सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 18 ऑक्टूबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 18 अक्तूबर 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 18 ऑक्टूबर

7 व्‍यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई वर्तमान में कोरोना एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 346 है

sehore news
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान 20 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव प्राप्त हुई है। इछावर से 2 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव आई है जो आम्बेडकर वार्ड एवं वीरपुर डेम के निवासी है। नसरूल्लागंज इंदौर रोड एवं सीहोर से 1-1 व्यक्ति की रिपोर्ट पाॅजीटिव प्राप्त हुई है। आष्टा के मेहतवाडा, सिद्धिकगंज एवं स्थानीय आष्टा से 1-1 व्यक्ति संक्रमित मिला है। जिले में एक्टिव/पाॅजीटिव की संख्या 346 हो गई है। आज 14 व्यक्तियों को रिवकर होने के उपरंात डिस्चार्ज किया गया है। जो होम आईसोलेषन एवं सीसीसी से डिस्चार्ज किए गए हैं। कुल डिस्चार्ज संख्या 1646 है। जिले में संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु संख्या 41 है।  आज 356 सैम्पल लिए गए है।  सीहोर शहरी क्षेत्र से 26 सैम्पल लिए गए, नसरूल्लागंज 68, आष्टा से 78, इछावर से 59, श्यामपुर से 96, बुदनी से 29 सैम्पल लिए गए है। आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है । सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम. आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 2033 है जिसमें से 41 की मृत्यु हो चुकी है 1646 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में एक्टिव/ पॉजीटिव की संख्या 346 है। आज 356 सैंपल जांच हेतु लिए गए। जिले से अब तक कुल 30233 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 26799 सेंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। आज 157 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। कुल 1330 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्टेट कार्यालय सीहोर में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है।

घर बैठे होंगे विंध्यवासिनी देवी के दर्शन, सलकनपुर माता मंदिर के लाइव दर्शन की व्यवस्था सीहोर जिले की वेबसाइट एवं फेसबुक पर

कलेक्टर श्री अजय गुप्ता की पहल पर अब सलकनपुर देवी मंदिर के दर्शन श्रद्धालुओं को घर बैठे उपलब्ध हो सकेंगे। कोरोना महामारी से बचाव की दिशा में किए जा रहे उपायों के तहत ऑनलाइन देवी दर्शन की व्यवस्था  कराई गई है। सीहोर जिले की वेबसाइट एवं फेसबुक की लिंक पर क्लिक करके इस व्यवस्था का लाभ लिया जा सकता है।

https://sehore.nic.in/en//vindhyawasini-mata-temle-salkanpur-live-darshan/

फेसबुक लिंक-https://www.facebook.com/MaaBijasanDhamSalkanpur

रबी सीजन में खाद-बीज की कमी नहीं आने देंगे -मंत्री श्री पटेल

किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा है कि किसानों को रबी की फसलों के लिये खाद-बीज की कमी नहीं आने दी जायेगी। उन्होंने बताया कि रबी के लिये अब तक 2.49 लाख मीट्रिक टन यूरिया भारत सरकार से प्राप्त हो चुका है। सहकारी संस्थाओं के माध्यम से 0.33 लाख मीट्रिक टन और अन्य माध्यमों से 0.57 लाख मीट्रिक टन यूरिया का वितरण किया जा चुका है। मंत्री श्री पटेल ने बताया कि किसानों को गुणवत्तापूर्ण बीज उपलब्ध कराने के भी पर्याप्त प्रबंध किये गये हैं। सभी जिलों को बेहतर वितरण प्रबंधन के निर्देश दिये गये हैं।

कुपोषण से मुक्ति और टीकाकरण के लिए अभियान चलाएं . संभागायुक्त श्री कियावत

संभाग आयुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने स्वास्थ्य और महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे शिशुओं को शत-प्रतिशत टीकाकरण निश्चित करने के साथ ही कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने के लिए मैदानी स्तर पर विशेष अभियान चलाएं। उन्होंने कहा कि टीकाकरण सहित स्वास्थ्य सेवाओं में किसी भी तरह की कमी को गंभीरता से लिया जाएगा। श्री कियावत ने निर्देश दिए कि बच्चों को टीकाकरण के साथ यह सुनिश्चित किया जाए कि आगनवाड़ी कार्यकर्ता कुपोषित बच्चों के घर लगातार भेंट कर बच्चे के लालन-पालन और खुराक के संबंध में परिवार को शिक्षित करे। उन्होंने कहा कि एक माह की इस विजिट से भारी परिवर्तन आ सकता है। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि कोरोना काल में आगनवाड़ी कार्यकर्ता और स्वास्थ्यकर्मी नियमित रूप से गृह भेंट करें आवश्यक पोषण, दवाईयां और परामर्श उपलब्ध कराएं। संभाग आयुक्त ने आगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं की भर्ती प्रक्रिया भी शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने इन कर्मियों के मानदेय वितरण की भी समीक्षा की। श्री कियावत ने निर्देश दिए है कि आगनवाड़ियों के माध्यम से बच्चों को वितरित होने वाले दूध का परियोजना वार भौतिक सत्यापन, मात्रा, निर्माण तिथिए एक्सपायरी डेट आदि के मानक के आधार पर करके रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए। स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान संस्थागत प्रसव और टीकाकरण कार्य की प्रगति देखी गई। श्री कियावत ने संयुक्त संचालक को निर्देश दिए हैं कि गत तीन माह में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में हुए प्रसव की जानकारी संकलित कर प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि अनेक स्वास्थ्य केन्द्र में या तो कम या एक भी प्रसव नहीं होने की जानकारी है। संभाग आयुक्त ने निर्देश दिए कि अगली बैठक में जनसंख्या के आधार पर जन्मदर, कुल प्रसव और जननी सुरक्षा योजना के लाभ के आंकड़ों के आधार पर समीक्षा की जाएगी। उन्होंने पात्रता अनुसार लाड़ली लक्ष्मी और मातृ वंदना योजना का लाभ सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए। इन योजनाओं के संभाग में बेहतर क्रियान्वयन के लिए संयुक्त संचालक स्वास्थ्य और महिला बाल विकास संयुक्त रूप से जिलों का दौरा करेंगे।

मलेरिया, डेंगू व चिकुनगुनिया से बचाव के लिए एडवाईजरी

मलेरिया, डेंगू एवं चिकुनगुनिया से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा एडवाईजरी जारी की गई है। मच्छर से फैलने वाले वाहक जनित रोग-मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया जैसी बीमारियों से सुरक्षा के लिए जनभागीदारी व जनजाग्रति का होना आवश्यक है। वर्षाकाल में जगह-जगह एकत्रित पानी में मच्छरों की उत्पत्ति व वृद्धि होती है। ये मच्छर, रोगी व्यक्ति को काटने पर संक्रमित हो जाते है व इन संक्रमित मच्छर के काटने से मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया, रोग का प्रसार होता है। इन बीमारियों से ग्रसित रोगी को बुखार सिरदर्द, बदनदर्द, उल्टी आना, ठंड लगना जैसे लक्षण होते हैं जिनका त्वरित उपचार आवश्यक है। मलेरिया रोग एनाफिलीज मच्छर के काटने से फेलता है तथा यह मच्छर रात में सक्रिय रहता है। डेंगू व चिकुनगुनिया रोग, सफेद चकते वाले एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर दिन में सक्रिय रहता है। बीमारी फैलाने वाले मच्छर घरों में नमी वाले अंधेरे स्थान में विश्राम करते है एवं साफ व रूके पानी में पनपते हैं जो कि हमारे घरों में व आसपास पानी से भरे पात्र जैसे-गमले, टंकी, टायर, मटके, कूलर, टूटा फूटा कबाड में भरे पानी, नल, हैण्डपंप व कुएं के आसपास भरे पानी में मच्छर अपने अण्डे देते हैं। पानी से भरे बर्तन, टंकियों आदि का पानी सप्ताह में अवश्य बदलते रहें व कुएं, हैण्डपंप, नल के आसपास पानी इकट्ठा न होने दें। गड्ढों का मिट्टी से भराव करें या पानी की निकासी कराकर मच्छरों के उत्पत्ति स्थल को नष्ट करें, व मच्छरों के लार्वा नहीं पनपने दें। मच्छरों से बचाव करें। मच्छरों से बचाव के लिए सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें, पूरे आस्तीन के कपडे पहने, मच्छर भगाने वाली क्रीम या क्वाइल का उपयोग करे, नीम की पत्ती का धुंआ करें। कोई भी बुखार मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया हो सकता है जिसका इलाज संभव है। किसी भी बीमारी के लक्षण दिखने पर शीघ्र स्वास्थ्य केन्द्र में निःशुल्क जांच करायें तथा चिकित्सक के परामर्श से पूर्ण उपचार लें। मलेरिया की जांच ग्राम स्तर तक आरोग्य केन्द्र व स्वास्थ्य केन्द्रो में निःशुल्क उपलब्ध है।

कोई टिप्पणी नहीं: