेट द्वारा चैकलिस्ट बनाई जाएगी।

अंत्योष्टि एवं जनाजे में 20 से अधिक लोग शामिल नहीं हो सकेंगे कलेक्टर ने किया प्रतिबंधात्मक आदेश जारी

कोरोना वायरस के संक्रमण से आमजन के बचाव को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए हैं। आदेशानुसार जिले में मृत्यु उपरांत किसी भी अंत्योष्टि या जनाजे आदि में बीस से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं हो सकेंगे। यह आदेश तत्काल प्रभावशील होकर आगामी आदेश पर्यन्त प्रभावशील रहेगा। आदेश का उल्लंघन करने वाले संबंधितों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अन्तर्गत कार्यवाही की जाएगी।

कोविड-19 के रेपिड एन्टी बॉडी टेस्ट के लिये निजी चिकित्सालय अधिकृत

राज्य शासन ने निजी चिकित्सालयों को कोविड.19 के संदिग्ध मरीजों के लिये रेपिड एन्टी बॉडी टेस्ट किट के उपयोग की अनुमति प्रदान की है। आयुक्त लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री फैज अहमद किदवई ने पत्र जारी कर निजी चिकित्सालयों से कहा है कि इंडियन कॉउसिल ऑफ मेडिकल रिर्सच आईसीएमआर द्वारा अनुमोदित रेपिड एन्टी बॉडी टेस्ट किट ब्लड बेस्ड का ही उपयोग करें। इस संबंध में आईसीएमआर द्वारा जारी प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करना भी आवश्यक होगा। इस किट के टेस्ट पॉजीटिव आने पर जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को तत्काल सूचना देना अनिवार्य होगा।  इसके साथ हीए मरीज को उपचार के लिये नजदीक के डेडिकेटेड कोविड केयर सेन्टर अथवा डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेन्टर रेफर किया जाना आवश्यक होगा।

अशासकीय स्कूलों को मान्यता नवीनीकरण के लिए एक वर्ष की छूट   

राज्य शासन द्वारा कोविड.19 के संक्रमण के चलते अशासकीय स्कूलों की मान्यता नवीनीकरण  के लिये एक वर्ष की छूट दी गई है। यह अवधि पूर्व में दो बार बढ़ाई जा चुकी है। लॉकडाउन अवधि 3 मई तक बढ़ाए जाने पर संस्थाओं को होने वाली कठिनाईयों और छात्रहित को ध्यान में रखते हुए 31 मार्च 2021 तक के लिये अशासकीय स्कूलों की मान्यता को यथावत मान्य किया गया है। मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल से संबद्ध ऐसे समस्त अशासकीय हाई स्कूल एवं हायर सेकण्डरी स्कूल, जिनकी मान्यता 31 मार्च, 2020 को समाप्त हो गई है, उन्हें मण्प्रण् माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शालाओं के मान्यता नियम 2017 यथा संशोधित 3 मार्च 2020 के नियम 6 अनुसार मान्यता नवीनीकरण के लिये इस वर्ष आवेदन प्रक्रिया से छूट दी गई है। ऐसे विद्यालयों की मान्यता 31 मार्च 2021 तक की अवधि के लिये यथावत मान्य होगी। ऐसे सभी विद्यालयों को मान्यता नियमों में वर्णित मापदण्डों एवं शर्तों का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। इन सभी विद्यालयों को शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिये मान्यता नवीनीकरण के लिये निर्धारित शुल्क आगामी सत्र तक के लिये स्थगित किया गया है। भविष्य में मान्यता नवीनीकरण के लिये आवेदन किये जाते समय यह शुल्क जमा करना होगा। शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिये नवीन मान्यता के लिये एमपी ऑनलाइन के मान्यता पोर्टल पर आवेदन अपलोड करने की समय सीमा 30 अप्रैल से बढ़ाकर 30 मई 2020 कर दी गई है।

कोई टिप्पणी नहीं: