बिहार : फेक न्यूज पर भाकपा-माले ने चुनाव आयोग से की शिकायत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 28 अक्तूबर 2020

बिहार : फेक न्यूज पर भाकपा-माले ने चुनाव आयोग से की शिकायत

cpi-ml-complain-to-election-commission
पटना,  भाकपा-माले ने शासक राजनीतिक दलों और कुछ मीडिया संगठनों द्वारा फेक न्यूज के माध्यम से पार्टी के औराई विधानसभा क्षेत्र से महागठबंधन समर्थित उम्मीदवार कामरेड आफताब आलम की छवि खराब करने के विरूद्ध राज्य चुनाव आयुक्त से शिकायत की है. इस विषय में पार्टी की पोलित ब्यूरो की सदस्य कविता कृष्णन और केन्द्रीय कमेटी की सदस्य मीना तिवारी का एक संयुक्त प्रतिनिधिमण्डल आज राज्य चुनाव आयुक्त से मिला और इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की. भाकपा-माले के औराई विस से उम्मीदवार आफताब आलम के बारे में भाजपा बिहार के फेसबुक पेज पर दुर्भावना से प्रेरित पोस्ट लगाई गई है जिसमें उन्हें 2013 के पटना बम धमाकों में अभियुक्त बताया गया है. यह पूरी तरह से फेक न्यूज है और उनकी छवि बिगाड़ने की दुर्भावनापूर्ण कार्यवाही है. इस पोस्ट में लिखा गया है कि माले ने पटना में पीएम की रैली में हुए बम धमाकों के दोषी को टिकट दिया है. यह बिल्कुल झूठी खबर बनाई गयी है, कामरेड आफताब आलम का उक्त घटना की एफआईआर, जिसकी एक प्रति भी चुनाव आयोग को दी गई है, में नाम नहीं है.  इसी प्रकार की फेक न्यूज समाचार पोर्टल न्यूज 18 बिहार एवं एक दक्षिणपंथी पोर्टल पर चलाई जा रही है. माले प्रतिनिधिमण्डल ने इन पोर्टलों के विरुद्ध भी चुनाव आयोग से कार्रवाई करने की मांग की है. पार्टी ने कहा है कि यदि फेक न्यूज को हटाया नहीं गया और पार्टी से सार्वजनिक तौर पर माफी नहीं मांगी गई तो इनके विरुद्ध मानहानि का मुकदमा किया जायेगा. इस सम्बंध में इन तीनों पोर्टलों/फेसबुक पेजों को नोटिस भेजने की तैयारी चल रही है.  पार्टी पोलितब्यूरो सदस्य कामरेड कविता कृष्णन, जो आजकल बिहार के दौरे पर हैं, भी प्रतिनिमण्डल के साथ थीं. उन्होंने कहा है कि भाजपा-जदयू गठजोड़ वर्तमान चुनावों में बुरी तरह पिछड़ रहा है और इसीलिए अपनी हताशा व निराशा को छुपाने के लिए इस तरह की अलोकतांत्रिक व अनैतिक हरकतों पर उतर आया है. लेकिन बिहार की जनता ऐसी ओछी हरकतों का जवाब मतदान के जरिये देकर भाजपा-जदयू को कड़ा सबक सिखाने के लिए तैयार है.  माले के बिहार राज्य कमिटी के  सदस्य एवं मीडिया प्रभारी कुमार परवेज ने बताया कि द चैपाल नाम के उक्त पोर्टल के सम्पादक सौरभ पाण्डे शौर्य के टविटर हैण्डल को मोदी सरकार के केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल फाॅलो करते हैं. इसी से स्पष्ट है कि इस प्रकार की फेक न्यूज और जहरीले दुष्प्रचार को कौन बढ़ावा देकर लोकतंत्र को कमजोर करना चाहता है. उन्होंने कहा कि बिहार में जनता शासक पार्टियों से जिन सवालों को पूछ रही है, उनसे बचाने में भाजपा की फेक न्यूज फैक्टरी का झूठा प्रचार किसी काम नहीं आने वाला. कामरेड आफताब आलम ने इस बारे में टिप्पणी करते हुए कहा है कि उनका काम समाज के सभी वंचित-उत्पीड़ित तबकों के लिए संघर्ष करना है और वे अपना काम करते रहेंगे. उन्होंने बिहार विधानसभा चुनावों में सभी क्षेत्रों से महागठबंधन के प्रत्याशियों को भारी बहुमत से जिताने की अपील की है.

कोई टिप्पणी नहीं: