विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 07 अगस्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 07 अगस्त

हर रोज तीन सौ से अधिक सेम्पल ले एमएमयू टीम 

vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने शुक्रवार को नोडल अधिकारियों की बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार को निर्देश दिए है कि जिले में कोरोना वायरस कोविड 19 के हर रोज कम से कम तीन सौ सेम्पल एमएमयू टीमें लें। ततसंबंध में प्रत्येक टीम के लिए कम से कम 15 सेम्पल का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।  कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि फीवर क्लीनिक में आने वाले सर्दी, जुकाम मरीजो का भी सेम्पल लिया जाए। इसके अलावा किल कोरोना अभियान द्वितीय के तहत डोर टू डोर सर्वे कार्या को सम्पादित करने वाले सर्वे अमले से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर सेम्पलिंग कार्य किया जाए। उन्होंने पॉजिटिव चिन्हित मरीजो की कांटेक्ट सूची में शामिल व्यक्तियों में लक्षण परलिक्षित होने पर निर्धारित समयावधि उपरांत ही सेम्पल लेने का कार्य किया जाए।  कलेक्टर डॉ जैन ने समस्त कोविड केयर सेन्टरों में भर्ती मरीजो की डाइट पर विशेष देने के निर्देश संबंधित नोडल अधिकारियों को दिए है। उन्होने कहा कि भोजन पूर्ण स्वच्छ, पौष्टिकतायुक्त हो जिसमें तैलीय मात्रा कम हो। उन्होंने भुने व अंकुरित चने देने पर विशेष बल देते हुए कहा कि जूस के पैकेट तथा बिना कटा हुआ फल, वार्डो में भण्डारित कराया जाए ताकि स्वेच्छानुसार मरीज जब चाहे तब सेवन कर सकें।  कलेक्टर डॉ जैन ने कंटेनमेट जोनो में निर्धारित गाइड लाइन का पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन में बार-बार नियमों का उल्लघंन करने वालो के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की कार्यवाही की जाए। संबंधित नोडल अधिकारी को कलेक्टर ने निर्देश दिए है कि जो भी अव्यवस्था पाई जाती है का पालन प्रतिवेदन अपर कलेक्टर को प्रस्तुत करें ताकि संबंधितों पर कार्यवाही सुनिश्चित की जा सकें।  कलेक्टर डॉ जैन ने श्रीमंत माधवराव जिला चिकित्सालय की तीसरी मंजिल पर संचालित हो रहे व्हीसीएचसी कक्ष के लिए किए गए प्रबंधो की भी समीक्षा की है। उन्होंने वेटिलेटरों की उपलब्ध संख्या के संबंध में सिविल सर्जन से जानकारी प्राप्त की। वही अटल बिहारी बाजपेयी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय में भण्डारित वेटिलेटरों को कोरोना गहन कक्ष में स्थापित कराने के निर्देश दिए है। ततसंबंध में चिकित्सा महाविद्यालय के एमडी डॉ प्रशांत बाडगबालकर ने वस्तुस्थिति से अवगत कराया।  कलेक्टर डॉ जैन ने निर्देश दिए है कि सभी कोविड केयर सेन्टरों में लॉड्री की व्यवस्था सुनिश्चित हो ताकि आवश्यक धुलाई संबंधी कार्य समय सीमा में पूरे हो सकें।

अनुविभाग स्तर पर एसडीएम उत्तरदायी होंगे 

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने आज वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से अनुविभाग स्तर पर कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण को रोकने, सेम्पल लेने, कंटेनमेंट जोन में व्यवस्था बनाए रखने तथा चिन्हित मरीजो को कोविड केयर सेन्टर में उपचार के अलावा अन्य आवश्यक बुनियादी आवश्कताओं की पूर्ति इत्यादि की समीक्षा की। कलेक्टर ने पूर्व उल्लेखित व्यवस्थाओ के लिए संबंधित क्षेत्र में अनुविभाग स्तर पर एसडीएम उत्तरदायी होंगे के निर्देश दिए है।  कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि शासन द्वारा जिले को कोरोना वायरस कोविड 19 के कम से कम तीन सौ सेम्पल हर रोज लेने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अतः अनुविभाग स्तर पर शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के लिए गठित एमएमयू टीम के कार्यो पर एसडीएम सतत निगरानी रखें। उन्होंने हर रोज स्वास्थ्य कार्यो की समीक्षा बैठक स्थानीय स्तर पर आयोजित कर सार संक्षेपों की जानकारियां जिला स्तर पर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है।  कलेक्टर डॉ जैन ने एमएमयू टीम के द्वारा लिए गए सेम्पलो की जानकारी पोर्टल पर अनिवार्यतः दर्ज कराई जाए। उन्होंने सार्थक एवं आरोग्य सेतु पर अविलम्ब दर्ज की जाए। प्रत्येक एमएमयू टीम के लिए पृथक-पृथक लक्ष्य निर्धारित करने के निर्देश दिए गए है। इसी प्रकार कंटेनमेंट जोन हेतु जारी गाइड लाइन का पालन कराया जाना सुनिश्चित हो। कोविड केयर सेन्टरों में किए जाने वाले प्रबंधो के संबंध में भी कलेक्टर द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए है और उनका क्रियान्वयन संबंधितों को समय सीमा में करने की हिदायत दी गई है। एनआईसी के व्हीसी कक्ष में जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल, अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार, डीआईओ श्री एमएल अहिरवार, ई गवर्नेंस के जिला प्रबंधक श्री निजामुद्दीन शेख कक्ष में मौजूद थे।

होम कोरोन्टाइन का उल्लंघन करने वालो के खिलाफ कार्यवाही

कोविड 19 के संदिग्ध प्रकरणों को होम कोरोन्टाइन कर अण्डरटेकिंग लिया जाना है। होम कोरोन्टाइन आदेश का उल्लंघन करने वालो के विरूद्व कार्यवाही करने के निर्देश स्वास्थ्य सेवाएं के आयुक्त श्री फैज अहमद किदवई के द्वारा जारी किए गए है।  जारी आदेश में उल्लेख है कि संबंधित व्यक्ति द्वारा होम कोरोन्टाइन नियमों का पालन नही करने के कारण अन्य लोगो को संक्रमित होने का खतरा बना रहता है। इस हेतु संबंधित के विरूद्व कार्यवाही करने के अधिकार मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ अधिनियम 1949, मध्यप्रदेश एपीडेमिक डिजीज कोविड 19 विनिमय अधिनियम 2005 के अंतर्गत प्रदत्त किए गए है।  स्वास्थ्य विभाग के आयुक्त द्वारा समस्त कलेक्टरों को पत्र प्रेषित कर होम कोरोन्टाइन आदेश का उल्लघ्ांन करने वालो के विरूद्व पूर्व उल्लेखित अधिनियमों के तहत कार्यवाही कर अवगत कराने के निर्देश दिए है। होम कोरोन्टाइन अधिकारों का उपयोग करने हेतु संबंधित व्यक्ति से संलग्न प्रारूप में अंडरटेकिंग अनिवार्यतः ली जाए। होम कोरोन्टाइन नियमों का प्रथम उल्लघंन किए जाने पर संबंधित व्यक्ति पर दो हजार रूपए का अर्थदण्ड लगाया जाना एवं पुनः उल्लघंन किए जाने पर उस व्यक्ति को कोरोन्टाइन सेन्टर, सीसीसी केन्द्र पर भेजा जाना सुनिश्चित करें। 

मजिस्ट्रियल जांच के आदेश 

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ पंकज जैन ने विद्युत लाइन सुधारने खंभे पर चढे़ युवक की गिरने से मौत हो जाने की खबर अखबार में प्रकाशित होने के उपरांत घटित घटना के कारणों की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश जारी कर दिए है। बासौदा उपखण्ड मजिस्ट्रेट श्रीमती अंजली शाह को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है। जांच अधिकारी श्रीमती अंजली शाह द्वारा चार बिन्दुओं पर जांच सम्पादित की जाएगी उनमें मृतक श्री रामलाल प्रजापति पुत्र श्री भुजबल किसके आदेश से उक्त लाइन का सुधार कार्य कर रहा था। क्या मृतक श्री रामलाल प्रजापति को नियमानुसार लाइन सुधार हेतु परमिट जारी किया गया था। क्या घटना के समय मृतक श्री रामलाल द्वारा सुरक्षा उपकरणों पहने गए थे।  लाइन सुधार कार्य हेतु परमिट जारी होने के उपरांत भी विद्युत आपूर्ति कैसे प्रारंभ हुई। उक्त समस्त घटना क्रम में लाइनमैन श्री बलवीर सिंह क्या भूमिका रही। किन अधिकारी, कर्मचारियों द्वारा अपने दायित्वों का निर्वहन नही किया। जिसके फलस्वरूप उक्त घटना घटित हुई। घटित घटना के लिए कौन-कौन अधिकारी, कर्मचारी उत्तरदायी है।  मृतक रामलाल प्रजापति की मृत्यु उपरांत संबंधित विभाग द्वारा क्या-क्या कार्यवाही संपादित की गई? घटना के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों के विरूद्व विभाग द्वारा क्या-क्या कार्यवाही संपादित की गई है?  भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो इस संबंध में सुझाव एवं पूर्व उल्लेखित बिन्दुओं पर जांच प्रतिवेदन 15 दिवस में अनिवार्यतः प्रस्तुत करने के निर्देश जांच अधिकारी को दिए गए है। 

जिले में अब तक 531.6 मिमी औसत वर्षा दर्ज

जिले में अब तक 531.6 मिमी औसत वर्षा दर्ज हुई है कि जानकारी देते हुए अधीक्षक भू-अभिलेख ने बताया कि सात अगस्त को 5.3 मिमी औसत वर्षा दर्ज हुई है। गौरतलब हो कि गतवर्ष उक्त अवधि में 458.4 मिमी वर्षा दर्ज हुई थी।  तहसीलों में स्थापित वर्षामापी यंत्रो पर सात अगस्त को दर्ज वर्षा की जानकारी तदानुसार विदिशा में बासौदा में 3.4 मिमी, कुरवाई में पांच मिमी, सिरोज में 10 मिमी, लटेरी में 24 मिमी वर्षा दर्ज की गई है। शेष अन्य तहसीलों में वर्षा नगण्य रही। 

कोई टिप्पणी नहीं: