जमशेदपुर : ऑनलाइन क्लास मामले का हुआ पटाक्षेप, चार किस्तों में अभिभावक भरेंगे फीस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 6 जून 2020

जमशेदपुर : ऑनलाइन क्लास मामले का हुआ पटाक्षेप, चार किस्तों में अभिभावक भरेंगे फीस

ऑनलाइन क्लास से जमशेदपुर एग्रिको स्थित तारापुर स्कूल के दो बच्चों को फीस नहीं दिए जाने के बाद निकाले जाने के मामले का पटाक्षेप हो गया. बता दें कि फीस नहीं जमा करने के कारण एग्रिको स्थित तारापोर स्कूल के दो बच्चों को ऑनलाइन क्लास से हटा दिया गया था.
school-open-jhanjharpur
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता)  ऑनलाइन क्लास से एग्रिको स्थित तारापुर स्कूल के दो बच्चों को फीस नहीं दिए जाने के बाद निकाले जाने के मामले का पटाक्षेप हो गया. इसके साथ ही शिक्षा सत्याग्रह के पूर्व कार्यक्रम के अनुसार भिक्षाटन को रद्द कर दिया गया. बता दें कि फीस नहीं जमा करने के कारण एग्रिको स्थित तारापोर स्कूल के दो बच्चों को ऑनलाइन क्लास से हटा दिया गया था. उसके बाद इस मामले को लेकर शिक्षा सत्याग्रह के अंकित आनंद की ओर से विभाग को लिखित शिकायत दी गई थी और सूबे के मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री सहित डीजीपी से स्कूल मैनेजमेंट के खिलाफ संगत कार्रवाई का आग्रह किया गया था. वहीं, अंकित आनंद की शिकायत पर संज्ञान लेकर झारखंड पुलिस मुख्यालय ने स्कूल के विरुद्ध कार्रवाई के लिए डीसी और एसएसपी को आवश्यक निर्देश दिए थे. , इधर,इस मामले में कार्रवाई से पहले स्कूल प्रबंधन को अपना पक्ष रखने के लिए जिला शिक्षा अधीक्षक ने एक अवसर देते हुए गुरुवार को विभागीय कार्यालय में त्रिपक्षीय वार्ता बुलाया. जिला शिक्षा अधीक्षक विनीत कुमार की अध्यक्षता में आयोजित वार्ता में जेएच तारापुर स्कूल के चेयरमैन बेली बोधनवाला, शिक्षा सत्याग्रह के प्रतिनिधि अप्पू तिवारी, अंकित आनंद और प्रवीण प्रसाद सहित बच्चों के अभिभावक शामिल हुए. अभिभावक ने अपनी वित्तीय स्थिति और स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कहा कि एकमुश्त फीस भुगतान करना उनके लिए मुमकिन नहीं है. उन्होंने कुछ मोहलत की मांग करते हुए बच्चों की पढ़ाई फिर से शुरू करने का निवेदन किया है.  जेएच तारापोर स्कूल के चेयरमैन बेली बोधनवाला ने कहा कि स्कूल प्रबंधन मोहलत देने को तैयार है, लेकिन फीस माफी पर फिलहाल कोई ठोस आश्वासन नहीं दी जा सकती है. अभिभावक की ओर से चार किस्तों में फीस देने की बात कहने के बाद मामला शांत हुआ.

कोई टिप्पणी नहीं: