दरभंगा : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के क्रय विक्रय समिति की बैठक संपन्न - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 सितंबर 2020

दरभंगा : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के क्रय विक्रय समिति की बैठक संपन्न

lnmu-sell-purchase-committee-meeting
दरभंगा : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय (लनामिवि) क्रय विक्रय समिति की बैठक आज ऑनलाइन कुलपति प्रोफेसर राजेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में मुख्य रूप से छात्रों के नामांकन की प्रक्रिया के संबंध में विचार विमर्श हुआ,। बैठक में उपस्थित वित्त पदाधिकारी ने बैठक के संबंध में विस्तार से अपना प्रस्ताव रखा। माननीय सदस्य प्रोफेसर विनोद कुमार चौधरी ने नामांकन में हो रहे विलंब पर चिंता व्यक्त की तथा कहा कि बाढ़ एवं कोरोनावायरस के कारण जितना विलंब होना था वह तो हो चुका अब तो तुरंत नामांकन की प्रक्रिया शुरू होनी चाहिए। सदस्य डॉक्टर अजीत कुमार चौधरी ने समिति की बैठक में वित्तीय सलाहकार की अनुपस्थिति पर चर्चा की तथा जिस एजेंसी को नामांकन संबंधी धार देने की बात कही गई है उसके संबंध में जानकारी प्राप्त की। कुलपति प्रोफेसर सिंह ने कहा कि वित्तीय परामर्शीसे संचिका भेज कर उनकी भी राय ले ली जाएगी उल्लेखनीय है कि इस बैठक में इन्फो लिंक कंसल्टेंसी सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड को नामांकन प्रक्रिया शुरू करने का भार देने का निर्णय लिया गया। वित्त पदाधिकारी ने कहा कि पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय एवं पूर्णिया विश्वविद्यालय दोनों का नामांकन से परीक्षा फल निकालने तक का काम इसी एजेंसी को दिया गया है लेकिन मिथिला विश्वविद्यालय अभी सिर्फ नामांकन का काम ही इस एजेंसी को दे रही है बाकी राजभवन से आदेश मिलने के बाद फिर से आगे की कार्रवाई होगी। 

कुलसचिव निशीथ राय ने बैठक में इस संबंध में विस्तार से चर्चा की तथा कहा कि वित  समिति से भी इस संबंध में निर्णय हो चुका है। वित्त समिति के नहीं रहने की बात सदस्यों ने उठाई। बैठक में पूर्व विधान पार्षद प्रोफेसर चौधरी ने विश्वविद्यालय में चल रहे गतिरोध को शीघ्र से शीघ्र दूर करने का निवेदन कुलपति एवं कुलसचिव से की। वित पदाधिकारी के धनबाद ज्ञापन के बाद यह ऑनलाइन बैठक समाप्त हुई बैठक में छात्र कल्याण पदाधिकारी प्रोफेसर रतन चौधरी भी उपस्थित थे तथा उन्होंने भी नामांकन प्रक्रिया के संबंध में अपनी राय रखी।

कोई टिप्पणी नहीं: