विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 03 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 03 अप्रैल

सस्ती दरो पर उपलब्ध होंगे सेनेटाइजर

vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन की पहल पर विदिशा जिले में सस्ती दर पर सेनेटाइजरों के विक्रय की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। मृगनयनी एम्पोरियम के द्वारा निर्मित सेनेटाइजर विदिशा जिला मुख्यालय पर चार अपै्रल शनिवार से विक्रय हेतु चिन्हित स्थलों पर उपलब्ध रहेंगे। कॉ-आपरेटिव बैंक के सीईओ एवं उक्त व्यवस्थाओं के क्रियान्वयन हेतु नियुक्त श्री विनय प्रकाश सिंह ने बताया कि विदिशा जिला मुख्यालय के चार स्थल क्रमशः नीमताल, कॉ-आपरेटिव बैंक सह कोतवाली थाना के सामने तथा दुर्गानगर चौराहा और शास्त्री नगर के समक्ष विक्रय केन्द्र संचालित किए जाएंगे। मृगनयन एम्पोरियम द्वारा तैयार किए गए सेनेटाइजर उल्लेखित विक्रय केन्द्रों पर प्रातः सात से 11 बजे तक उपलब्ध रहेंगे। 180 ग्राम सेनेटाइजर की कीमत 70 रूपए तथा 90 ग्राम के सेनेटाइजर की कीमत 40 रूपए है। इच्छुक उपभोक्तागण निर्धारित समयावधि में नियत विक्रय स्थलों पर पहुंचकर स्वेच्छानुसार मात्रा में मृगनयनी एम्पोरियम द्वारा तैयार किए गए सेनेटाइजरों का क्रय कर सकते है। 

राहत कोष में एक लाख रूपए की राशि दी

एसएटीआई के पूर्व डायरेक्टर इंजीनियर श्री रमेश चंद्र जैन ने आज मुख्यमंत्री राहत कोष एवं प्रधानमंत्री राहत कोष में क्रमशः पचास-पचास हजार रूपए की राशि के चेक नोडल अधिकारी श्री विनय प्रकाश सिंह को सौंपे है। श्री रमेश चंद्र जैन ने कहा कि संकट की इस घडी में हम सबको मिलकर सामना करना होगा। मैं अपनी सामर्थ के हिसाब से कुछ अंश राष्ट्र को समर्पित करना चाहता हूं। ज्ञातव्य हो कि श्री रमेश चंद्र जैन के पुत्र डॉ राजीव जैन के द्वारा निःशुल्क चिकित्सा परामर्श मोबाइल पर मरीजो को कलेक्टर की पहल पर दिया जा रहा है। 

बर्थडे की राशि राहत कोष में दी

vidisha news
कक्षा सातवीं में अध्ययनरत मास्टर शौर्य पीतलिया ने आज अपने बर्थडे पर मिली राशि को प्रधानमंत्री राहत कोष में दी है। उनके कहना है कि कोरोना वायरस से पूरा देश लड़ रहा है ऐसे समय में मैं भी गरीबों के लिए कुछ कर सकूं यही मेरी भावना है। मैंने अपना बर्थडे में मिली राशि पांच हजार एक सौ रूपए राहत कोष में दी है। डॉ शांति लाल पीतलिया का पोता और डॉ श्रेयष पीतलिया के पुत्र मास्टर शौर्य की अनुकरणीय पहल के साथ पूरा परिवार प्रेरणा देने का कार्य कर रहा है। डॉ पीतलिया के द्वारा हर रोज पचास भोजन के पैकेट आवश्यक परिवार व्यक्तियों को मिल सकें की पहल की जा रही है। हर रोज शाम को पचास भोजन के पैकेट उनके द्वारा पुलिस लाइन कंट्रोल रूम में जमा कराए जा रहे है ताकि आवश्यक व्यक्तियों तक सुगमता से पहुंच सकें। दादा की प्रेरणा पोते में परलिक्षित हो रही है। 

मेडीकल कॉलेज के हाल, कक्षो का उपयोग किया जाएगा 

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने गुरूवार को अटल बिहारी वाजपेयी स्वशासी मेडीकल कॉलेज के विभिन्न कक्षो, हालो का अवलोकन किया था। उन्होंने बताया कि चिन्हित कक्षो का उपयोग कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के क्यूरेन्टाइन करने हेतु उपयोग किया जाएगा। पूर्व में इसके लिए एसएटीआई के हाल व कक्षो का भी चिन्हांकन भी किया गया था। जिसे रिजर्व में रखा गया है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने बताया कि जिला चिकित्सालय से लगी हुई मेडीकल कॉलेज के भवनों, कक्षो का सदुपयोग अन्यत्र स्थलों से बेहतर होगा। उन्होंने मेडीकल कॉलेज के डीन एवं अन्य स्टाफ को समुचित प्रबंध सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए है ताकि संबंधित मरीजो को इन कक्षो में निर्धारित अवधि में सुगमता से रखा जा सकें और उन सभी की देखभाल चिकित्सकों सहित अन्य स्टाफ के द्वारा समय अंतराल पर की जा सकें। 

मुख्यालय पर रहें

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने सभी जिलाधिकारियों एवं कर्मचारियों को आदेश दिए है कि कार्यक्षेत्र मुख्यालय पर उपस्थित रहना सुनिश्चित करें। कभी भी किसी भी समय अधिकारी, कर्मचारी की आवश्यकता पड़ सकती है ऐसे समय यदि अधिकारी, कर्मचारी अपने मुख्यालय पर उपस्थित नही पाए गए उनके खिलाफ कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। कलेक्टर डॉ जैन के द्वारा जारी आदेश में उल्लेख है कि विशेष परिस्थितियो में अनुमति के उपरांत ही जिला प्रमुख अथवा अन्य अधिकारी व कर्मचारी अपना मुख्यालय छोडे़गे। 

क्लस्टर कंटेन्मेट प्लान पर चर्चा, संबंधित प्रशिक्षित हुए 

विदिशा जिले में यदि कोई कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति पाया जाता है तो इसके लिए जिले में पृथक से कार्ययोजना क्लस्टरवार तैयार की गई है। ततसंबंध में विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ-साथ अन्य को आवश्यक जबावदेंही क्षेत्रवार सौंपी गई है। उक्त अधिकारियो को उनके दायित्वों से अवगत कराने हेतु शुक्रवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण नवीन कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित किया गया था। पुलिस अधीक्षक श्री विनायक वर्मा ने क्लस्टर प्लान में पुलिस की क्या तैयारी है और उनके क्रियान्वयन कैसे किया जाएगा कि बिन्दुवार जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के इलाज में संलग्न चिकित्सक एवं अन्य स्टॉफ को पूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि विदिशा जिला मुख्यालय को विभिन्न क्लस्टरों में विभक्त किया गया है जिसकी जानकारी संबंधित क्लस्टर प्रमुखो को दी जा चुकी है और इसके लिए विभागवार तैयार किए गए एसओपी से भी संबंधितों को अवगत कराया जा चुका है। उन्होंने संकट की इस घडी में सभी विभागों के अधिकारी, कर्मचारी टीमवर्क की भावना से कार्य कर हम कोरोना वायरस के संक्रमण को अपने जिले में प्रवेश नही करने देंगे के लिए कृत संकल्पित रहें। यदि कोई मरीज संक्रमण से प्रभावित पाया जाता है तो उसके लिए पृथक से रणनीति तय की गई है के अनुसार कार्यो का सम्पादन करना है। इस दौरान विभिन्न विभागों के अधिकारियों के द्वारा शंकाओं का समाधान पुलिस अधीक्षक के द्वारा प्राप्त किया गया है। अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने प्रशिक्षण के दौरान बताया कि कोरोना वायरस बीमारी की रोकथाम के लिए जिला स्तर पर कंटेनमेंट प्लान तैयार किया गया है। विदिशा एसडीएम को जिसका नोडल अधिकारी व सीएसपी को दल प्रभारी नियुक्त किया गया है इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की ओर से डॉक्टर डीके शर्मा सहयोग के दायित्व का निर्वहन करेंगे। 

मेप तैयार 
यदि विदिशा जिले में कोई व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित अथवा पाजिटिव पाया जाता है तो उसके इलाज के प्रबंध जिला चिकित्सालय में किए जाएंगे। इसके अलावा उसके सम्पर्क अथवा निवास की एक किलोमीटर परिधि का मेप तैयार किया जाएगा। ताकि उस संक्रमित क्षेत्र में सभी प्रकार के प्रबंध सुनिश्चित किए जा सकें। उक्त मेप क्षेत्र में आमजनों का प्रवेश निषेध रहेगा। विशेष परिस्थितियों में नियुक्त अधिकारी कर्मचारी ही प्रवेश कर सकेंगे। इसके अलावा मेप क्षेत्र में निवासरत अन्य व्यक्तियों की बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु अधिकारियों को दायित्व सौंपे जांएगे और वे डोर-टू-डोर आवश्यक वस्तुओं को पहुंचाने के कार्यो का सम्पादन करेंगे।  जिला चिकित्सालय में कोरोना वायरस से प्रभावित कोई व्यक्ति पाया जाता है तो उसकी निकासी एवं प्रवेश द्वार को नियंत्रित करने हेतु संबंधित थाना प्रभारियो का दायित्व होगा और उन्हें नोडल अधिकारी का दायित्व सौपा गया है।  डिस्फेक्ट एवं सेनेटाइज करने के लिए नगरपालिका विदिशा की ओर से अधिकारी एवं कर्मचारी नियुक्त किए गए है इसी प्रकार कोरोना पाजिटिव मरीज के कान्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए तथा प्रभावित क्षेत्र अंतर्गत आने वाले घरो के सर्वे हेतु पृथक से नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए है। स्केनिंग एवं सेम्पल कलेक्शन के लिए मेडीकल टीम का गठन किया गया है। अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने बताया कि मरीज के निवास के चारो तरफ अर्थात एक किलोमीटर रेडियस को कन्टेनमेट ऐरिया घोषित किया जाएगा तथा दो किलोमीटर एरिया को वफरजोन घोषित किया जाएगा। कन्टेनमेंट एरिया के व्यक्तियों को उसके बाहर जाना पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा उनकी आवश्यक वस्तुओं जैसे, सब्जी, राशन दवाएं इत्यादि घर पर ही उपलब्ध कराई जाएगी। उस ऐरिया में घर-घर सर्वे कराकर जानकारी ली जाएगी कि और कोई व्यक्ति इस प्रकार के लक्षणों से ग्रस्त तो नही है उक्त कार्य को सम्पादित करने वाली टीम को समस्त सुरक्षा, आवश्यक सामग्री उपकरण प्रदाय की जाएगी। ऐरिया का नगरपालिका के द्वारा स्प्रे सेनेटाइजर किया जाएगा। जिसके लिए पृथक से टीम गठित की गई है। संबंधितों को आज पावर प्रेजेन्टेशन के माध्यम से प्रशिक्षित किया गया और उनकी शंकाओं का समाधान किया गया। 

नरवाई में आग लगाने वालो के खिलाफ दण्डात्मक कार्यवाही होगी

खेतों में खडी नरवाई में आग लगाने वालो के खिलाफ दण्डात्मक कार्यवाही होगी। नरवाई में आग लगाने से जनधन के साथ-साथ शासकीय परिसम्पत्ति ओर वन संपदा की भी क्षति होने का खतरा बना रहता है। मानव जीवन की सुरक्षा एवं परिशांति बनाए रखने को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट ने धारा-144 के तहत आदेश जारी कर सभी उपखण्ड मजिस्ट्रेट, कार्यपालिक मजिस्ट्रेट तथा कृषि विभाग के अधिकारियों को जारी आदेश का अक्षरशः पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश प्रसारित किए है। आदेश में कहा गया है कि नरवाई काटने हेतु रीपर वाईपर का और अग्निशामक यंत्र का अग्नि विस्तार रोकने के लिए व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए। जिले के कृषकों से कहा गया है कि गेहूं की फसल कटाई के लिए हार्वेस्टर एवं रीपर वाइन्डर का उपयोग करने के पश्चात् थ्रेसिंग करते समय जो भूसा निकला जाता है उसके आसपास अग्निशामक यंत्रों को अनिवार्यत रखें। जारी आदेश की सूचना सभी ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में अधिक से अधिक प्रचार प्रसार की जाए। इसके लिए ध्वनि विस्तार यंत्रो के उपयोग के साथ-साथ कार्यालयों के सूचना पटलों पर एवं पुलिस थानो के नोटिस बोर्ड पर आदेश की प्रति चस्पा की जाए। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट डॉ पंकज जैन ने सभी अनुविभागीय अधिकारियोंं को आदेश प्रेषित कर उनसे कहा है कि उनके क्षेत्राधिकार में नरवाई में आग लगने की सूचना प्राप्त होती है या आग लगने के बाद साक्ष्य के रूप में मौके पर आग लगाना पाया जाता है तो संबंधित के विरूद्व दण्डात्मक कार्यवाही की जाए और की गई कार्यवाही का पालन प्रतिवेदन जिला कार्यालय को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। उक्त कार्यवाही में यदि किसी के द्वारा लापरवाही बरती जाती है तो उसके विरूद्व कार्यवाही की जाएगी। 

पहले दिन 50 से अधिक मरीजो ने निजी चिकित्सको से सम्पर्क किया

कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए हर स्तर पर प्रयास किए गए है उनकी पहल पर नगर के प्रायवेट चिकित्सकों ने अपनी सेवाएं मरीजो को टेलीफोन के माध्यम से दी जा रही है। सिविल सर्जन सह अधीक्षक डॉ संजय खरे ने बताया कि प्रायवेट चिकित्सकगण हर रोज दो शिफ्टो में स्वास्थ्य सेवाएं निःशुल्क देने हेतु सहमत हुए है। तदानुसार प्रातः 11 बजे से दोपहर एक बजे तक तथा सायंकाल छह बजे से सात बजे तक प्रायवेट चिकित्सक उपलब्ध रहेंगे। उक्त दोनो अवधि के दरम्यिन मरीज अथवा उनके परिजन प्रायवेट चिकित्सकों के मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क कर परामर्शए वीडियो कॉलिंग के माध्‍यम से भी प्राप्त1 कर सकेंगे! पांचवे दिन 65 मरीजो का उपचार प्रायवेट चिकित्संकों के द्वारा किया गया है। चिकित्सकों द्वारा वाट्स-एप के माध्यम से मरीज को अथवा कंट्रोल रूम को प्रिसकेप्सन भेजने का कार्य किया गया है। ज्ञातव्य हो कि मरीजो के लिए जिला चिकित्सालय से उनके पता स्थल पर दवाईयां पहुंचाने का कार्य भी किया जा रहा है इसके अलावा यदि कोई मरीज अथवा उसके परिजन प्रायवेट मेडीकल स्टोर से दवाईयां क्रय करना चाहते है तो डाक्टर का प्रिसकेप्शन सीधे उल्लेखित मरीज के वाट्स-एप पर सेन्ट करने की प्रक्रिया क्रियान्वित की जा रही है।  

निजी चिकित्सकों द्वारा प्रदाय सेवा
कलेक्टर डॉ पंकज जैन की अपील पर विदिशा शहर के 14 प्रायवेट चिकित्सकों के द्वारा मरीजो के लिए टेलीफोनिक सेवा के माध्यम से इलाज सुविधा की पहल पर सहमति दी गई है। जिसमें डॉ सचिन गर्ग (9425135435),  डॉ एमएस राजपूत (9425463336), डॉ पियुष श्रीवास्तव (9893033377), डॉ विनय पांडे (9425432300), डॉ अभय दातार (9827086181), डॉ राजीव जैन (9826254770), डॉ राहुल जैन 9424445854ए डॉ पियुष सक्सेना 9893344923 डॉ विकास जैन 9826951380 डॉ सुधीर जैन 9827525250 डॉ ऐश्वर्य मोदी 9425614877 डॉ चंद्रकांत चौरसिया 9425149299 डॉ नवीन शर्मा 9425149815  डॉ रूपाली जैन 7999665832 शामिल है।

डोर टू डोर दवाईयों की उपलब्धता
प्रायवेट चिकित्सकों से सम्पर्क करने वाले मरीजो के घर तक दवाईयां पहुंचाने की व्यवस्थाएं जिले में क्रियान्वित की जा रही है उक्त व्यवस्थाओं को सुव्यवस्थित रूप से सम्पन्न कराने हेतु डिप्टी कलेक्टर श्री लोकेन्द्र सरल को नोडल अधिकारी का दायित्व सौंपा गया है। नोडल अधिकारी श्री सरल ने बताया कि विशेष वाहन के माध्यम से निजी चिकित्सकों से जिन मरीजो के द्वारा चर्चा कर अपनी बीमारी से अवगत कराया गया है तदोपरांत चिकित्सक द्वारा रोगोपचार हेतु लिखी गई दवाईयां शासकीय जिला चिकित्सालय के माध्यम से विशेष वाहक के द्वारा मरीज के द्वारा दर्ज कराए गए पता, मोबाइल सम्पर्क पर पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। जिले में अब तक 182 मरीजो के घर तक निःशुल्क दवा पहुंचाने की सेवाएं प्रदाय की जा चुकी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...