बिहार : चकाई-सोनो के लोगों के व्यक्तित्व की ऊंचाई को बयां करता है : सुमित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 सितंबर 2020

बिहार : चकाई-सोनो के लोगों के व्यक्तित्व की ऊंचाई को बयां करता है : सुमित

chakai-mla-sumit
चकाई। आसन्न बिहार विधानसभा में जदयू को बहुत फायदा मिलने जा रहा है। पूर्व कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह एवं चकाई के पूर्व विधायक सुमित कुमार सिंह जदयू में घर वापसी कर चुके हैं। इसके कारण समर्थकों में भारी उत्साह है। बीस सूत्री अध्यक्ष राजीव रंजन पांडेय का मानना है कि पूर्व मंत्री नरेन्द्र सिंह की जदयू में वापसी से जमुई में पार्टी मजबूत हुई है। इसका फायदा विधानसभा में राजग को मिलेगा।नरेंद्र सिंह के पार्टी में नहीं रहने से जमुई, लखीसराय, बांका, भागलपुर, शेखपुरा, मुंगेर के लाखों कार्यकर्ता स्वयं को उपेक्षित व असहज महसूस कर रहे थे। चकाई के पूर्व विधायक सुमित कुमार सिंह ने कहा कि मेरे पास शब्द नहीं हैं, मैं इनके स्नेह का क्या बखान करूं! पांच वर्ष से मैं चकाई विधानसभा क्षेत्र का विधायक नहीं हूं। पांच वर्ष पूर्व की मेरी कृति, मेरी उपलब्धियां, विगत पांच वर्षों में सुख-दुःख में सदैव मौजूदगी और निजी तौर हर जन समस्या का निदान निकालने को शिद्दत से प्रयत्न एवं मन-प्राण से सब कुछ उत्सर्ग करने की मेरी दिली ख्वाहिश बस इतना ही मेरे दामन में है, जिसके लिए ऐसा निःस्वार्थ प्रेमानुराग यह सब मुझ पर न्योछावर कर रहे हैं। यह चकाई-सोनो के लोगों के व्यक्तित्व की ऊंचाई एवं दिल की गहराई को बयां करता है। वह निर्दोष, निश्छल हैं। भोले बाबा के धाम के पड़ोसी हैं, उनकी तरह ही भोले हैं। कभी-कभी उन्हें ठगने की कोशिश बरसाती बेंग करते हैं, लेकिन दशकों के अपनेपन का जो रिश्ता है उसे कौन हिला सकता है। यहां के हर नागरिक अटल हैं, अटूट हैं। उनके ही दृढ़ भाव ने मुझे भी दृढ़ बना दिया है, इस जीवन में हर क्षण बस चकाई-सोनो प्रखंडवासियों को समर्पित है। सरौन के साथियों आपको दिल से नमन!



चकाई के सरौन बाजार में आयोजित नुक्कड़ सभा में शामिल हुआ।इससे पूर्व साथियों ने बड़े उच्छल अनुराग से सरौन पंचायत की सीमा पर भव्य स्वागत किया और वहां से युवा साथियों की विशेष सदिच्छा का सम्मान करते हुए सैंकड़ों दोपहिया वाहन के साथ पूरे सरौन बाजार के साथ-साथ पूरे सरौन पंचायत में रोड शो में शामिल हुआ।मौके पर ओमप्रकाश साह जी, मुन्ना वर्णवाल जी, मोहम्मद मुमताज जी, इन्द्रदेव वर्णवाल जी, छोटू चौधरी जी, रामकिशुन वर्मा जी, मिथलेश राय जी, सदानंद राय जी, जदयू प्रखंड अध्यक्ष राजीव रंजन पांडेय जी, जदयू नेता रंजीत राय जी, डॉ विजय वर्णवाल जी, दिवाकर राय, नीलेश चौधरी जी, मुरारी चौधरी जी सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। हिमेंद्र मिश्रा ने कहा है कि जन समस्याओं से रूबरू हो उसका निराकरण करना जिस नेता की आकांक्षा होती है उनकी जीत सुनिश्चित है। मनीष कुमार सिंह का मानना है कि जन नेता बनने के लिए दिन रात मेहनत करनी पड़ती है, लोगों के दिल मे जगह बनानी पड़ती है। तस्वीर बहुत कुछ कह रही है। आपको शुभकामनाएं । मुझे एक बात का हमेशा सुकून रहा है कि सोनो-चकाई प्रखंड के तमाम लोगों का स्नेह, आशीष, समर्थन सदैव मिलता रहा है।बेमिसाल कवि शिवमंगल सिंह सुमन जी की वह कविता याद आती है कि -- हार में क्‍या जीत में, किंचित नहीं भयभीत मैं संघर्ष पथ पर जो मिले यह भी सही वह भी सही। हालांकि, इस कविता से थोड़ा अंतर है कि हार हो या, जीत, मुझे चकाई-सोनो में जो स्नेहाशीष मिलता रहा है। वह अतुलनीय है, अनुपम है, अपरिमेय है। यही मेरी जनभक्ति से मिली शक्ति है। यहां के जन-जन मेरे लिए हमारे तन-मन-धन से बढ़कर हैं। चकाई विधानसभा क्षेत्र के लिए जो मेरा ख्वाब है, मेरी दृष्टि है, मेरी वृहद योजना है और अब तक जो मैं कर पाया हूं, उसका ही परिणाम मुझे जनता जनार्दन की इस स्नेहकृपा के रूप में मिलता है। सोनो प्रखंड अंतर्गत लोहा पंचायत के धवठिया ग्राम में आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में शामिल हुआ तो वहां मौजूद लोगों का स्नेहानुराग, उत्साह, उमंग मुझे स्पष्ट परिलक्षित हो रहा था कि एक जीवन क्या, कई जीवन इनके लिए उत्सर्ग कर दूं तो इनके स्नेह ऋण से उऋण नहीं हो पाऊंगा। तस्वीरों में भी साफ-साफ दिख रहा है मां-बहनों का, युवा साथियों का, बुजुर्ग अभिभावकों का उच्छल निःस्वार्थ अनुराग। मौके पर  श्यामदेव मंडल जी, मनोज मंडल जी, जयनाथ मंडल जी, मिथलेश मंडल जी, घनश्याम मंडल जी, गोरेलाल मंडल जी सहित बड़ी संख्या में मां-बहनें, बड़े बजुर्ग, युवा साथी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: