सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 9 मई 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 मई

शॉल श्रीफल से किया कोरोना योद्धा नपा सफाई कर्मचारियों का सम्मान 

sehore news
सीहोर। नागरिकों ने कोरोना योद्धा नगर पालिका की कचरा गाड़ी के ड्राइवरों सफाई कर्मचारियों का शनिवार को सुदामा नगर में सोशल डिस्टंसिंग का ध्यान रख्ते हुए शॉल श्रीफल भेंटकर और पुष्प मालाएं पहनाकर स्वागत सम्मान किया।  सामाजिक कार्यकर्ता राकेश शर्र्मा के नेतृत्व में क्षेत्र के युवाओं ने सफाई कर्मचारियों को सुरक्षित रूप से कार्य करने के लिए सैनिटाईजर और मास्क का वितरण भी किया। सफाई कर्मचारियों सहित क्षेत्र के नागरिकों के घर घर पहुंचकर आयूष विभाग के द्वारा उपलब्ध कोरोना वायरस संक्रमण रोकने और शरीर में अंतरीक शक्ति बड़ाने वाली गोलियों का वितरण भी इस दौरान किया गया। 

प्रतिदिन सुबह 8 से शाम 6 बजे तक खुली रहेंगी दुकानें, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा कोविड-19 के संबंध में रेड जोन, ओरेन्ज जोन एवं ग्रीन जोन में आने वाले जिलों के संबंध में गाईड लाईन जारी की गई है। सीहोर जिला गाईड लाईन के अनुसार ग्रीन जोन की श्रेणी में आने से स्थानीय परिस्थिति को देखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा सीहोर जिले की राजस्व्‍ सीमा अन्तर्गत 5 मई को मार्केट एरिया में सभी दुकानें प्रतिबंधित श्रेणी “ए” को छोड़ते हुए प्रात: 8 से दोपहर 12 बजे तक खोले जाने के आदेश जारी किए गए। प्रात: 8 से 12 बजे तक दुकाने खुलने के दौरान बाजार में भीड़ अधिक हो रही है जिससे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से कलेक्टर श्री गुप्ता द्वारा पूर्व में जारी आदेश में संशोधन किया गया है। सीहोर जिले की राजस्व्‍ सीमा अन्तर्गत 5 मई को मार्केट एरिया में सभी दुकानें कंटेंमेंट एरिया एवं प्रतिबंधित श्रेणी “ए” को छोड़ते हुए अब दुकाने प्रात: 8 से सांय 6 बजे तक प्रतिदिन खुली रहेंगी। कंटेंमेंट एरिया एवं प्रतिबंधित श्रेणी तथा प्रतिष्ठान आदि प्रतिबंधित रहेंगे। शेष आदेश का भाग यथावत रहेगा।  यह आदेश सीहोर जिले की राजस्व्‍ सीमा अन्तर्गत जन सामान्य के जान-माल की सुरक्षा तथा भविष्य में लोकशांति भंग होने की संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए जारी किया गया है। आदेश का उल्ल्ंघन करने पर दोषी व्यक्ति के विरुद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51-60 के तहत कार्यवाही भी की जाएगी। यह आदेश तत्काल प्रभावशील है।

अभी तक कुल 34136 लोगों की स्क्रीनिंग की गई, हमीदिया अस्पताल में भर्ती कोराना पॉजिटिव महिला की आज हुई मृत्यु

स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा मैदानी स्तर पर ग्राम एवं शहरी वार्डो में निरंतर घर-घर सर्वे कर विदेश से सीहोर जिले में लौटे तथा अन्य जिलों व राज्यों से व्यक्तियों की खोजबीन की जा रही है। पिछले 24 घंटे के दौरान जिले में अन्य राज्यों व अन्य जिलों से आए हुए करीब 626 व्यक्तियों की पहचान व पता लगाकर उनकी तत्काल स्क्रीनिंग की गई तथा उन्हें होम क्वारेंटाईन किया गया है। सीहोर जिले में अन्य जिलों अथवा राज्यों से लौटे हुए यात्रियों की संख्या अब तक कुल 34136 है। उन्हें होम कोरेंटाईन से संबंधित गाईड लाईन की जानकारी प्रदान कर सख्त हिदायत दी गई है कि होम कोरेंटाइन गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर डेहरिया ने जानकारी दी कि जिले में अन्य देशों से सीहोर पहुंचे कुल व्यक्तियों की संख्या 232 है जिनमें से 184 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 626 ऐसे व्यक्तियों की पहचान की गई जो अन्य राज्यों और अन्य जिलों से लौटे थे इन सभी व्यक्तियों की तत्काल स्क्रीनिंग कर इन्हें 09 मई को ही होम कोरेंटाईन कर दिया गया है जिले में अब तक होम कोरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की संख्या 34136 है। डॉ.डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान ऐसे व्यक्ति जो विदेश से सीहोर जिले में नहीं लौटे थे परंतु अन्य जिलों एवं राज्यों से लौटे थे और विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा घर-घर सर्वे के दौरान चिन्हित किए गए। पिछले 24 घंटों में होकोंरेटाईन की अवधि से 443 लोग बाहर आ चुके हैं जबकि अब तक कुल 30075 व्यक्तियों का होम कोरेंटाइन पूर्ण किया जा चुका है। जिले से अब तक कुल 334 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 263 की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। शनिवार को 26 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए। 26 सेंपल सहित कुल 65 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। आज की स्थिति में हास्पिटल आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की संख्या कुल 7 है। कोरोना संक्रमण पाजीटिव मरीजों की संख्या 1 है। कोराना संक्रमण के कारण मृत्यु संख्या 1 है। कुल सर्वे कंटेनमेंट एरिया 1 है। वहीं विदेश से आए यात्री जो गृह जिला या निवासरत जिला में वापस नहीं आए उनकी संख्या 48 है। विभाग की ओर से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 7247704181 है इस नंबर पर बाहर से बाहर से आए हुए व्यक्तियों की जानकारी 24 घंटे दी जा सकती है। वहीं कलेक्ट्रेट कार्यालय में भी 24 घंटे के लिए काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है इस नंबर पर संपर्क कर कोविड-19 के संबंध में किसी प्रकार की सलाह ली जा सकती है 24 घंटे संचालित उक्त काल सेंटर में चिकित्सा अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है जिनके द्वारा विदेश, अन्य राज्यों व जिलों से आकर होम कोरेंटाइन किए गए व्यक्तियों को फोनकर  प्रतिदिन फीडबैक लिया जाता है तथा इसकी जानकारी जिला स्तरीय नोडल अधिकारी, संबंधित ब्लाक मेडिकल आफिसर को तत्काल दी जाती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसिन सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-401259 है यहां पर टेलीमेडिसिन के संबध में उचित सलाह लें।

मलेरिया से बचाव के लिए मच्छरदानी का उपयोग करें, बुखार होने पर खुन की जांच करवाए, घर में साफ-सफाई का विषेष ध्यान रखें

स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों को सलाह दी गई है कि इस समय हमें यहां भी ध्यान रखना चाहिए कि आने वाले समय में मलेरिया रोग का संक्रमण काल शुरू होने वाला है। यदि हम ने समय रहते आवश्यक सावधानियां नहीं रखी तो यह भी हमारे लिए किसी विशाल चुनौती से कम नहीं होगा । इस समय भी लॉकडाउन के दौरान हम सभी घरों में अपना अधिकतर समय व्यतीत कर रहे हैं, तो आवश्यक है कि सोने के लिए हम मच्छरदानी का उपयोग करें, घरों में मच्छर निरोधक जालियों का उपयोग करें, मच्छर निरोधी क्रीम, लोशन, कॉइल तथा रेपेलेंट का उपयोग करें। अपने घरों में मच्छर निरोधक पौधे जैसे सिट्रोनेला, लेमन ग्रास, लहसुन, लेवेंडर, पेप्परमिंट, मैरिगोल्ड, बेसिल इत्यादि का प्रयोग करें। घरों के आसपास सफाई रखें, अनावश्यक पानी जमा न होने दें। अपने घरों में घरों की छत पर रखे अनुपयोगी वस्तुएं जैसे डब्बे, फूलदान, टायर, बर्तन इत्यादि की सफाई करे, उन्हे इस प्रकार रखे की इनमे पानी ना जमा हो पाये, पानी की टंकीयो के ढक्कन लगाये, पानी के बर्तन ढक कर रखे तथा ध्यान रखें हम अपने आसपास में मच्छरजन्य परिस्थिति निर्मित ना होने दें। रोल बैक मलेरिया पार्टनरशिप के साथ इस बार विशेष रणनीति की विशेष रणनीति पर कार्य किए जाने का निर्णय लिया गया है। इसमें विशेष रणनीति के 4 मुख्य आधार स्तम्भ है जिसमे दृढ़ राजनीतिक इच्छाशक्ति, विशेष रणनीति, दिशानिर्देश, नीति तथा विशेष कार्य योजना तथा राष्ट्रिय स्तर से समन्वय कर मलेरिया पर नियंत्रण पाना संभव पाया गया है। वर्ष 2019 में मलेरिया के वेक्सीन का निर्माण तथा उपयोग भी शुरु किया गया है तथा इसे 3 देशों में घाना, केन्या तथा मलावी में उपयोग किया जा रहा है शुरुआती परिणामों में मलेरिया के वैक्सीन से 40% प्रकरणों में कमी देखने में आई है। जैसा कि आपको पता है कि कोई भी बुखार मलेरिया हो सकता है अतः बुखार आने पर तुरंत खून की जांच कराए और अगर जांच मे मलेरिया पॉजिटिव निकलता है तो आशा या चिकित्सक द्वारा दिये गए उपचार को बिना भूले निर्धारित दिनों तक ले। हाँ एक महत्वपूर्ण बात जरूर याद रखे कि गर्भवती महिलाओं और 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चो को मलेरिया का विशेष खतरा होता है अतः इनका विशेष ध्यान रखे और रोजाना मच्छरदानी में अवश्य सुलाये।

ई- पास जारी करने के संबंध में नये निर्देश जारी

अपर मुख्य सचिव एवं प्रभारी स्टेट कंट्रोल रूम श्री आईसीपी केशरी द्वारा विभिन्न श्रेणी के पास जारी करने के संबंध में नए निर्देश जारी किए गए हैं। मध्य प्रदेश के निवासी जो अन्य राज्यों में हैं। अन्य राज्यों के हॉटस्पॉट जिलों से प्रदेश के जिलों में आने की व्यवस्था पहले नहीं थी। किंतु अब मध्य प्रदेश के निवासी जो अन्य राज्यों के हॉटस्पॉट जिलों में फंसे हुए हैं वे पास के लिए मैप आईटी पोर्टल <http://mapit.gov.in/covid-19> पर वाहन पंजीयन क्रमांक सहित आवेदन कर सकेंगे। ऐसे पास केवल एक बार अन्य राज्यों से मध्यप्रदेश में आने के लिए जारी किये जा सकेंगे। इस व्यवस्था का उपयोग  बार-बार  आवागमन में नहीं किया जा सकेगा। प्रदेश के अन्य जिलों में फँसे प्रदेशवासी पहले  के आदेश में इंदौर, उज्जैन, भोपाल, धार, खंडवा एवं खरगोन जिलों से अन्य जिलों के लिए मात्र  मेडिकल इमरजेंसी,  मृत्यु  और विवाह के लिए ही  ई-पास  किए जा रहे थे।  इसमें शिथिलता देते हुए  अब इन जिलों से भी  अन्य जिलों की तरह  कलेक्टर द्वारा  प्रदेश के अंदर  एवं  अन्य जिलों में  यात्रा की अनुमति  दी जाएगी।  किंतु यह अनुमति  मात्र एक बार ही दी जा सकेगी, जिससे इसका दुरुपयोग न किया जाए।  जिस जिले में यह अनुमति दी जा रही है  तथा जिस जिले के लिए दी जा रही है,  की जानकारी मेप आईटी के पोर्टल  पर  संबंधित जिलों को दिखाई देती है। इसका उपयोग कर वे जिलों में आने वाले नागरिकों का  चिकित्सीय परीक्षण  करवाने के बाद  संदिग्ध कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर  अनिवार्य रुप से 14 दिन के लिए  इंस्टीट्यूशनल क्वॉरेंटाइन  और संदिग्ध पाए जाने पर  होम फनंतंदजपदम करवाया जाए। इन सभी यात्रियों को  आरोग्य सेतु/सार्थक एप डाउनलोड करवाया जाए।   

मजदूर भाई चिंता न करें उनकी सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करेंगे

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने दूसरे प्रदेशों में फंसे मध्यप्रदेश के मजदूरों से अपील की है कि वे चिंता न करें। उनकी मध्यप्रदेश सुरक्षित वापसी सुनिश्चित की जाएगी। वे धैर्य रखें, पैदल न चलें तथा प्रदेश के कंट्रोल रूम पर संपर्क कर अपनी जानकारी दें। हम आपको प्रदेश वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि विभिन्न प्रदेशों में फंसे मध्यप्रदेश के एक लाख 25 हज़ार मजदूरों को प्रदेश वापस लाया गया है। उन्हें लाने के लिए विशेष ट्रेनों की व्यवस्था की गई है। ग्यारह ट्रेन मजदूरों को लेकर मध्यप्रदेश आ गई हैं, कल 10 ट्रेन आ जाएंगी तथा अन्य 40 ट्रेनें भी तैयार हैं। वे निर्धारित कार्यक्रमानुसार विभिन्न प्रदेशों से मजदूरों को लेकर मध्यप्रदेश आएंगी। मजदूरों को आने का कोई किराया नहीं चुकाना है। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा रेल का किराया भारत सरकार को दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अन्य प्रांतों में फंसे मजदूर भाई हमारे कंट्रोल रूम 0755-2411180 पर सूचना दें तथा रजिस्ट्रेशन कराएं और इंतजार करें। शीघ्र ही आपको मध्य प्रदेश वापस लाने की व्यवस्था की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि महाराष्ट्र में हुई दुर्घटना से मन अत्यंत व्यथित एवं दु:खी हुआ है। हमारे 16 मजदूर भाई पैदल चल कर वापस आ रहे थे तथा रेलवे ट्रैक पर सो गए। रेल हादसे में उनकी मृत्यु अत्यंत दुखद है।    

कोई टिप्पणी नहीं: