बिहार की स्थिति बद से बदतर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 8 अगस्त 2020

बिहार की स्थिति बद से बदतर

बिहार में हर 16 वां व्यक्ति पाॅजिटिव हो रहा है। हर रोज इस बीमारी से 14 लोग जान गंवा रहे हैं। कोरोना से मौत का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। पिछले सात दिनों में अब तक 102 लोगों की कोरोना से मौत हुई है। औसत देखें तो हर रोज इस बीमारी से 14 लोग जान गंवा रहे हैं। जुलाई में कोरोना से 230 लोगों की मौत हुई थी। राज्य में अब तक 400 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है.....
covid-worst-in-bihar
पटना। बिहार की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। हर 16 वां व्यक्ति पाॅजिटिव हो जा रहा है।  वैश्विक कोरोना संक्रमितों की संख्या 70 हजार पार कर गया।  तीन दिन में रिकॉर्ड 10 हजार केस बढ़े, संक्रमण दर 50 प्रतिशत कम हुआ। मरने वालों का आंकड़ा 400 के पार हो गया है। देशभर में मिले कुल कोरोना मरीजों का 3.52 प्रतिशत बिहार में रहता है। राज्य का रिकवरी रेट 64.44 प्रतिशत, राष्ट्रीय औसत से 3 प्रतिशत कम है। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने कहा कि बिहार में विगत 24 घंटे में 2408 मरीज हुए स्वस्थ, सूबे में कुल स्वस्थ मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 48673। राज्य में कुल एक्टिव मरीज 26693 है। बिहार में शुक्रवार को कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 70 हजार के पार कर गया। तीन दिन में रिकॉर्ड 10 हजार मरीज बढ़े।  शुरुआती 10 हजार केस आने में 102 दिन लगे थे। इसके बाद कोरोना संक्रमण तेजी से फैला और 20 हजार का आंकड़ा महज 14 दिन में पार कर गया। 30 हजार में 7 दिन, 40 हजार में 5 दिन, 50 हजार में चार दिन, 60 हजार में चार दिन और 70 हजार केस पहुंचने में तीन दिन लगे। बिहार में अब तक 71794 मरीजों की पुष्टि हुई है और 46265 लोग ठीक होकर घर लौट चुके हैं। एक्टिव मरीजों की संख्या 25128 है। राज्य में पहला केस 21 मार्च को सामने आया था। मुंगेर के एक युवक की मौत के बाद उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं लेकिन इस बीच अच्छी बात यह है कि संक्रमण दर लगातार घट रहा है। पिछले दस दिनों की अगर बात करें तो 31 जुलाई को संक्रमण दर 13.12 प्रतिशत पर पहुंच गया था। 7 अगस्त को संक्रमण दर 5.09 प्रतिशत रहा। यानि इंफेक्शन रेट आधा से भी कम हो गया है। बिहार के लिए यह राहत की बात है। तारीख संक्रमण दरः 7 अगस्त को 5.09 प्रतिशत, 6 अगस्त को 5.66 प्रतिशत, 5 अगस्त को 5.20 प्रतिशत, 4 अगस्त को 6.44 प्रतिशत, 3 अगस्त को 6.28 प्रतिशत, 2 अगस्त को 7.75 प्रतिशत, 1 अगस्त को 8.74 प्रतिशत, 31 जुलाई को 13.12 प्रतिशत, 30 जुलाई को 10 प्रतिशत और 29 जुलाई को 13.08 प्रतिशत है। बिहार में हर 16वां शख्स पॉजिटिव हो रहा है। बिहार में पिछले 10 दिनों में सैंपल जांच की संख्या तेजी से बढ़ी है। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने ट्विट कर जानकारी दी कि प्रथम दिन जांच 22,742, दूसरे दिन 28,624, तीसरे दिन 35,619, चैथा दिन 36,524, पांचवा दिन 38,215 छठवा दिन 51,924, सातवां दिन 60,254 अगस्त की बात है। पिछले सात दिनों में 322680 सैंपल की जांच हुई है और 19788 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस हिसाब से हर 16 सैंपल में एक रिपोर्ट पॉजिटिव मिल रहा है। जुलाई में 327282 सैंपल की जांच हुई थी और 40999 केस मिले थे। हर 8वां केस पॉजिटिव मिल रहा था। अप्रैल-मई में हर 50 सैंपल में एक रिपोर्ट पॉजिटिव मिल रहा था। बिहार में पिछले दो हफ्ते में सैंपल जांच की संख्या तो बढ़ी लेकिन अच्छी बात यह है कि उस अनुपात में मरीजों की संख्या नहीं बढ़ी है। शुक्रवार को बिहार में रिकॉर्ड 71 हजार से ज्यादा सैंपल की जांच हुई है।

बिहार सरकार ने पिछले दिनों कुछ पाबंदियों के साथ राज्य में अनलॉक-3 लागू करने का निर्णय लिया। पटना सिटी में जहां लोग नियमों को ताक पर रखकर बाहर निकल रहे हैं। कई लोग न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं और न मास्क पहन रहे हैं।राहत यह है कि 46265 लोग ठीक हुए, लेकिन 40 दिनों में 14 प्रतिशत गिरा रिकवरी रेट, राष्ट्रीय औसत से 3 प्रतिशत कम है। बिहार के लिए राहत की बात है कि 46265 लोग ठीक होकर घर लौट चुके हैं। लेकिन, पिछले 40 दिनों में रिकवरी रेट में 14 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। 28 जून को रिकवरी रेट उच्च स्तर पर था और यह 78.5 प्रतिशत तक पहुंच गया था। इसके बाद धीरे-धीरे रिकवरी रेट गिरने लगा। जुलाई में रिकवरी रेट का ग्राफ ऊपर-नीचे होता रहा। 7 अगस्त को यह गिरकर 64 प्रतिशत पर पहुंच गया। एक वक्त बिहार राष्ट्रीय रिकवरी दर से करीब 18 प्रतिशत ज्यादा था वहीं अब यह तीन फीसदी कम हो गया है। तेजी से बढ़ रहा मौत का ग्राफ, 7 दिन में 102 लोगों ने दम तोड़ा, अब तक 400 की जान चली गई।बिहार में कोरोना से मौत का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। पिछले सात दिनों में अब तक 102 लोगों की कोरोना से मौत हुई है। औसत देखें तो हर रोज इस बीमारी से 14 लोग जान गंवा रहे हैं। जुलाई में कोरोना से 230 लोगों की मौत हुई थी। राज्य में अब तक 400 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है।

कोई टिप्पणी नहीं: