बिहार : बाढ़ पीड़ितों को प्रति दिन काढ़ा उपलब्ध कराने का निर्देश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 6 अगस्त 2020

बिहार : बाढ़ पीड़ितों को प्रति दिन काढ़ा उपलब्ध कराने का निर्देश

जो सत्ता में रहते हैं वे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करते हैं और जो सत्ता से बाहर रहते हैं वे लोग जमीन पर रेंगकर जनता से रू-ब-रू होकर समस्याओं का समाधान करते रहते है....
nitish-order-kadha-for-flood-effected-people
पटना। जो सत्ता में रहते हैं वे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करते हैं और जो सत्ता से बाहर रहते हैं वे लोग जमीन पर रेंगकर जनता से रू-ब-रू होकर समस्याओं का समाधान करते रहते है । इस समय जाप के सुप्रीमो पप्पू यादव जननेता की भूमिका में है। आम लोगों की सवारी का प्रयोग कर बाढ़ पीड़ितों के बीच में छा गये हैं। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दरभंगा के उच्चतर माध्यमिक विघालय मखनाही में स्थापित आपदा राहत शिविर एवं सामुदायिक किचन का निरीक्षण किया। मौके पर आवश्यक निर्देश अधिकारियों को दिये। मुख्यमंत्री ने पुहिया,राजघाट ब्रिज, कोल्हुआघाट ब्रिज, कंकरघाट ब्रिज, बुनियादपुर, मझरिया, बरियाहीघाट ब्रिज, हथौरी ब्रिज, बरछिया, हायाघाट, एकमीघाट तथा बिरनी में तटबंधों का हवाई सर्वेक्षण किया। लगभग डेढ़ घंटे के हवाई सर्वेक्षण के उपरांत मुख्यमंत्री दरभंगा हवाई अड्डे पर उतरे और सीघे उच्चतर माध्यमिक विघालय मखनाही में स्थापित बाढ़ राहत शिविर एवं सामुदायिक किचन के निरीक्षण के लिये चल पड़े। मुख्यमंत्री ने आपदा राहत शिविर में रहने वाले लोगों से बातचीत कर वहां उपलब्ध करायी जा रही व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली।  रसोईघर,चिकित्सकीय सुविधाओं, आवासित कमरों का मुख्यमंत्री ने जायजा लिया। लगे हाथ भोजन की गुणवत्ता का भी जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने वहां के बच्चों के बीच में बिस्कुट भी वितरित किये।उन्होंने कहा कि शिविर में रहने वाले लोगों को अच्छे भोजन एवं आवासन की सुविधा दी गई है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि प्रति दिन शिविर में रहने वालों को काढ़ा भी उपलब्ध कराया जाय। केन्द्र पर निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी दरभंगा त्यागराजन एस.एम.ने बताया कि यहां रहने वाले सभी परिवारों के खाते में 6 हजार रूपये की दर से जी.आर. (ग्रैचुट्स रिलीफ ) की राशि डी.बी.टी. के माध्यम से अंतरित कर दी गयी है। इस केन्द्र पर 15 परिवार आवासित है और 709 लोग प्रतिदिन भोजन कर रहे हैं। टेक होम के माध्यम से अन्य प्रभावित लोगों को भी भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने निर्देश किया कि शिविर में रहने वाले लोगों का एंटीजन टेस्ट और आर.टी.पी.सी.आर.टेस्ट जरूर कराया जाय और लोगों की अच्छी तरह से देखभाल भी की जाय। न्यू बस स्टैंड, दिल्ली मोड़, दरभंगा के पास मुख्यमंत्री ने  निर्माणाधीन भवन के कार्य में लगे लोगों को कहा कि मास्क जरूर पहनें। मुख्यमंत्री ने यहां निःशुल्क मास्क का वितरण भी कराया। उन्होने कहा कि काम करते वक्त भी लोग मास्क का जरूर प्रयोग करें, इससे वो खुद भी सुरक्षित रहेंगे और दूसरों को भी सुरक्षित रख सकेंगे। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी दरभंगा त्यागराजन एस.एम.को दरभंगा एयरपोर्ट की चहारदीवारी को ऊंचा कराने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि यह एयरपोर्ट की सुरक्षा की दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है। शिविर के निरीक्षण के दौरान खाघ एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री मदन सहनी, विधायक संजय सर्राफ सहित अन्य जन प्रतिनिधि, मुख्य सचिव दीपक कुमार आपदा प्रबंधन विभाग सह स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार,जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस, दरभंगा के प्रमंडलीय आयुक्त मयंक बड़बड़े, दरभंगा रेंज के पुलिस महानिरीक्षणक अजिताभ कुमार, जिलाधिकारी त्यागराजन एस.एम. वरीय पुलिस अधिक्षक बाबू राम सहित अन्य वरीय पदाधिकारी मौजूद थे।

दरभंगा में बाढ़ राहत शिविर के निरीक्षण के उपरांत मुख्यमंत्री ने चम्पारण तटबंध एवं गोपालगंज जिले के विभिन्न तटबंधों का लगभग एक घंटे हवाई सर्वेक्षण किया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये।हवाई सर्वेक्षण में मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव दीपक कुमार एवं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार भी थे। जन अधिकार पार्टी लोकतांत्रिक के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने सिरनिया पहुंचकर बाइक की सवारी शुरू की।बांध पर विस्थापित बाढ़ पीड़ितों से मिले और हायाघाट के मुंडा पुल तक पहुंचकर बांध पर रह रहे बाढ़ग्रस्त लोगों को आर्थिक मदद दिए और 2 चापाकल ग्रवाने के लिए अलग से राशि दी।ताकि बाढ़ कारण विस्थापित परिवारों को पीने का पानी मिल सके। ज्ञात हो कि बांध पर विस्थापित परिवार अम्माडिह, सिरनिया, घरारी, अकराहा, नया टोला, के लोग बाढ़ का पानी घर में घुस जाने के कारण रेलवे लाइन पर विस्थापित परिवारों से मिले जिनके साथ पार्टी के जिला अध्यक्ष डॉक्टर मुन्ना खान मौजूद थे। जाप सुप्रीमो पप्पू यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि आप हवा हवाई छोड़ जमीन पर उतरे और सच्चाई को जाने।उन्होंने कहा कि काफी दिनों के बाद बाढ़ देखने क्यों गए?इस बाढ़ में कम से कम दो दर्जन बांध टूटे पर एक एफआईआर तक नहीं किया गया।वहीं फसल नुकसान का आजतक कोई भरपाई नहीं की गयी।उन्होंने स्पष्ट कहा कि सत्ता के साथ विपक्ष भी राजनीति कर रही है।

कोई टिप्पणी नहीं: