सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 29 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 30 अप्रैल 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 29 अप्रैल

पिछड़ी बस्ती में भाजपा अनुसुचित जाति मोर्चा ने बांटे मास्क सेनिटईजर 

sehore news
सीहोर। भाजपा अनुसुचित जाति मोर्चा ने बुधवार को पिछड़ी बस्ती में पहुंचकर अनेक नागरिकों को कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्कों का वितरण कर सेनिटाईजर ड्राप का वितरण किया।  मोर्चा जिला महामंत्री रवि नागले के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने जरूरतमंदों को भोजन के पेकेटोंं का वितरण भी किया। कार्यकर्ताओं के द्वारा लॉक डाउन के समय घरों में रहने जिला प्रशासन के निर्देशों का पालन करने की अपील नागरिकों से की गई। श्री नागले ने कहा की बुधवार को भाजपा जिलाध्यक्ष रवि मालवीय का जन्म दिवस भी था कार्यकर्ताओं ने सादगी से जन्म दिवस को मनाते हुए गरीबों को भोजन अनाज का वितरण भी किया। खाद्ययन वितरण के दौरान प्रदेश कार्यकारणी सदस्य हरीश कौशल मंडल महांमत्री श्रवण कुमार, मंडल उपाध्यक्ष वीरेंद्र जोहरे, कुलदीप बडग़ौती, नीलेश जोहरे, निहाल सूर्यवंशी, प्रमोद कौशल, शरद विश्वकर्मा आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे। 

गल्लामंडी में संचालित हो रहा होम डिलीवरी भंड़ारा  सैकड़ों गरीबों का पेट भर रहीं है माता की रसोई 

sehore news
सीहोर। गल्लामंडी में संचालित होम डिलीवरी माता की रसोई झोपड़पटटी इलाकों में रहने वाले सैकड़ों परिवारों के लिए देवदूत बनी हुई है। माता की रसोई के मानवता के लिए समर्पित कार्यकर्ता शहर के तमाम झोपड़पटटी इलाकों में पहुंचकर लॉक डाउन के चलते घरों में बंद गरीब मजदूरों छोटे काम धंधे करने वालों जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध करा रहे है। हाम डिलीवरी भंडारा में विभिन्न प्रकार का लजीज भोजन प्रतिदिन गरीबों को कराया जा रहा है।  माता की रसोई से जुड़े आकाश रोहित बताते है की लॉक डाउन में छोटे काम धंधे बंद होने मजदूरी नहीं मिलने के कारण कई अतिगरीब परिवारों के समक्ष  भूखे मरने की नौबत आ चुकी थी। गरीबों की दयनीय दशा को देखते हुए कोरोना आपदा से निपटने के साथ गल्लामंडी के दानदाताओं और जनप्रतिनिधियों ने माता की होम डिलीवरी रसोई वितरण शुरू करने का निर्णय लिया। जिस के बाद मंडी स्थित प्राचीन मंदिर परिसर से कार्य जनहित में प्रारंभ किया गया बीते एक माह में लगातार मानवसेवा के लिए समर्पित युवा इस पुनित कार्य से जुड़ते चले गए।  माता की रसोई के माध्यम से शहर के अटल बिहारी नगर, जसपाल नगर, जनता कॉलोनी, दुर्गा कॉलोनी, टप्पर मोहल्ला सहित अन्य मोहल्लों में प्रतिदिन सैकड़ों जरूरतमंद परिवारों को भोजन वितरण किया जा रहा है। माता की रसोई के द्वारा घर तक जरूरतमंदों को खाना उपलब्ध कराने के लिए हेल्पलाईन नम्बर भी जारी किए गए है।  स्वयंसेवी कार्यकर्ताओं के द्वारा भोजन वितरण के दौरान नागरिकों को घरों में रहने स्वच्छता बनाई रखने सेनिटाईजर से हाथ धोने लॉक डाउन और जिला प्रशासन के द्वारा दिए जा रहे निर्देशों का पालन करने के लिए भी कहा जा रहा है माता की रसोई संचालनकर्ताओं ने जनहित में दानदाताओं से खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने की अपील की है। 

अभी तक कुल 30599 लोगों की स्क्रीनिंग की गई आज तक कुल 170 रिर्पोट निगेटिव आई

sehore news
स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा मैदानी स्तर पर ग्राम एवं शहरी वार्डो में निरंतर घर-घर सर्वे कर विदेश से सीहोर जिले में लौटे तथा अन्य जिलों व राज्यों से व्यक्तियों की खोजबीन की जा रही है। पिछले 24 घंटे के दौरान जिले में अन्य राज्यों व अन्य जिलों से आए हुए करीब 220 व्यक्तियों की पहचान व पता लगाकर उनकी तत्काल स्क्रीनिंग की गई तथा उन्हें होम क्वारेंटाईन किया गया है। सीहोर जिले में अन्य जिलों अथवा राज्यों से लौटे हुए यात्रियों की संख्या अब तक कुल 30599 है। उन्हें होम कोरेंटाईन से संबंधित गाईड लाईन की जानकारी प्रदान कर सख्त हिदायत दी गई है कि होम कोरेंटाइन गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर डेहरिया ने जानकारी दी कि जिले में अन्य देशों से सीहोर पहुंचे कुल व्यक्तियों की संख्या 232 है जिनमें से 184 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 220 ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई जो अन्य राज्यों और अन्य जिलों से लौटे थे इन सभी व्यक्तियों की तत्काल स्क्रीनिंग कर इन्हें 29 अप्रैल को ही होम कोरेंटाईन कर दिया गया है जिले में अब तक होम कोरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की संख्या 30599 है। डॉ.डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान ऐसे व्यक्ति जो विदेश से सीहोर जिले में नहीं लौटे थे परंतु अन्य जिलों एवं राज्यों से लौटे थे और विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा घर-घर सर्वे के दौरान चिन्हित किए गए। पिछले 24 घंटों में होकोंरेटाईन की अवधि से 191 लोग बाहर आ चुके हैं जबकि अब तक कुल 24657 व्यक्तियों का होम कोरेंटाइन पूर्ण किया जा चुका है। जिले से अब तक कुल 209 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 170 की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। बुधवार को एक भी सेम्पल जांच के लिए नहीं भेजा गया। कुल 39 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। आज की स्थिति में हास्पिटल आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की संख्या, कोरोना संक्रमण पाजीटिव मरीजों की संख्या शून्य है। वहीं विदेश से आए यात्री जो गृह जिला या निवासरत जिला में वापस नहीं आए उनकी संख्या 48 है। विभाग की ओर से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 7247704181 है इस नंबर पर बाहर से बाहर से आए हुए व्यक्तियों की जानकारी 24 घंटे दी जा सकती है। वहीं कलेक्ट्रेट कार्यालय में भी 24 घंटे के लिए काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है इस नंबर पर संपर्क कर कोविड-19 के संबंध में किसी प्रकार की सलाह ली जा सकती है 24 घंटे संचालित उक्त काल सेंटर में चिकित्सा अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है जिनके द्वारा विदेश, अन्य राज्यों व जिलों से आकर होम कोरेंटाइन किए गए व्यक्तियों को फोनकर  प्रतिदिन फीडबैक लिया जाता है तथा इसकी जानकारी जिला स्तरीय नोडल अधिकारी, संबंधित ब्लाक मेडिकल आफिसर को तत्काल दी जाती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसिन सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-401259 है यहां पर टेलीमेडिसिन के संबध में उचित सलाह ली जा सकती है।

हर व्यक्ति इम्युनिटी पावर बढ़ाने प्रतिदिन पिए आयुर्वेदिक काढ़ा-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संकट के इस दौर में आवश्यक है कि हर व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी पावर) अच्छी रहे, जिससे यह वायरस हम पर प्रभाव न कर पाए। हम ऐसे प्रयास करें, जिससे कोरोना हो ही नहीं। हमारे ऋषियों एवं वैद्यों ने आयुर्वेद में ऐसी औषधियों बनाई हैं, जिनसे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और हम स्वस्थ्य रहते हैं। हमारे आयुष विभाग द्वारा तैयार किया गया विशेष त्रिकुट चूर्ण-काढ़ा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में अत्यधिक कारगर है। इसे प्रतिदिन तीन से चार बार पिएं। श्री चौहान ने जीवन अमृत योजना का मंत्रालय में शुभारंभ करते हुए यह बात कही। मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के विभिन्न जिलों के लोगों से बातचीत कर उन्हें इस योजना के बारे में बताया।

एक करोड़ पैकेट्स का वितरण
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि जीवन अमृत योजना के अंतर्गत आयुष विभाग के सहयोग से मध्यप्रदेश लघु वनोपज संघ द्वारा इस काढ़े के 50-50 ग्राम के पैकेट्स तैयार किए गए हैं। ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में लगभग एक करोड़ व्यक्तियों को यह काढ़ा नि:शुल्क वितरित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने काढ़े के गुणों के बारे में बताते हुए कहा कि यह अत्यंत उपयोगी है। आप स्वयं पिएं तथा अपने परिवार को पिलाएं, नीरोग रहें तथा सुखी रहें।

काढ़ा बनाने की विधि
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस काढ़े को बनाने की विधि भी बताई। पीपल, सोंठ एवं काली-मिर्च को समान मात्रा में मिलाकर तथा कूटकर तैयार किए जाने त्रिकटु चूर्ण को 3-4 तुलसी के पत्तों के साथ एक लीटर पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए, तब लगभग एक-एक कप कुनकुना काढ़ा दिन में तीन से चार बार पिएं। 

मलेरिया से बचाव के लिए मच्छरदानी का उपयोग करें

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि जहां संपूर्ण विश्व कोरोना रोग से ग्रसित होकर उसके संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम में व्यस्त हैं। इस समय हमें यहां भी ध्यान रखना चाहिए कि आने वाले समय में मलेरिया रोग का संक्रमण काल शुरू होने वाला है। यदि हम ने समय रहते आवश्यक सावधानीया नहीं रखी तो यह भी हमारे लिए किसी विशाल चुनौती से कम नहीं होगा । इस समय भी लॉकडाउन के दौरान हम सभी घरों में अपना अधिकतर समय व्यतीत कर रहे हैं, तो आवश्यक है कि सोने के लिए हम मच्छरदानी का उपयोग करें, घरों में मच्छर निरोधक जालियो का उपयोग करें, मच्छर निरोधी क्रीम, लोशन, कॉइल तथा रेपेलेंट का उपयोग करें। अपने घरों में मच्छर निरोधक पौधे जैसे सिट्रोनेला, लेमन ग्रास, लहसुन, लेवेंडर, पेप्परमिंट, मैरिगोल्ड, बेसिल इत्यादि का प्रयोग करें। घरों के आसपास सफाई रखें, अनावश्यक पानी जमा न होने दें। अपने घरों में घरों की छत पर रखे अनुपयोगी वस्तुएं जैसे डब्बे, फूलदान, टायर, बर्तन इत्यादि की सफाई करे, उन्हें इस प्रकार रखे की इनमे पानी ना जमा हो पाये, पानी की टंकीयो के ढक्कन लगाये, पानी के बर्तन ढक कर रखे तथा ध्यान रखें हम अपने आसपास में मच्छरजन्य परिस्थिति निर्मित ना होने दें। उन्होंने बताया कि इस बार विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा रोल बैक मलेरिया संस्थान से हाथ मिलाया गया है । जैसा कि आपको पता है कि कोई भी बुखार मलेरिया हो सकता है अतः बुखार आने पर तुरंत खून की जांच कराए और अगर जांच मे मलेरिया पॉजिटिव निकलता है तो आशा या चिकित्सक द्वारा दिये गए उपचार को बिना भूले निर्धारित दिनों तक ले। हाँ एक महत्वपूर्ण बात जरूर याद रखे कि गर्भवती महिलाओं और 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चो को मलेरिया का विशेष खतरा होता है अतः इनका विशेष ध्यान रखे और रोजाना मच्छरदानी में अवश्य सुलाये। प्रदेश मे सरकार के साथ सनफार्मा, गोद्रेज, एम्बेड, आई सी एम आर तथा मलेरिया नो मोर जैसी संस्थाए कार्य कर रही है । संयुक्त प्रयासों से गत वर्ष 2019 मध्यप्रदेश मे लगभग 1 करोड़ से अधिक लोगो की मलेरिया जांच की गई जिनमे से 14147 मलेरिया के रोगी पाये गये जिनमे 10520 वाईवेक्स तथा 3267 फेल्सीपैरम प्रकरण पाये गये।पिछ्ले 5 वर्षो की तुलना मे लगभग 85% प्रकरणों में कमी आई गई है। कोई भी बुखार मलेरिया हो सकता है अतः आशा दीदी, एएनएम बहन जी से या नजदीकी शासकीय स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर खून की जांच अवश्य कराये और स्वास्थ्य कर्मियो द्वारा दिये गए संदेशो को अमल में जरूर लाये, जिससे आप, आपका परिवार और पूरा समाज स्वस्थ्य रखे।

जीवन शक्ति योजना में बनेंगे सौ प्रतिशत कॉटन के मास्क

राज्य शासन ने कोरोना से नागरिकों को बचाने के लिये बड़े पैमाने पर मास्क निर्माण की "जीवन शक्ति" योजना लागू कर दी है। इस योजना में सौ प्रतिशत कॉटन से निर्मित दोहरी परत वाले मास्क बनाए जाएंगे। ये मास्क कोरोना वायरस की रोकथाम में अत्यन्त प्रभावशाली रहेंगे।

पात्रता - इस योजना के अन्तर्गत समस्त शहरी महिलाएं पात्र हैं। इस योजना में ऐसी संस्थाएं जिन्हें एग्रीगेटर कहा जाएगा, जो विभिन्न माध्यमों से मास्क की मांग का संग्रहण करती है वे भी पात्र होगी। इन संस्थाओं का पंजीयन पृथक से किया जाएगा। अन्य संस्थान भी अपनी आवश्यकता के मास्क इस योजना के माध्यम से शहरी पंजीकृत महिलाओं से बनवा सकते हैं। पंजीयन की प्रक्रिया-इच्छुक महिलाएं अपना पंजीयन बेवसाइट www.maskupmp. mp.gov.in  पर स्वयं कर सकती है। इसके अलावा महिलायें फोन नम्बर 0755-2700800 पर फोन करके भी अपना पंजीयन करा सकती है। पंजीयन कराने के लिए स्वयं के नाम का बैंक खाता क्रमांक एवं आधार क्रमांक अनिवार्य है। पंजीयन के बाद प्रत्येक हितग्राही को समस्त जानकारी केवल उसके पंजीकृत मोबाइल पर ही भेजी जाएगी। इसके अतिरिक्त, हितग्राही समस्त जानकारियाँ पोर्टल पर अपने खाते में भी देख सकेगे। मास्क आदेश का प्रदाय- प्रत्येक महिला को आवश्यक संख्या में मास्क बनाने का आदेश केन्द्रीयकृत पोर्टल से दिया जाएगा। स्वीकृतकर्ता अधिकारी द्वारा क्रय आदेश को पोर्टल पर स्वीकृत करते ही आदेश संबंधित महिला के पंजीकृत मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से प्राप्त होगा। इस एसएमएस में एक लिंक भी होगा, जिस पर क्लिक करने पर हितग्राही इस क्रय आदेश की प्रति देख सकेंगे। इसके अतिरिक्त, किसी भी एमपी ऑनलाइन, लोक सेवा केन्द्र अथवा कामन सर्विस केन्द्र से भी इसकी प्रति प्राप्त कर सकेंगे। एसएमएस से प्राप्त आदेश पर महिला हितग्राही अपना निर्माण कार्य प्रारंभ कर सकती हैं। उसको अन्य किसी प्रकार के अन्य आदेश की आवश्यकता नहीं होगी।

मास्क की संरचना-   मास्क का आकार 8" x 4" का होना चाहिए। मास्क शत-प्रतिशत सूती वस्त्र का होना चाहिए। मास्क थ्री फोल्ड डबल लेयर होना चाहिए। मास्क निर्माण की प्रक्रिया भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार द्वारा जारी मेन्यूअल दिनांक 30.03.2020 के अनुसार होगी। मास्क का निर्माण हितग्राही अपनी सुविधा के स्थल पर कर सकेंगे।

मास्क को प्रदान करने की प्रक्रिया-   इस व्यवस्था के संचालन के लिये जिला कलेक्टर प्रत्येक नगरीय निकाय स्तर पर निर्मित मास्क प्राप्त करने के लिये अधिकारी नियुक्त करेंगे। आवश्यकतानुसार प्रति नगरीय निकाय एक से अधिक अधिकारी भी नामित किये जा सकते हैं। मास्क निर्माण होने पर हितग्राही अपने निर्मित मास्क जिला कलेक्टर द्वारा नामित अपने नगरीय निकाय के अधिकारी को प्रदान करेंगे। मास्क प्राप्ति की स्वीकृति संबंधित अधिकारी द्वारा अनिवार्यत: पोर्टल पर दर्ज की जाएगी। यह स्वीकृति पोर्टल से भी प्रिंट की जा सकती है। नामित अधिकारी द्वारा मास्क की प्राप्ति दर्ज करते ही 11 रुपये प्रति मास्क की दर से राशि हितग्राही के पंजीकृत खाते में हस्तातरित हो जाएगी। इस संबंध में एसएमएस हितग्राही के मोबाइल पर भी भेजा जाएगा।

वितरण की प्रक्रिया-   मास्क विक्रय करने के लिये सभी इच्छुक संस्थाएँ नामित अधिकारी से मास्क प्राप्त कर सकेंगी। नामित अधिकारी ऐसी सभी संस्थाओं को 11 रुपये प्रति मास्क की दर से राशि प्राप्ति के बाद मास्क प्रदान करेगें। इसकी प्रविष्टि पोर्टल पर करेंगे। डिमांड ड्राफ्ट "मध्यप्रदेश औद्योगिक विकास निगम" के नाम भोपाल में देय होंगे। मास्क की ब्रिकी के बाद भविष्य की आवश्यकता का आकलन नामित अधिकारी करेंगे। इसकी सूचना पोर्टल पर दर्ज करेंगे। योजना के संबंध में कोई भी स्पष्टीकरण अथवा जानकारी jeevanshakti2020@gmail.com पर दी जाएगी। जिला कलेक्टर से कहा गया है कि वे इस योजना से अधिक से अधिक महिलाओं एवं उचित मूल्य की दुकानों को जोड़ें।

प्रदेश में प्रतिदिन बनने लगे 12 हजार पीपीई किट्स

प्रदेश में कोरोना से जंग लड़ने में लगे कोरोना योद्धाओं के लिये पीपीई किट्स की प्रतिदिन सरप्लस में उपलब्ध हैं। आज की स्थिति में प्रदेश में प्रतिदिन 10 हजार पीपीई किट्स की आवश्यकता है जबकि प्रतिदिन 12 हजार किट्स बनाई जा रही हैं। प्रबंध संचालक राज्य औद्योगिक विकास केन्द्र श्री कुमार पुरूषोत्तम ने बताया कि अभी तक डेढ़ लाख किट निर्मित कर प्रदाय किये जा चुके हैं। इसमें से इंदौर और भोपाल में लगभग 75-75 हजार किट भेजे गये हैं। भोपाल से अन्य जिलों को आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने बताया कि इन्दौर में दानदाता बड़ी संख्या में पीपीई किट प्रदाय करने के लिये सामने आ रहे हैं। भोपाल और इन्दौर में लगभग 40 हजार किट अभी स्टॉक में उपलब्ध हैं और आवश्यकतानुसार जिलों में भेजे जा रहे हैं।

चाइल्ड लाइन द्वारा किसानों के साथ जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

sehore-news
सीहोर जिला कोरोना वायरस के प्रकोप में ग्रीन जोन में आता और यहां गेहूं की खरीदी मंडी में आरंभ हो गई है। मंडी में लगातार आते किसानों और व्यापारियों को देखते हुए चाइल्ड लाइन सीहोर यहां एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। चाइल्ड लाइन टीम द्वारा किसानों और मंडी आगंतुकों को कोरोना वायरस से बचाव के उपाय बताए। उन्हें आदर्श सामाजिक दूरी, मास्क पहनना और हाथों को बार’-बार धोने के साथ ही स्वच्छता बनाए रखने के लिए जागरूक किया। उन्हें बालक-बालिकाओं की सुरक्षा एवं उनके अधिकारों के विषय में जानकारी दी गई। सभी लोगों को अनावष्यक रूप से बाहर नहीं निकले और बच्चों के साथ घर पर ही रहने की सलाह भी दी गई। बच्चों के लिए किसी भी विपरीत परिस्थितियों के लिए टोल फ्री नंबर 1098 पर संपर्क करने के लिए कहा गया। कार्यक्रम में चाइल्ड लाइन परामर्शदाता ज्योति राठौर, सदस्य सुमित गौर, परीणिता जैन और स्वराज्य कीर ने हिस्सा लिया। मंडी में कार्यक्रम के आयोजन में जिले के पुलिस विभाग ने सहायता की।

आपदा से जूझ रहे नागरिकों को दी जाए राहत  बिजली और पानी के बिल माफ करे सरकार- महाजन 

sehore news
सीहोर। भाजपा नेता गौरव सन्नी महाजन ने मध्य प्रदेश सरकार से लॉक डाउन से प्रभावित नागरिकोंंं को आर्थिक राहत देने के लिए दो माह के बिजली और पानी के बिल माफ किए जाने और छोटे किसानों का भी ध्यान समर्थन मूल्य केंदा्रें के माध्यम से रखने की मांग से की है।  महाजन ने कहा की कोरोना आपदा से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार सहित जिला प्रशासन के द्वारा उठाए गए लॉक डाउन जैसे कदम से हजारों गरीब मजदूर किसान छोटे काम धंधे करने वाले नागरिक बुरी तरह प्रभावित हुए है। अनुसुचित जाति जनजाति के साथ पिछड़ी जातियों के छोटे काम काज ठप हो गए है हजारों नागरिक आर्थिक तंगी से जूझ रहे है। विद्युत वितरण कंपनी और शहरी क्षेत्र में नगर पालिका परिषद नगर पंचायत पीने के पानी सहित दो माह के बिजली बिल माफ करते है तो नागरिकों को काफी राहत मिलेगी। श्री महाजन ने कहा की समर्थन मूल्य केंद्रों के द्वारा मनमानी की जा रहीं है बड़े किसानों का गेंहू मैसेज देकर पहले खरीदा जा रहा है और छोटे किसानों को गेंहू बेचने के लिए जानबूझकर नहीं बुलाया जा रहा है जिस कारण छोटे किसानों को गेंहू नहीं बिकने के कारण आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है। श्री महाजन ने कहा की छोटे किसानों को भी मेसेज कर समर्थन मूल्य खरीदी केंद्रों के द्वारा  आमंत्रित किया जाए। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...