विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 28 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 मई 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 28 मई

विधायक शशांक भार्गव ने विदिशा जिले के बचे हुये पंजीकृत किसानों का गेहूॅ तत्काल तोले जाने की मांग मुख्यमंत्री से की-

विदिशा विधायक शशांक भार्गव ने इसे पंजीकृत किसान जिनकी गेंहू की उपज अभी तक उपर्जान केन्द्रो ंपर नही तोली गई है ऐसे सभी किसानो की उपज तत्काल तोले जाने के संबंध मे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान कृषि एवं खाद्य मंत्री म.प्र. शासन के साथ ही प्रमुख सचिव खाद्य एवं सहकारिता को पत्र लिख कर तत्काल शेष पंजीकृत कृषको की उपज तोले जाने की मांग करते हुए कहा कि आपके द्वारा गेहूॅ की तुलाई का कार्य हेतु अंतिम दिनांक 31.05.2020 कर दी गई है, लेकिन 24.05.2020 से लगातार आपके कारिंदे सोसायटी दर सोसायटी जाकर बचे हुये पंजीकृत किसानों की सूची बना रहे है ओर मुझे जिला प्रशासन द्वारा यह आश्वासन दिया जा रहा है कि बचे हुये पंजीकृत किसानो का गेहूॅ ऊपर से आदेश आने के बाद तुलवा लिया जायेगा। दिनांक 16.05.2020 से किसान अपनी अपनी सोसायटियों पर गेहूॅ की भरी हुई ट्राली लेकर खडे हुये है। आपके कारिंदों के तुगलकी फरमान से कभी वारदाना खत्म हो जाता है, कभी मेसेज की 48 घण्टे की बाध्यता खत्म हो जाती है। किसान की जब तुलाई की बारी आती है, तो तारीख बदल जाती है एवं अन्य किसानों की फसल तुलने लगती है ओर लाईन में आगे लगा किसान इस प्रकार की अव्यवस्थाओं से पीछे चला जाता हैंै । आपके कारिेंदे पुनः आश्वासन देते है कि आपका मेसेज पुनः आयेगा तभी आपकी उपज तोलेगे, लेकिन अभी तक बचे हुये पंजीकृत किसानों को मेसेज प्राप्त नहीं हुआ है। उन्होने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि आपने एवं आपकी सरकार ने मानवीय संवेदनाआंे को समाप्त कर दिया है। आप स्वयं ए.सी. में बैठकर नौ तपो की गरमी का अहसास नहीं कर पा रहे है। किसान 16 तारीख से आज तक ऐसी भीषण गर्मी में गेहूॅ की ट्राली लिये समिति प्रबंधकों के हाथ जोड रहा है, लेेकिन आपके ऊपर से आने वाले आदेश नहंी आने से बचे हुये पंजीकृत किसानों का तुलाई कार्य रूका हुआ है इस संबंध में विधायक भार्गव ने अपने लिखे पत्र मे कहा कि पत्र प्राप्ती के एक घण्टे के भीतर पंजीकृत बचे हुये किसानों के गेहॅू तुलबाने के कार्य का आदेश आपके कारिेंदो द्वारा तत्काल जारी किया जाये, मैं आपसे उम्मीद करता हॅू कि जिस तरीके से भारत सरकार द्वारा लाखों मजदूरों को पैदल चलवाया है ऐसा आप विदिशा जिले के किसानों के साथ नहीं करेंगे। मानवीय संवेदनाओं के साथ मेरा आग्रह तत्काल स्वीकार किये जाने की मांग की।

जिले में आने वाले सार्थक एप व आरोग्य एप अनिवार्य रूप से डाउनलोड करें-कलेक्टर    

vidisha news
मुख्य सचिव के द्वारा व्हीसी में दिये गए निर्देशो के अनुपालन में कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को फीवर क्लीनिक में आने वाले मरीजो तथा जिले में प्रवेश करने वाले  आमजनों को निर्धारित एप सार्थक व आरोग्य एप अनिवार्य रूप से डाउनलोउ कराए जाए। इस कार्य में उनकी मदद के लिए पृथक से कर्मचारी तैनात करने के निर्देश उनके द्वारा संबंधितों को दिए गए है। कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि अद्यतन समीक्षाएं निर्धारित एपो में दर्ज आंकडो के आधार पर की जाएगी। उन्होंने होम क्यूरेन्टाइन तथा सार्थक एप में दर्ज आंकडो में काफी अन्तर प्रदर्शित होने पर असंतोष जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि जिन व्यक्तियों को होम क्यूरेन्टाइन किया गया है वे सभी अनिवार्य रूप से सार्थक एप डाउनलोड करें। इसी प्रकार जिले में प्रवेश करने वाले अन्य जिलो के नागरिक आरोग्य एप को डाउनलोड करें इसके लिए जिले की प्रवेश सीमा चेकपोस्ट अग्रवाल एकेडमी स्कूल के समीप ही उपरोक्त कार्यवाही सुनिश्चित कराई जाए। इसी प्रकार के निर्देश सिविल सर्जन सह अधीक्षक को भी दिए गए है। जिला चिकित्सालय के फीवर क्लीनिक में आने वाले सभी मरीजो के मोबाइल पर सार्थक एप अनिवार्य रूप से डाउनलोड कराया जाए। इस कार्य में मदद करने हेतु पृथक से कर्मचारी नियुक्त करने के निर्देश दिए है। ज्ञातव्य हो कि आरोग्य सेतु राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र द्वारा विकसित एक कोविड-19 टै्रकिंग मोबाइल एप्लिकेशन है जो भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत आता है। इस ऐप का उद्वेश्य कोरोना वायरस के बारे में जागरूकता फैलाना और आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं को भारत के लोगो से जोड़ना है। मध्यप्रदेश में कोरोना के संभावित मरीजो पर अब मोबाइल एप से नजर रखी जाएगी। सरकार ने मानिटरिंग के लिए सार्थक मोबाइल एप लांच किया है। क्यूरेन्टाइन किए गए सभी संभावित मरीज और कोरोना पॉजिटिव मरीजो को इस एप पर रजिस्टर कर उनकी रोज मॉनिटरिंग की जाए। ये ऐप मैप आईटी ने डेव्लप किया है इसमें होम क्यूरेन्टाइन व्यक्ति की यूजर आईडी बनाकर उसका रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। साथ ही एप से व्यक्ति की जियो मेपिंग होगी और उसकी गतिविधियां भी चिन्हित की जा सकेगी। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगो की हेल्थ रिपोर्टिंग भी सार्थक एप के जरिए होगी। 

जिले की सभी मंडियो में गेंहू खरीदी कार्य शुरू विदिशा, बासौदा, सिरोंज की मंडियो में समर्थन मूल्य से अधिक पर विक्रय      

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने बताया कि गुरूवार को विदिशा, बासौदा, सिरोंज की मंडियो में किसानो से व्यापारियों द्वारा समर्थन मूल्य से अधिक पर गेंहू क्रय किया गया है। कलेक्टर डॉ जैन ने बताया कि जिले के सभी सातो कृषि उपज मंडियो में गेंहू खरीदी का कार्य व्यापारियों द्वारा किया जा रहा है।  सिरोंज एसडीएम श्री अनिल सोनी ने आज गुरूवार को सिरोंज कृषि उपज मंडी में सम्पन्न हुए गेंहू खरीदी कार्य की जानकारी देते हुए बताया कि सिरोंज मंडी में न्यूनतम 1800 सौ रूपए तथा अधिकतम 2780 रूपए प्रति कि्ंवटल की दर से  व्यापारियों द्वारा गेंहू की खरीदी की गई है इसके अलावा मसूर न्यूनतम 4900 सौ तथा अधिकतम पांच हजार रूपए प्रति कि्ंवटल की दर से विक्रय हुआ है। सिरोंज मंडी में 73 किसानों के द्वारा 3293 कि्ंवटल गेंहू 13 किसानो के द्वारा 381 कि्ंवटल चना, छह किसानो ने 147 कि्ंवटल मसूर और छह किसानो के द्वारा 160 कि्ंवटल सरसो विक्रय किया गया है।  बासौदा एसडीएम श्री प्रकाश नायक ने बताया कि बासौदा में गेंहू अधिकतम 2715 रूपए प्रति कि्ंवटल में विक्रय हुआ है। जबकि मसूर न्यूनतम 550 रूपए तथा अधिकतम 5150 रूपए प्रति कि्ंवटल की दर से व्यापारियों द्वारा क्रय किया गया है। बासौदा कृषि उपज मंडी में गुरूवार को सौदा पत्रक के माध्यम से 153 किसानो के द्वारा 7113 कि्ंवटल गेंहू, एक किसान के द्वारा तीस कि्ंवटल चना, पांच किसानो ने 140 कि्ंवटल मसूर, चार किसानो ने 125 कि्ंवटल सरसो का विक्रय किया है जबकि 56 अनुबंधित किसानो के द्वारा 677 कि्ंवटल तेवडा 3100 से 3402 रूपए प्रति कि्ंवटल के मान से विक्रय किया है। जबकि व्यापारियों द्वारा नीलामी के माध्यम से गेंहू 1600 से 2755 रूपए प्रति कि्ंवटल के मान से क्रय किया गया है। इसी प्रकार 205 किसानो के द्वारा 4553 क्विंटल गेंहू की बिक्री की गई है।विदिशा कृषि उपज मंडी के सचिव श्री कमल कुमार वगवैया ने बताया कि गुरूवार को सौदा पत्रक के माध्यम से 114 किसानो से 4868 कि्ंवटल गेंहू का व्यापारियों द्वारा 1753 से लेकर 2306 रूपए की दर से प्रति कि्ंवटल गेंहू खरीदा गया है। ज्ञातव्य हो कि गेंहू की किस्म लोकमन व 1544 का आज व्यापारियों द्वारा क्रय किया गया है जिले की प्रसिद्व किस्म शरबती विदिशा कृषि उपज मंडी में विक्रय हेतु मंडी में आई नही है कि जानकारी मंडी सचिव ने दी

विद्या भारती मध्यभारत प्रांत

vidisha news
वि‍दिशा - विद्या भारती मध्यभारत प्रांत द्वारा प्रांत के का पांच दिवसीय वेबिनार का शुभारंभ मुख्य अतिथि श्री भालचन्द्र रावले (क्षेत्रीय संगठनमंत्री, विद्याभारती मध्यक्षेत्र), मुख्य वक्ता श्री अवनीश जी भटनागर(राष्ट्रीय सचिव, विद्याभारती संस्कृति शिक्षा संस्थान, कुरुक्षेत्र) द्वारा किया गया। प्रेस को जारी विज्ञप्ति में डाॅ. रामकुमार भावसार ने बताया कि इस वैश्विक महामारी के बीच प्रत्यक्ष प्रशिक्षण संभव नहीं इसलिए प्रांत के प्रमुख कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण वेबिनार के माध्यम से आयोजित किया गया जिसमे प्रथम दिवस श्री अवनीश जी भटनागर द्वारा वैश्विक महामरी चुनौती या अवसर इस विषय पर प्रांत के प्राचार्य, प्रधानाचार्य एवं पूर्णकालिक कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन दिया। श्री अवनीश जी भटनागर ने कहा कि एक विषम परिस्थति में हम सब मिल रहे हैं। अपना काम प्रारंभ से ही चुनौती भरा रहा है। प्रधानमंत्री जी ने कहा-लड़ाई लम्बी है,लम्बी चलेगी। आज की कोरोना संकट की परिस्थिति को सामान्य होने में अभी महिनों लगने वाले है। इस चुनौती के मध्य हम आगे कैसे बढ़े? मार्ग निकालना है। जीवन दृष्टि विकास की शिक्षा की बात विनोवा जी करते हैं- जीव,जगत एवं परमेश्वर को जानने की शिक्षा चाहिए। श्री भटनागर ने कहा एक बड़ी चुनौती समाज में असुरक्षा की भावना है। हम शैक्षिक संस्था है समाज से हमारा अभिन्न सम्बन्ध है। कृषि,व्यवसाय-आर्थिक स्थिति कमजोर होगी। मजदूर,श्रमिक-गांव,घरों पर लौटकर आ गये है आगे क्या करेंगे चुनौती है। भारत में 15 लाख करोड़ के घाटे की सम्भावना भारत सरकार ने व्यक्त की है। यह समस्या लम्बे समय तक चलेगी। अतः तात्कालिक एवं दीर्घकालिक समस्या का समाधान करना है। श्री भटनागर ने कहा कि आॅनलाईन शिक्षण की चुनौति है। तकनीकि संसाधन कम है,नेटवर्किग समस्या है,अल्पकालिन समस्या का भी समाधान मिलने लगा है। वैकल्पिक व्यवस्था हमारा मार्ग बन रही है। छात्रों को आॅंनलाइन शिक्षण की लत न लग जाय यह भी चुनौती है। तकनीकि विज्ञान का उत्पाद है अतः यह हमारी मालिक,स्वामी न बन जाय। शिक्षकों की नयी भूमिका पर विचार करना है। बालकेन्द्रित क्रियाधारित शिक्षण चलाने की अपनी मर्यादा है। बालक के पास सभी विषयों का काम एवं गृहकार्य होगा समय नियोजन की भी चुनौती है। समय सीमा का ध्यान रखते हुए छात्रों को सक्रिय करना। स्वाध्याय की सामग्री भी पी.पी.टी.,विडियो,पी.डी.एफ. के रूप में सुझायी जा सकती है। श्री भटनागर जी ने कहा चुनौती के बीच से अच्छी बातें भी निकल रही है,पर्यावरण सन्तुलित हो गया है।नदियाॅ स्वच्छ हो रही है। गंगा नदी में यह परिर्वन देखा जा रहा है। आज लोग प्रायवेट अस्पतालों मेंनही जा रहे, बीमार नहीं पड़ रहे,सड़क दुर्घटनाएं न्यूनतम है। यह स्थिति लम्बे समय तक चलाना भी चुनौती हैं। अगली पीढ़ी के छात्रों ने यह परिवर्तन प्रत्यक्ष देखा है।अतःसमाज जीवन की दृष्टि देने वाली शिक्षा का बोध कराया जा सकता है।आज परिवारों में घरेलू सहायक नही है फिर भी जीवन यथावत चल रहा हैं। स्वयं की श्रम के प्रति निष्ठा का भाव जागृत हुआ है।बड़ें पेकेज की नौकरी मात्र शिक्षा का लक्ष्य नही है। बच्चे अपना काम स्वयं करना सीख गये है। जाॅब सीकर नहीं,जाॅब प्रोवाइडर बनने का भाव बनें । वेबिनार का शुभारंभ क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री भालचन्द्र रावले, श्री हितानंद शर्मा (प्रांतीय संगठनमंत्री, विद्या भारती मध्यभारत प्रांत), श्री देवकीनंदन चैरसिया(क्षेत्रीय प्रशिक्षण प्रमुख) दीप प्रज्जवलन किया। कार्यक्रम का संचालन एवं आभार डाॅ. रामकुमार भावसार द्वारा किया गया। वेबिनार पर प्रांत के सभी प्राचार्य, प्रधानाचार्य एवं पूर्णकालिक कार्यकर्ता आदि उपस्थित रहे।

कोरोना मरीज पूर्ण स्वस्थ उपरांत आज डिस्चार्ज हुई 

vidisha news
विदिशा जिले के ग्राम सनाईरामपुर की 26 वर्षीय महिला 18 मई को अटल बिहारी वाजपेयी शासकीय मेडीकल कॉलेज के कोविड केयर सेन्टर में कोराना पॉजिटिव रिपोर्ट होने के कारण भर्ती किया गया था। महिला का विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण एवं उपचार किया जा रहा था। आज गुरूवार 28 मई को उक्त महिला को चिकित्सकों द्वारा स्वस्थ होने के पश्चात् कोविड केयर सेन्टर से डिस्चार्ज किया गया है तथा महिला को उसके ग्राम भेजा गया है। वर्तमान में महिला पूर्ण रूप से स्वस्थ है उन्हें सात दिन के लिए होम आइसोलेशन किया जाकर प्रतिदिन महिला के स्वास्थ्य की जानकारी ली जाएगी। डिस्चार्ज पश्चात् उक्त महिला कोरोना बीमारी पर विजय प्राप्त कर काफी प्रसन्न एवं खुश नजर आ रही थी। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केसी अहिरवार सहित अन्य ने स्वस्थवर्धक बने रहे की शुभकामनाएं व्यक्त की है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...