वाराणसी : ‘वर्चुअल आजा नच ले’ : 20- 20 डांस प्रतियोगिता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 22 सितंबर 2020

वाराणसी : ‘वर्चुअल आजा नच ले’ : 20- 20 डांस प्रतियोगिता

  • आजमगढ़ की शिवा एवं प्रयागराज की आयुशी जायसवाल,जायसवाल ने मारी बाजी
  • अखिल मुंबई जायसवाल सभा के बैनर तले आयोजित किया गया कार्यक्रम
vertual-aja-nach-le-varanasi
वाराणसी (सुरेश गांधी) । अखिल मुंबई जायसवाल सभा के तत्वावधान में ‘वर्चुअल आजा नच ले’ : 20- 20 डांस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। उक्त स्पर्धा में पंजीयन से लेकर कार्यक्रम के अंत तक सभी एक्टिविटी वर्चुअल तरीके से कराया गया। प्रतियोगिता में कुल 150 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इसमें यूपी के वाराणसी, आजमगढ़, प्रयागराज के अलावा गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान, कर्नाटक, उड़ीसा दिल्ली देश-विदेश के कोने-कोने से बच्चों ने भाग लिया। प्रतियोगिता में कलचुरी समाज के तीन वर्ष के बच्चे से लेकर 70 वर्ष के सदाबहार कलाकारों ने अपने प्रतिभा का प्रदर्शन किया। प्रतियोगिता में प्रतिभागियों को कुल चार राउंड से गुजरना था। अंत में सभी विजेताओं को ऑनलाइन प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।



कार्यक्रम की कोआर्डिनेटर छाया जायसवाल एवं कंचन जायसवाल ने बताया कि पहली बार  अखिल मुंबई जायसवाल सभा के बैनरतले ऑनलाइन टेलीग्राम प्लेटफार्म पर ‘वर्चुअल आजा नच ले’ : 20- 20 डांस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में जायसवाल, कलवार, कलाल और कल्चुरी समाज के बच्चियों एवं महिलाओं ने हिस्सा लिया। 1 अगस्त 2020 से 20 सितंबर 2020 तक 50 दिन के इस कार्यक्रम में देश-विदेश के 2500 से अधिक कलचुरी समाज के लोगों ने जुड़कर कोरोना जैसी महामारी को भूलभालकर कार्यक्रम का पूरी तरह से आनंद लिया। वर्चअुल तकनीकी विशेषज्ञ छाया जायसवाल ने बताया कि इस ऑनलाइन प्लेफॉर्म पर नृत्य प्रतियोगिता करना एक चुनौतीपूर्ण काम था, लेकिन उन्होंने सारे तकनीकी बारीकियों को ध्यान में रखते हुए बहुत ही जिम्मेदारी से सुचारु रूप से कार्यक्रम को संपंन कराया। प्री प्रायमरी से सेमीफाइनल व फाइनल तक के सभी प्रतिभागियों ने अपने अभिनय का प्रदर्शन करते एक दूसरे को कड़ी टक्कर दी। प्रतियोगिता के अंत में विजेता बच्चों को पुरस्कृत किया गया। प्रतियोगिता में लतिका परेता एवं तनुश्री परेता कोटा राजस्थान, यशी जायसवाल एवं आयुशी जायसवाल प्रयागराज, आयुशी अरुन जायसवाल वर्ली-मुंबई, सांची जायसवाल मलाड़ मुंबई, सूर्यांश जायसवाल मलाड मुंबई़, क्रिस्टी गुप्ता वीरार मंबई, अदिति गुप्ता डोम्बीवली मुंबई, अवनी राय भोपाल मध्य प्रदेश, सानवी गुप्ता थाना मुंबई, सुभि धनेता जयपुर राजस्थान, शिवा जायसवाल आजमगढ़ यूपी, प्रियांश धनेता जयपुर राजस्थान, रुपाली डहरवाल भीवाड़ी राजस्थान, पीनल जायसवाल गांधीनगर गुजरात एवं नम्रता गुप्ता थाना मुंबई विजेता रही।

छाया जायसवाल ने बताया कि कोविड-19 के कारण सभी प्रतियोगिताओं पर खासा असर पड़ा है। पहली बार कार्यक्रम स्थगित किए गए। सभी गतिविधियां प्रभावित हुई। प्रतियोगिताओं के रुकने से प्रतिभाओं और प्रशिक्षकों का हौसला उन लोगों का प्रभावित हुआ जो वर्षो की मेहनत, लगन और साहस के बल पर ही अपनी खास पहचान बनाई है। लेकिन ऐसे प्रतिभा कुंठित ना हो इसीलिए उन्होंने वर्चुअल डांस प्रतियोगिता कराकर उनका हौसला बनाएं रखने का प्रयास किया है। हम लोगों ने लोगो तक इस प्रतियोगिता को पहुंचाने में सफलता हासिल की। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में वीरेन जायसवाल, घाटकोपर के समाजसेवी उमेश गुप्ता, प्रशांत, बीनाजी, सरोज और आरती आदि का प्रयास काफी सराहनीय रहा। हम आभारी है ‘वर्चुअल आजा नच ले’ : 20- 20 डांस प्रतियोगिता के प्रायोजक श्रीकृष्णलाल गुप्ता, आसनदास जायसवाल, सुभाष जायसवाल, घाटकोपर के समाज के समाजसेवी उमेश गुप्ता, राजेश जायसवाल, श्रीमती सरिता जायसवाल एवं जायसवाल कंसलटेंट के सभी सहयोगी सदस्यों का, जिन्होंने पूरी ईमानदारी से अपनी जिम्मेदारी का निवर्हन किया। छाया जायसवाल ने कहा कि पूरे भारत वर्ष के सभी स्वजातीय भाई और बहनों ने मिलकर जो एकता दिखाई है, वह आज एक इतिहास बन गया है। आज हमारे जायसवाल, कलवार, कलाल और कल्चुरी समाज ने यह दिखा दिया है कि हमारे समाज में प्रतिभा की कमी नहीं है। बस उन्हें एक मंच की जरुरत है। जिसे अखिल मुंबई जायसवाल सभा महिला समिति ने साबित कर दिखाया है। प्रयास हमारा है साथ आप सभी का चाहिए। पंख तो है बस अब हौसलों की उड़ान भरना है, अभी तो और बहुत कुछ करना बाकी है।

कोई टिप्पणी नहीं: