बिहार : डीआईजी के हाथों सम्मानित कांस्टेबल अशोक - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 9 सितंबर 2020

बिहार : डीआईजी के हाथों सम्मानित कांस्टेबल अशोक

डीआईजी के हाथों सम्मान पाने वाले कांस्टेबल अशोक कुमार मधेपुरा जिला पुलिस के सिपाही हैं, जिनकी प्रतिनियुक्ति फिलहाल पटना ट्रैफिक पुलिस में है. विकास वैभव के इस कार्य की सोशल मीडिया में भी काफी प्रशंसा हो रही है.....
constable-honored-bihar
पटना. मंगलवार को पटना में पुलिसिंग (Bihar Police) की एक अनोखी तस्वीर देखने को मिली. यहां बारिश होने के बावजूद अपनी ड्यूटी पर मुस्तैद एक जवान को DIG ने खुद गाड़ी रोक कर पुरस्कृत किया और उनकी जमकर सराहना की. दरअसल, मंगलवार को शहर में दोपहर बाद जोरदार बारिश हुई थी. बारिश को लेकर ट्रैफिक भी काफी स्लो हो गया था, लेकिन लोगों को कोई परेशानी न हो इसके लिए ट्रैफिक पुलिस का जवान बारिश में भीगकर भी अपनी ड्यूटी करता रहा.



मामला पटना के अनीसाबाद गोलंबर का है, जहां सिपाही अशोक कुमार पूरी तन्मयता के साथ अपनी ड्यूटी कर रहे थे. पुलिसवाले को न तो खुद के भीगने का डर था और न ही तबियत खराब होने की कोई चिंता. इसी दौरान इलाके से बिहार के सीनियर आईपीएस अधिकारी विकास वैभव (जो कि वर्तमान में बिहार एटीएस के डीआईजी हैं) की गाड़ी गुजर रही थी. इसी दौरान विकास वैभव की नजर बारिश में भीग कर भी ड्यूटी कर रहे जवान पर पड़ी तो उन्होंने गाड़ी रोकी और अपने अंगरक्षकों को भेजकर अशोक को बुलवाया.उन्‍हें देखकर डीआईजी विकास वैभव न सिर्फ खुश हुए, बल्कि सिपाही का हौसला भी बढ़ाया. विकास वैभव ने न केवल सिपाही के काम करने के तरीके को सराहा बल्कि उन्‍हें 2500 रुपये कैश रिवार्ड दिया और फिर उनका नाम-पता पूछा. डीआईजी ने इस सिपाही को प्रशस्ति पत्र भी दिया. विकास वैभव ने इस घटना को अपने इंस्टाग्राम पर भी पोस्ट किया है. डीआईजी के हाथों सम्मान पाने वाले कांस्टेबल अशोक कुमार मधेपुरा जिला पुलिस के सिपाही हैं, जिनकी प्रतिनियुक्ति फिलहाल पटना ट्रैफिक पुलिस में है. विकास वैभव के इस कार्य की सोशल मीडिया में भी काफी प्रशंसा हो रही है.

कोई टिप्पणी नहीं: