प्रणव मुखर्जी के निधन पर पूरा राष्ट्र शोकाकुल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 सितंबर 2020

प्रणव मुखर्जी के निधन पर पूरा राष्ट्र शोकाकुल

pranab-passes-away-nation-sad
नयी दिल्ली, 31 अगस्त, राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर आज गहरा शोक व्यक्त किया है। श्री कोविंद ने ट्विटर पर अपने संदेश में कहा, “पूर्व राष्ट्रपति, श्री प्रणव मुखर्जी के स्वर्गवास के बारे में सुनकर हृदय को आघात पहुंचा। उनका देहावसान एक युग की समाप्ति है। श्री प्रणव मुखर्जी के परिवार, मित्र-जनों और सभी देशवासियों के प्रति मैं गहन शोक-संवेदना व्यक्त करता हूँ।” उन्होंने कहा, “असाधारण विवेक के धनी, भारत रत्न श्री मुखर्जी के व्यक्तित्व में परंपरा और आधुनिकता का अनूठा संगम था। पांच दशक के अपने शानदार सार्वजनिक जीवन में, अनेक उच्च पदों पर आसीन रहते हुए भी वे सदैव जमीन से जुड़े रहे। अपने सौम्य और मिलनसार स्वभाव के कारण राजनीतिक क्षेत्र में वे सर्वप्रिय थे।”राष्ट्रपति ने कहा, “भारत के प्रथम नागरिक के रूप में, उन्होंने लोगों के साथ जुड़ने और राष्ट्रपति भवन से लोगों की निकटता बढ़ाने के सजग प्रयास किए। उन्होंने राष्ट्रपति भवन के द्वार जनता के लिए खोल दिए। राष्ट्रपति के लिए 'महामहिम' शब्द का प्रचलन समाप्त करने का उनका निर्णय ऐतिहासिक है।” श्री नायडू ने कहा,“ श्री मुखर्जी के निधन से बहुत दुख पहुंचा है और उनके निधन से देश ने एक ऐसे वरिष्ठ राजनेता को खाे दिया है जिन्होंने अपना राजनीतिक जीवन एक सामान्य व्यक्ति के तौर पर शुरू किया था और वह वह अपनी कठिन मेहनत, अनुशासन और प्रतिबद्वता से देश के शीर्ष संवैधानिक पद तक पहुंचे थे। अपने लंबे और विशिष्ट सार्वजनिक जीवन में उन्होंने प्रत्येक पद को गौरवान्वित किया और हर पद की गरिमा बनाए रखी। शोक संतप्त परिजनाें के प्रति मेरी संवेदनाएं , ओम शांति।”



श्री मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा, “ उनके निधन से पूरा भारत दुखी है और उन्होंने राष्ट्र के विकास पथ पर एक अमिट छाप छोड़ी है। वह उत्कृष्ट विद्वान ,एक राजनीतिज्ञ, राजनीति और समाज के सभी वर्गों में प्रशंसित रहे। दशकों के राजनीतिक जीवन के दौरान, श्री मुखर्जी ने प्रमुख आर्थिक और रणनीतिक मंत्रालयों में लंबे समय तक योगदान दिया। वह एक उत्कृष्ट सांसद थे,जो बेहद मुखर थे और मजाकिया स्वभाव के भी थे।” कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। श्री गांधी ने कहा, “बहुत- बहुत दुखद खबर है। देश को पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन की खबर मिली है। मैं देश की जनता के साथ उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। शोक संतप्त परिवार और उनके मित्रों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं।” कांग्रेस के वरिष्ठ नेता श्री जर्नादन द्विवेदी ने श्री मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया और उनके देश के लिए किये गये योगदान की चर्चा करते हुए कहा कि कांग्रेस की परंपरा में इस समय वह अकेले व्यक्ति थे जिनके साथ इतिहास, संस्कृति और राजनीति के व्यापक पक्षों पर संवाद किया जा सकता था। उनका निधन अपूरणीय क्षति है। उन्होंने कहा कि वह श्री मुखर्जी के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं और उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने भी पूर्व राष्ट्रपति के देहावसान पर शोक जताया है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सचिव अतुल कुमार अंजान और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने भी श्री मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। गौरतलब है कि श्री मुखर्जी का लम्बी बीमारी के बाद आज यहां सेना के आर एंड आर अस्पताल में निधन हो गया।

कोई टिप्पणी नहीं: