वातायन द्वारा आयोजित दो पुस्तकों का लोकार्पण समारोह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 27 जून 2020

वातायन द्वारा आयोजित दो पुस्तकों का लोकार्पण समारोह

book-inugration
वातायन द्वारा आयोजित दो पुस्तकों: डॉ कमल किशोर गोयनका द्वारा सम्पादित पुस्तक, दिव्या माथुर: प्रवासी श्रेष्ठ कहानियां' और  शिखा वार्ष्णेय की पुस्तक, देशी चश्में से लंदन डायरी' के लोकार्पण समारोह के लिए हाउस ऑफ लॉर्ड्स में 11 अप्रैल 2020 का दिन तय था लेकिन लॉकडाउन अप्रत्याशित की घोषणा के कारण इसे स्थगित करना पड़ा। हम इस दुर्भाग्यपूर्ण समय के दौरान साहित्यिक समुदाय के साथ अपनी बातचीत को रोकना नहीं चाहते थे। डॉ पद्मेश गुप्ता ने सुझाव दिया कि हमें ज़ूम पर अपने कार्यक्रमों को जारी रखना चाहिए; बिना किसी देरी के, हमने अपनी पहली लॉकडाउन गोष्ठी 4 अप्रैल 2020 को वेल्स के कवि डॉ निखिल कौशिक के साथ संपन्न की। गोष्ठी बहुत उत्साहवर्धक रही, तब से लेकर आज तक हमने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। वातायन लॉकडाउन गोष्ठियां प्रत्येक शनिवार को शाम के 4 बजे आयोजित की जाती हैं; जिसमें विश्व भर से वक्ता और श्रोता शामिल होते हैं। वातायन हमेशा विविध अंतर्राष्ट्रीय साहित्यिक संघों की सहकार्यता लिए प्रयासरत रहा है और इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए, हम प्रख्यात अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ सैंकड़ो कार्यक्रमों का आयोजन करते आए हैं।  अब हम अंतर्राष्ट्रीय संगठन, वैश्विक हिंदी परिवार, के सहयोग से अंतरराष्ट्रीय लेखकों के जीवन और उपलब्धियों पर आधारित कार्यक्रमों का आयोजन करने जा रहे हैं। इस श्रंखला में हमारा पहला कार्यक्रम इस शनिवार 27 जून 2020 के दिन है जो ब्रिटेन में हिंदी की प्रतिष्ठित लेखिका, स्वर्गीय कीर्ति चौधरी जी, को सम्पर्पित है, जिनकी रचनाएं अज्ञेय द्वारा सम्पादित भारत के प्रमुख कवियों के प्रसिद्ध 'तीसरा सप्तक' संकलन में सम्मिलित हैं; प्रतिष्ठित वक्ता हैं मीरा कौशिक-मिश्रा, OBE; प्रो जीतेन्द्र श्रीवास्तव,  डॉ अचला शर्मा और ममता गुप्ता।   हमारी जूम गोष्ठियों के लिए अब तक अपनी रचनाओं को साझा करने वाले लेखकों में शामिल हैं: मोहन राणा, डॉ. निखिल कौशिक, तीथि दानी, भारतेन्दु विमल, कादम्बरी मेहरा, जय वर्मा, तरुण कुमार, अरुण सभरवाल, शिखा वार्ष्णेय आदि।  ब्रिटिश भारतीय लेखकों की स्मृति में हम एक स्मारक-कार्यक्रम की एक श्रंखला भी आयोजित कर रहे हैं। इस श्रंखला के अंतर्गत 23 मई के दिन अनिल शर्मा जोशी ने स्वर्गीय नरेश भारतीय जी पर और 6 जून को ललित मोहन जोशी, श्री राहुल सचदेव और प्रो (डॉ) शशिप्रभा कुमार, ने स्वर्गीय डॉ गौतम सचदेव जी पर स्मारक-व्याख्यान प्रस्तुत किए।  इस सप्ताहन्त, मीरा कौशिक मिश्रा, OBE, डॉ. अचला शर्मा और ममता गुप्ता स्वर्गीय कीर्ति चौधरी जी की रचनाओं पर आधारित एक कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगी।  आगामी कार्यक्रम हैं: अरुणा अजीतसरिया, एम.बी.ई; स्वर्गीय डॉ नीना पॉल को, उषा राजे सक्सेना / श्री राम कृष्ण जी स्वर्गीय प्राण शर्मा जी को और पद्मेश गुप्त स्वर्गीय डॉ सत्येंद्र श्रीवास्तव जी को अपनी श्रधांजलि अर्पित करेंगे। अंतर्राष्ट्रीय लेखकों के साथ ज़ूम गोष्ठियां का आयोजन लॉकडाउन के समाप्त होने तक चलेगा, उसे बाद हम अपने कार्यक्रमों को पहले की तरह आयोजित कर सकेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: