मधुबनी : कन्हैया मामले को लेकर शकील ने गुप्तेश्वर पांडे से फोन पर की बात - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 10 अगस्त 2020

मधुबनी : कन्हैया मामले को लेकर शकील ने गुप्तेश्वर पांडे से फोन पर की बात

shakil-ahmad-talk-with-gupteshwar-pandey
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता)  देश के पूर्व गृह राज्य मंत्री डॉक्टर शकील अहमद ने बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे से फोन पर बात की।उन्होंने डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे से कहा  कौशिक की हत्या 10 मार्च 2020 को होली की रात पटना के पटेल नगर में कर दी गई थी कन्हैया मूल रूप से मधुबनी जिला के रहिका प्रखंड अंतर्गत ककरोला गांव का निवासी था वह पटना में रहकर पढ़ाई करता था और पटना एन कॉलेज छात्र संघ उपाध्यक्ष था वह छात्र जदयू से भी जुड़ा हुआ था।कन्हैया होनहार छात्र था वह छात्र राजनीति से भी जुड़ा था लेकिन हत्या  के 5 महीने बाद भी अब तक मुख्य आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं हुई हैं जो काफी चिंतनीय हैं। कृपया इस मामले पर जल्द से जल्द संज्ञान लिया जाए जिससे पीड़ित परिवार को न्याय मिल सकें कन्हैया की मां काफी निराश हो गई है उन्होंने यहां तक कहा है कि मुझे न्याय नहीं मिलेगा तो मैं सीएम आवास के सामने आत्मदाह कर लूंगी।कन्हैया एक गरीब परिवार से था उनका परिवार उनके ऊपर भरोसा किया था कि आगे चलकर कन्हैया की घर को रोशन करेगा लेकिन घर का चिराग ही बुझ गया। जिसके बाद डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि हम आज ही इस मामले की समीक्षा करते हैं मुझे पता है कि कन्हैया एन कॉलेज का छात्र था मुझे इस मुकदमे का एफ आई आर नंबर भी याद है हम जल्द से जल्द इस मामले में कार्रवाई करेंगे डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे से मिले आश्वासन के बाद डॉक्टर शकील अहमद ने अपने अधिकारी टि्वटर हैंडल से ट्वीट कर कन्हैया के लिए इंसाफ की मांग बिहार सरकार और गुप्तेश्वर पांडे से की हैं।उन्होंने आगे कहा कि हम काफी दुखी हैं कन्हैया हमारा पारिवारिक सदस्य था हम कन्हैया को न्याय दिलाने की मुहिम में पूरी तरह परिवार के साथ हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: