सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 अगस्त 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 09 अगस्त

आज 7 की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई
आज 16 व्यक्ति स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज किए गए, वर्तमान में कुल पॉजीटिव एक्टिव व्यक्तियों की संख्या 116
sehore news
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकार डॉक्टर सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि  आज  7 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। जिसमें सीहोर के दांगी स्टेट एवं नेहरु कॉलोनी के 1-1 व्यक्ति, रेहटी अन्तर्गत ग्राम पांगरा के 2 व्यक्ति, आष्टा के बुधवारा एवं बिस्तारिया पुरा से 1-1 व्यक्ति तथा श्यामपुर अन्तर्गत ग्राम कचनारिया का 1 व्यक्ति शामिल है। जिले में वर्तमान में पॉजीटिव /एक्टिव व्यक्तियों की संख्या 116  है। आज 16 व्यक्तियों को कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज किया गया है। डिस्चार्ज किए गए व्यक्तियों में सीहोर शहरी क्षेत्र से 7 व्यक्ति, इछावर के 3, आष्टा से 1 तथा नसरुल्लागंज क्षेत्र के 5 व्यक्ति शामिल हैं। जिले में अब तक 242 व्यक्तियों को स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया है। जिले में अब तक 12 कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की मृत्यु हो चुकी  है। आज 84 व्यक्तियों के  सैम्पल कोरोना जांच हेतु लिए गए है। जिसमें  बुदनी के 12 तथा सीहोर के 11, श्यामपुर के 24, आष्टा के 37 सैम्पल शामिल है। आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है। सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम., आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 370 है जिसमें से 12 की मृत्यु हो चुकी है 242 स्वस्थ्‍ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में 116 पॉजीटिव व्यक्तियों का उपचार चल रहा है। आज कुल 84 सैंपल जांच हेतु लिए गए। जिले से अब तक कुल 5552 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 4714 सेंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। आज 129 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 439 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 29 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर.7247704181 है कोविड.19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104  नंबर पर ई.परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई.संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्ट्रेट कार्यालय सीहोर में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562.226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है।

जिले में अब तक 514.7 मि.मी. औसत वर्षा

जिले में आज 09 अगस्त, 2020 की प्रात:8 बजे समाप्त पिछले चौबीस घन्टों में 2.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसे मिलाकर 1 जून से अभी तक जिले में 514.7 मि.मी औसत बारिश रिकार्ड की जा चुकी है जबकि गत वर्ष इस अवधि में 783.4 मि.मी बारिश रिकार्ड की गई थी। अधीक्षक, भू-अभिलेख से मिली जानकारी के अनुसार पिछले चौबीस घन्टों में आष्टा में 4, इछावर में 2, नसरुल्लागंज में 4, बुदनी में 6 एवं रेहटी में 2.8 मिमी बारिश दर्ज की गई है। आंकड़ों के मुताबिक जिले में अभी तक सीहोर में 484.5, श्यामपुर में 326, आष्टा में 524.6, जावर में 426, इछावर में 376, नसरुल्लागंज में 565, बुदनी में 554 एवं रेहटी में 861.2 मिमी बारिश दर्ज की गई है। गत वर्ष इस अवधि में सीहोर में 966, श्यामपुर में 728, आष्टा में 847, जावर में 516, इछावर में 795, नसरुल्लागंज में 932, बुधनी में 669 रेहटी में 813 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी।

आईटीआई प्रवेश में रजिस्ट्रेशन और चॉइस फिलिंग अब 14 अगस्त तक होगी

अगस्त 2020 से प्रारंभ नए शैक्षणिक सत्र में शासकीय एवं निजी आईटीआई में प्रवेश की ऑनलाइन प्रक्रिया 1 जुलाई से प्रारंभ है। पूर्व में आईटीआई प्रवेश की अंतिम तिथि 31 जुलाई निर्धारित की गई थी जिसे अब बढ़ाकर 14 अगस्त किया गया है। नए सत्र में शासकीय अथवा प्राइवेट आईटीआई में प्रवेश के लिए अभ्यार्थियों को रजिस्ट्रेशन और च्वॉइस फिलिंग करना अनिवार्य होगा। अब तक लगभग 61 हजार 499 रजिस्ट्रेशन तथा 55 हजार 755 अभ्यार्थियों ने च्वॉइस फिलिंग की है। इस सत्र में अन्य राज्यों के आवेदकों के प्रवेश की व्यवस्था निर्धारित की गई है। एमपी ऑनलाइन में रजिस्ट्रेशन तथा त्रुटि सुधार एवं इच्छित संस्थाओं में व्यवस्थाओं की प्राथमिकता के क्रम का विकल्प तथा च्वॉइस फिलिंग में त्रुटि सुधार के लिए पोर्टल पर व्यवस्था निर्धारित की गई है। इस सत्र में आवेदक 100 विकल्प भर सकते हैं। प्रवेश की कार्यवाही मेरिट अनुसार निर्धारित है। चयनित अभ्यर्थी जिसे उसका प्रथम विकल्प आवंटित हुआ है यदि वह प्रवेश नहीं लेता है तो उसका प्रवेश निरस्त हो जाएगा तथा वह आगे की काउंसलिंग के लिए पात्र नहीं होगा। प्रदेश में 243 शासकीय तथा 900 प्राइवेट कुल 1200 आईटीआई है। शासन द्वारा शासकीय आईटीआई में 3 वर्षों से ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया लागू है। शासकीय आईटीआई में पिछले वर्ष से यह व्यवस्था लागू की गई है। प्रवेश विवरण तथा अन्य जानकारी www.dsd.mp.gov.in,itimponline.gov.in पर उपलब्ध है।

आरजीपीवी का टेकयूप कैलेंडर जारी

राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुनील कुमार द्वारा तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम टेकयूप (TEQIP) के अंतर्गत आगामी शैक्षणिक सत्र में आयोजित होने वाली गतिविधियों के कैलेंडर का ऑनलाइन विमोचन किया गया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय एवं संबद्ध संस्थानों के संचालक, प्राचार्य, प्राध्यापक एवं अधिकारी उपस्थित थे। कुलपति प्रो. सुनील कुमार ने कहा कि तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम के अंतर्गत आरजीपीवी पूरे देश भर के तकनीकी विश्वविद्यालयों में सर्वाधिक शैक्षणिक गतिविधि आयोजित करता है। टेकयूप के माध्यम से विश्वविद्यालय एवं संबद्ध संस्थाओं के छात्रों, प्राध्यापकों एवं शोधार्थियों को कार्यशाला, सेमिनार एवं शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्यम से एनआईटी, आईआईटी, आईआईएम के विषय विशेषज्ञों के अलावा उद्योग जगत के विशेषज्ञों का मार्गदर्शन भी प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि यह शोध एवं अनुसंधान तथा विषय में निपुणता के लिए अत्यंत उपयोगी होता है कोविड-19 की परिस्थितियों में विश्वविद्यालय के सभी घटको का वर्षभर की गतिविधियों की पूर्व से जानकारी हो जिससे वे समय पर ऑनलाइन पंजीयन द्वारा गतिविधियों में भाग ले सकेंगे। साथ ही तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम की एक ही समय में चलने वाली एक से अधिक गतिविधियों को अपने मोबाइल, लैपटॉप अथवा डेस्कटॉप पर जहाँ हैं वहीं से देख सकेंगे। तकनीकी शिक्षा गुणवत्ता सुधार कार्यक्रम के संयोजक प्रो. एस.सी. चौबे ने कहा कि कोविड-19 के समय शिक्षण को ऑनलाइन करने का अधिगम यह कैलेंडर है। विश्वविद्यालय एवं संबद्ध संस्थाओं के प्राध्यापक, शोधार्थी एवं छात्र इस लिंक के माध्यम से आरजीपीवी पोर्टल से एक्सेस कर सकेंगे, जीमेल के उपयोगकर्ता इसे गूगल लिंक के माध्यम से सीधे कैलेंडर से लिंक हो सकेंगे। 

डेयरी, मांस प्रसंस्करण और पशु आहार संयंत्र स्थापित करने के लिये मिलेगा ऋण केन्द्र शासन ने जारी किये दिशा-निर्देश

आत्मनिर्भर योजना के तहत डेयरी, मांस प्रसंस्करण और पशु आहार संयंत्र स्थापित करने के लिये बैंक ऋण उपलब्ध कराया जायेगा। न्यूनतम 10 से 25 प्रतिशत मार्जिन मनी हितग्राही को देनी होगी। शेष 90 से 75 प्रतिशत बैंक ऋण होगा। हितग्राही को 3 प्रतिशत ब्याज सबवेंशन मिलेगा। किसान उत्पादक संगठन, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग, निजी कम्पनियाँ और व्यक्तिगत उद्यमी आदि योजना का लाभ उठा सकते हैं। इच्छुक व्यक्ति सिडबी के पोर्टल ष्उद्यमी मित्रष् पर आवेदन दे सकते हैं। केन्द्रीय पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय द्वारा ष्एनीमल हसबेण्डरी इन्फ्रास्ट्रक्चर डेव्हलपमेंट फण्डष् के तहत राज्यों को दिशा-निर्देश जारी कर दिये गये हैं। अपर मुख्य सचिव पशुपालन श्री जे.एन.कंसोटिया ने बताया कि योजना का मुख्य उद्देश्य डेयरी प्रसंस्करण और मांस प्रसंस्करण की सुविधा उपलब्ध कराना है। इससे घरेलू बाजार में गुणवत्तापूर्ण दूध और मांस की उपलब्धता के साथ उत्पादकों को अच्छा बाजार मिलने से आय में वृद्धि होगी। योजना में पशुपालकों को पशुओं के लिये उच्चगुणवत्ता वाला पशु आहार भी उचित दामों पर उपलब्ध कराया जायेगा। श्री कंसोटिया ने कहा कि केन्द्र शासन द्वारा 750 करोड़ रुपये की क्रेडिट गारंटी फण्ड की स्थापना की जायेगी, जिसका प्रबंधन नार्बाड करेगा। क्रेडिट गारंटी फण्ड केवल उन्हीं परियोजनाओं को दिया जायेगा जो व्यवहारी होंगी। पात्र हितग्राही को ऋण सुविधा का अधिकतम 25 प्रतिशत कव्हरेज मिलेगा। फण्ड की कुल राशि 15 हजार करोड़ का वितरण 3 वर्ष की अवधि में अनुसूचित बैंकों द्वारा किया जायेगा। प्रसंस्करण स्थापित करने के इच्छुक हितग्राहियों को बैंक में आवेदन देने के पहले आवश्यक भूमि की व्यवस्था करनी होगी। परियोजना प्रस्ताव में दूध, मांस और पशु आहार के लिये गुणवत्ता प्रबंधन इकाई की स्थापना, पैंकेजिंग इकाई और उत्पाद के प्रचार का उल्लेख जरूरी होगा। आवश्यक होने पर हितग्राही सिडबी (भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक) के ष्उद्यमी मित्रष् पोर्टल पर उपलब्ध एजेंसियों से परामर्श भी ले सकेंगे। हितग्राही सिडबी के उद्यमी मित्र पोर्टल के माध्यम से परियोजना प्रस्ताव प्रस्तुत करेंगे। हितग्राही तीन प्रतिशत ब्याज सबवेंशन के लिये अनुसूचित बैंक परियोजना प्रस्ताव केन्द्रीय पशुपालन एवं डेयरी विभाग को ऑनलाइन भेजेंगे। केन्द्र शासन द्वारा गठित प्रोजेक्ट सेंक्शन और प्रोजेक्ट एप्रुवल कमेटी निर्धारित मापदंडों के अनुसार ब्याज सबवेंशन और क्रेडिट गारंटी की स्वीकृति देगी। 50 करोड़ रुपये तक के प्रस्ताव प्रोजेक्ट एप्रुवल कमेटी और 50 करोड़ से अधिक के प्रस्ताव प्रोजेक्ट सेंक्शन कमेटी मंजूर करेगी।

कोई टिप्पणी नहीं: