विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 02 सितम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 2 सितंबर 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 02 सितम्बर

बेराजगारों के हित में केन्द्र एवं राज्य सरकार तत्काल निर्णय ले- भार्गव

विदिशाः- विधायक शशांक भार्गव ने बेरोजगार संघ विदिशा द्वारा देय ज्ञापन के क्रम में भारत के प्रधानमंत्री एवं म.प्र. के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान को पत्र लिखकर कहा कि बेरोजगारों के हित में शीघ्र-अतिशीघ्र निर्णय ले। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार जिस प्रकार से नई भर्ती व्यवस्था के क्रम में सरकारी नौकरी के इच्छुक सभी उम्मीदवारों को राष्ट्रीय भर्ती एजेन्सी एन.आर.ए. द्वारा आयोजित किये जाने की व्यवस्था कर रही है वह सर्वथा अनुचित है। उन्होंने कहा कि जहाॅ एक ओर प्रदेश के मुख्यमंत्री घोषणा कर रहे है कि म.प्र. में सरकारी नौकरियाॅ सिर्फ म.प्र. के ही बेरोजगारों को ही दी जायेगी। वहीं दूसरी ओर एन.आर.ए. जैसे कदम उठाकर भर्ती की नई प्रक्रिया लागू करना अनुचित है। उन्होंने कहा कि म.प्र. सरकार एवं केन्द्र सरकार को बेरोजगारी की गंभीर समस्या आपातकालीन योजना तैयार की जाना चाहिए। वर्तमान में राष्ट्र की सबसे ज्वलंत समस्या बेरोजगारी है। पिछले 6 वर्षाें में बरोजगारी की स्थिति काफी बिगडी है, जो धीरे-धीरे गंभीर रूप धारण कर रही है। नोटबंदी के बाद कोरोना महामारी के चलते लाॅकडाउन एवं आवागमन के साधन नहीं होने के साथ ही उक्त बीमारी के डर से भुखमरी से परेशान लोगों द्वारा पलायन करने से बेरोजगारी बढी है। ऐसे में केन्द्र सरकार की एनआर.ए. की योजना एवं म.प्र. के बेरोजगारों को नौकरी देने की घोषणा में विरोधाभास की स्थिति स्पष्ट नजर आती है। उन्होंने कहा कि सरकार की लगातार असफलताओं के चलते बेरोजगार युवकों की आत्महत्या का प्रतिशत काफी अधिक बढा है। इन सब समस्याओं के समाधान के लिये केन्द्र एव ंराज्य सरकार को संयुक्त रूप से प्रयास करना चाहिए। म.प्र. में बेरोजगारो को आवश्यक रूप से भत्ता दिया जाये, शासन के सभी विभागों में रिक्त पदो पर भर्ती प्रक्रिया शीघ्र अतिशीघ्र शुरू की जाये। खासतौर से ऐसे विभाग पुलिस विभाग, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग एवं अन्य बडे महकमों में रिक्त पदो की पूर्ति प्राथमिकता से की जाये। साथ ही उन्होने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह जी से अनुरोध किया कि म.प्र. के बेरोजगारों को ही रोजगार देने की घोषणा पर शीघ्र अमल करें एवं प्रधानमंत्री जी को म.प्र. के बेरोजगारों के हित में पत्र लिखकर एन.आर.ए जैसी भर्ती प्रक्रिया पर अपनी असहमति प्रकट करे जिससे कि म.प्र. के बेरोजगार युवाओं को न्याय प्राप्त हो सकें।



विदिशा रेल्वे स्टेशन के दोनो ओर बने अण्डर ब्रिज एवं बराख्ेाडा सौराई अण्डर ब्रिज में जल भराव की स्थिति को दूर करने के लिये रेल्वे तत्काल कार्यवाही करे- भार्गव

vidisha news
विदिशाः- डी.आर.एम पश्चिम मध्य रेल्वे भोपाल को पत्र लिखकर विधायक शशांक भार्गव ने मांग की कि विदिशा रेल्वे स्टेशन के सौंठिया फाटक एवं पीतलमील स्थित सागर पुलिया के साथ ही बराखेडा गांव के पास बनाये गये अण्डर ब्रिजों में तकनीकी खराबी के चलते जल भराव की समस्या बनी है। उक्त ब्रिजों के अंदर इतना पानी जमा रहता है कि पूरे वर्षाकाल में यातायात बंद रहता है। आम जनता की सुविधा के लिये उक्त अण्डर ब्रिज बनाये गये थे, लेकिन वर्षाकाल में इन अण्डर ब्रिजों में से निकलना यानी दुर्घटना को आमंत्रण देने समान है। उन्होंने डी.आर.एम भोपाल को लिखे पत्र में सुझाव दिया कि रेल्वे के तकनीकी विशेषज्ञों से जल भराव की स्थिति का निरीक्षण कराकर जल निकासी की व्यवस्था हेतु यथाशीघ्र आवश्यक सुधार एवं निर्माण कार्य शीघ्र अतिशीघ्र कराये जाये, जिससे आम जनता को आवागमन हेतु सुलभ सुविधा प्राप्त हो सके। 

कोविड केयर सेन्टरों के कार्या की समीक्षा 

vidisha news
विदिशा जिले में विदिशा, सिरोंज बासौदा एवं कुरवाई तहसील मुख्यालयों पर कोविड केयर सेन्टरों का संचालन किया जा रहा है। इन सेन्टरों  के लिए बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति सुनिश्चित कराने हेतु कलेक्टर द्वारा प्रत्येक कोविड केयर सेन्टर के लिए जिलाधिकारी को नोडल का दायित्व सौंपा है। नोडल अधिकारियों के द्वारा सम्पादित होने वाले कार्यो की  समीक्षा हर रोज कलेक्टर के द्वारा प्रातः ग्यारह बजे से आयोजित की जाती है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने बुधवार को नोडल अधिकारियो के कार्यो की समीक्षा करते हुए उन्हे निर्देश दिए है कि प्रत्येक कोविड केयर सेन्टर में आवश्यक प्रबंधो की एक सप्ताह पूर्व की प्लानिंग की जाए। उन्होंने सेम्पलों की संख्या बढने पर संतोष जाहिर करते हुए उक्त स्पीड को बनाए रखने के निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार को दिए है। कलेक्टर डॉ जैन को विदिशा कोविड केयर सेन्टर के प्रबंधक ने अवगत कराया कि सेन्टर में 116 मरीज भर्ती है जिसमें से 18 आज डिस्चार्ज होंगे। इसी प्रकार बासौदा में तीस मरीज में से तीन मरीज डिस्चार्ज हो रहे है जबकि सिरोंज में 16 मरीज भर्ती है जिसमें से दो आज डिस्चार्ज हो रहे है जबकि कुरवाई में तीन मरीज भर्ती थे जिसमें से एक मरीज को विदिशा रेफर किया गया है। जिला चिकित्सालय में संचालित कोविड केयर सेन्टर के संबंध में भी जानकारी दी गई। कलेक्टर डॉ जैन ने प्रचार-प्रसार पर बल देते हुए कहा कि प्रायः देखने में आ रहा है अब लोग मास्क का उपयोग पहले की तरह नही कर रहे है इसी प्रकार दुकानो में भी मास्क व सोशल डिस्टेन्सिग का अनुपालन नही किया जा रहा है। ततसंबंध में जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम  से संदेश प्रसारित कराने हेतु महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी को आवश्यक जबावदेंही सौंपी गई है। कलेक्टर डॉ जैन ने मुख्य नगरपालिका अधिकारी को निर्देश दिए है कि स्पॉट पाइंट के लिए बाजार क्षेत्र का सतत भ्रमण हेतु दल को भेजे तथा दल द्वारा पहले फोटोग्राफ्स, वीडियो ग्राफी से साक्ष्य संकलित किए जाएं ततपश्चात स्पॉट फाइन प्रक्रिया का क्रियान्वयन किया जाए। उपरोक्त कार्यो में किसी के द्वारा सहयेग नही किया जाता है तो उनके खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्यवाही की जाए। नवीन कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में सम्पन्न हुई इस बैठक में अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह, अटल बिहारी वाजपेयी मेडीकल कॉलेज के एमडी डॉ प्रशांत बडगवालकर, श्रीमंत माधवराव सिंधिया जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन सह अधीक्षक डॉ संजय खरे तथा प्रत्येक कोविड केयर सेन्टर के नोडल अधिकारी तथा विभिन्न प्रकोष्ठो के नोडल अधिकारी मौजूद थे।

आईसीयू का जायजा 

vidisha news
श्रीमंत माधव राव सिंधिया जिला चिकित्सालय में नवनिर्मित दस बिस्तरा आईसीयू वार्ड का कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने भ्रमण कर जायजा लिया। कलेक्टर डॉ जैन ने आईसीयू में भर्ती होने वाले मरीजो के लिए निर्धारित टेम्प्रेचर, आक्सीजन की सप्लाई के अलावा अन्य उपकरणों के संबंध में जानकारियां प्राप्त की। इस अवसर पर सिविल सर्जन सह अधीक्षक डॉ संजय खरे के द्वारा जानकारी दी गई है। निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसके अहिरवार, जिला चिकित्सालय के चिकित्सक श्री प्रमोद मिश्रा के अलावा अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे। 



खरीफ फसलों की समीक्षा आज

कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा खरीफ फसल 2020-21 के तहत क्रियान्वित कार्यो की समीक्षा बैठक गुरूवार तीन सितम्बर को आयोजित की गई है यह बैठक कलेक्ट्रेट के नवीन सभाकक्ष में सायं चार बजे से शुरू होगी। संबंधितों को समुचित जानकारी सहित बैठक में उपस्थित होने के निर्देश प्रसारित किए गए है।

एससी-एसटी एक्ट समन्वय की बैठक आज

कलेक्टर डॉ पंकज जैन की अध्यक्षता में अनुसूचित जाति जनजाति अधिनियम के क्रियान्वयन हेतु विभिन्न अधिकारियों की समन्वय बैठक तीन सितम्बर गुरूवार को आयोजित की गई है। यह बैठक कलेक्ट्रेट के नवीन सभाकक्ष में सायं पांच बजे से शुरू होगी। संबंधितों को समुचित जानकारी सहित बैठक में उपस्थित होने के निर्देश प्रसारित किए गए है।

प्रत्येक मंगलवार को मेडिकल बोर्ड द्वारा यूडीआईडी कार्ड बनाए जाएंगे

कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा दिए गए निर्देशो के अनुपालन में जिले के ऐसे दिव्यांगजन जिन्हें मेडीकल बोर्ड द्वारा अब तक यूडीआईडी कार्ड जारी नही हुआ है उनके लिए अब प्रत्येक मंगलवार को मेडीकल बोर्ड के द्वारा कार्ड जारी किए जाएंगे। जिला पंचायत के सीईओ श्री मयंक अग्रवाल के द्वारा जारी पत्र में उल्लेख है कि पुराने जिला चिकित्सालय भवन में संचालित जिला दिव्यांग पुर्नवास केन्द्र में जिला मेडिकल बोर्ड का आयोजन प्रत्येक मंगलवार को किया जाएगा ताकि ऐसे दिव्यांगजन जिन्हें यूडीआईडी कार्ड प्रदाय किए जाने है को प्राप्ति में किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना ना करना पडे़।  जिपं सीईओ श्री अग्रवाल ने जिले के समस्त जनपदों व निकायों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देश दिए है कि मेडिकल बोर्ड में आपके क्षेत्र के ऐसे दिव्यांगजन जिनके द्वारा स्वालम्बन पोर्टल पर पूर्व से पंजीयन किया जा चुका है। उन्हें पंजीयन का दो पेज प्रिन्ट आउट के साथ मेडिकल बोर्ड के समक्ष उपस्थिति सुनिश्चित कराने की व्यवस्था क्रियान्वित करने के निर्देश दिए गए है ताकि यूडीआईडी कार्ड तैयार कराया जा सकें। यदि आवश्यक हो तो आपके क्षेत्र में मंगलवार को मेडिकल बोर्ड में आने वाले दिव्यांगों को तहसील से विदिशा तक लाने ले जाने के वाहन व्यवस्था जिला पंचायत कार्यालय के द्वारा कराई जाएगी। उपरोक्त कार्यवाही त्वरित करने हेतु वार्ड प्रभारी, सचिव, जीआरएस को पाबंद करना सुनिश्चित करें। प्रत्येक गुरूवार को जिला मेडिकल बोर्ड पूर्वानुसार संचालित होगा। केवल दिव्यांगजनों को यूडीआईडी कार्ड जारी करने हेतु प्रत्येक मंगलवार को मेडिकल बोर्ड मौजूद रहेगा।

12 हजार 265 को भी यूडीआईडी कार्ड जारी हुए है

कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा गत दिवस दिव्यांगजनों के उत्थान हेतु संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों के साथ-साथ पेंशन वितरण के कार्यो की समीक्षा की गई। जिसमें सामाजिक न्याय विभाग के उप संचालक डॉ पीके मिश्रा ने अवगत कराया कि वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार विदिशा जिले में 32 हजार 286 दिव्यांगजन है जिसमें से अब तक मात्र 12 हजार 265 दिव्यांगजनों के ही यूडीआईडी कार्ड जनरेट किए गए है। जनगणना के आंकडो के अनुसार शेष दिव्यांगजनों के लिए यूडीआइडी कार्ड जनरेट करने का कार्य अभियान के रूप में क्रियान्वित किया जाना है। उपरोक्त कार्यो में जिले के समस्त जनपदों व निकायों के अधिकारियों को सूची उपलब्ध कराई गई है तथा शेष दिव्यांगजनों को मेडिकल बोर्ड के समक्ष भिजवाने के पूर्व स्वालंबन पोर्टल पर पंजीयन दर्ज कर उसकी प्रतियां सहित निर्धारित दिवस प्रत्येक मंगलवार की प्रातः 11 बजे से पुरानी जिला चिकित्सालय में संचालित जिला पुर्नवास केन्द्र में उपस्थिति सुनिश्चित कराने हेतु पत्र प्रेषित किए गए है।  

पौने दो लाख से अधिक ने फसल बीमा कराया

विदिशा जिले में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत खरीफ 2020 के लिए निर्धारित स्केल आफ फायनेंस के आधार पर कृषकों के लिए प्रीमियम  राशि दो प्रतिशत की दर से निर्धारित की गई है। प्रीमियम जमा कराने के अंतिम तिथि आज 31 अगस्त तक एक लाख 85 हजार 527 कृषकों के द्वारा जमा की गई है। कॉ-आपरेटिव बैंक के सीईओ श्री विनय प्रकाश सिंह ने बताया कि सहकारिता बैंको में ऋणी कृषक 80 हजार 72 तथा अऋणी कृषक 44 हजार 487 ने निर्धारित प्रीमियम दर जमा कराई है। सीईओ श्री विनय प्रकाश सिंह ने बताया कि बीमा प्रीमियम तिथि में वृद्वि के उपरांत पांच हजार से अधिक ऋणी कृषकों के द्वारा जबकि अऋणी कृषक करीब चालीस हजार ने प्रीमियम किश्त जमा की है। राष्ट्रीयकृत बैंको में ऋणी साठ हजार कृषकों के द्वारा जबकि अऋणी 968 कृषको के द्वारा अंतिम तिथि 31 अगस्त तक प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की प्रीमियम राशि जमा कराई गई है। ज्ञातव्य हो कि स्केल आफ फायनेंस के अनुसार कृषकों के लिए प्रीमियम राशि दो प्रतिशत की दर से निम्नानुसार निर्धारित की गई है। धान सिंचित हेतु स्केल आफ फायनेंस 56 हजार 700 प्रीमियम राशि प्रति हेक्टेयर 1134 रूपए, जबकि धान असिचिंत हेतु स्केल आफ फायनेंस 56 हजार, प्रीमियम दर 1120 रूपए, सोयाबीन हेतु स्केल आफ फायनेंस 32 हजार, प्रीमियम राशि 640 रूपए, उड़द हेतु स्केल आफ फायनेंस हेतु 22 हजार प्रीमियम दर 440 रूपए तथा मक्का के लिए स्केल आफ फायनेंस 22 हजार एक सौ तथा प्रीमियम राशि 422 रूपए प्रति हेक्टेयर निर्धारित की गई थी।

जल मिशन के कार्यो की समीक्षा  

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के प्रमुख अभियंता श्री केके सोनगरिया ने मंगलवार को विदिशा जिले में क्रियान्वित जल मिशन के कार्यो की समीक्षा की। प्रमुख अभियंता श्री सोनगरिया ने इस दौरान अतिवृष्टि के कारण प्रभावित ग्रामों में विभाग के माध्यम से शुद्व पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित कराए जाने हेतु किए गए प्रबंधो का भी जायजा लिया है। प्रमुख अभियंता श्री सोनगरिया ने विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों को बैठक में निर्देश दिए है कि वर्षाकाल के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में कही भी अशुद्व पेयजल पीने की शिकायते प्राप्त ना हो। उन्होंने पूर्वानुसार सभी पेयजल स्त्रोतो के शुद्विकरण हेतु पुनः अभियान के रूप में क्रियान्वित करने के निर्देश दिए है। प्रत्येक पेयजल स्त्रोत के आसपास स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाए इस कार्य में स्थानीय आमजनो की सहभागिता को अतिमहत्वपूर्ण बताते हुए जल दूषित होने के कारणो तथा दूषित जल सेवन से मानव जीवन पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभावो की जानकारी भ्रमण के दौरान ग्रामीणजनों को अवश्य रूप से दी जाए।  जिला मुख्यालय के साथ-साथ खण्ड मुख्यालयों तथा अनुविभाग स्तर पर कंट्रोल रूम संचालन प्रक्रिया के प्रति साधुवाद व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि कंट्रोल रूम में प्राप्त होने वाली शिकायतों का निराकरण उसी दिन हो ऐसी व्यवस्थाएं क्रियान्वित की जाएं। प्रमुख अभियंता श्री सोनगरिया ने जल जीवन मिशन के तहत नटेरन विकासखण्ड के सौ से अधिक ग्रामों में घर तक पेयजल आपूर्ति के प्रबंध सुनिश्चित किए गए है। उपरोक्त कार्य की समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि यह अति महत्वपूर्ण कार्य है अतः इसकी समयावधि का विशेष ध्यान रखते हुए कार्य पूर्ण कराए जाएं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री एसके जैन ने बताया कि जिले की समस्त ग्रामीण क्षेत्रों में वर्ष 2023 तक घर-घर में नल कनेक्शन के कार्य किए जाने है जिसे मिशन मोड के रूप में क्रियान्वयन किया जा रहा है। बाढ़ से प्रभावित ग्रामों में शत प्रतिशत पेयजल स्त्रोतो के नल नमूनों का परीक्षण कर जीवाणु प्रदूषण विमुक्त जल की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के पुख्ता प्रबंध सुनिश्चित किए गए है। कार्यपालन यंत्री श्री जैन ने बताया कि कंट्रोल रूमों के सुव्यवस्थित संचालन हेतु पृथक-पृथक पाली में अधिकारी, कर्मचारियों की तैनाती की गई है जैसे ही सूचना प्राप्त होती है सबसे पहले उसे पंजी में संधारित करते हुए क्षेत्र के एसडीओ को सूचित कर सुधार कार्य को सम्पादन कराने वाले अमले को नियत स्थल पर पहुंचाया जाता है। यदि अमले द्वारा सुधार कार्य किया जा रहा है और आसपास के पेयजल जल स्त्रोत खराब होने की सूचना प्राप्त होती है तो वही से प्रेषित कर दिया जाता है। 

कोई टिप्पणी नहीं: