बिहार को निचले पायदान पर पहुंचाने वालों को सिखाएंगे सबक : तेजस्वी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 18 अक्तूबर 2020

बिहार को निचले पायदान पर पहुंचाने वालों को सिखाएंगे सबक : तेजस्वी

mahagathbandhan-menifesto
पटना: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर महागठबंधन का साझा 25 सूत्रीय कार्यक्रम “संकल्प बदलाव का” घोषणा किया गया। घोषणा पत्र जारी करते समय तेजस्वी यादव, रणदीप सुरजेवाला, शक्ति सिंह गोहिल, मदन मोहन झा, अखिलेश सिंह, शशि यादव समेत कई नेता मौजूद थे। इस घोषणापत्र के मुताबिक महागठबंधन ने 10 लाख सरकारी नौकरियाँ, सभी सरकारी बहाली आवेदन फॉर्म को निःशुल्क करना, मनरेगा कार्य दिवस को 100 से 200 दिन करना, किसानों के लिए कर्ज़ माफ़ी, कर्पूरी श्रमवीर सहायता केंद्र जैसे कुल 25 वादों का महागठबंधन ने प्रण लिया है। घोषणा पत्र जारी करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि आज का दिन खास है, नवरात्र है और कलश की स्थापना कर संकल्प लेते हैं कि आज हमने जो संकल्प लिया है उसे हर हाल में पूरा करेंगे। हमने जो वादा किया था और जो वादा किए हैं उसे पूरा करेंगे। क्योंकि, हम ठेठ बिहारी हैं और हमारा DNA शुद्ध है। साथ ही तेजस्वी ने कहा कि जीविका दीदी और स्वयं सहायता समहू के लोगों को नियमति वेतन देने का काम करेंगे। नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए तेजस्वी ने कहा कि बिजली के क्षेत्र में बिहार का खुद का उत्पादन नहीं है और सबसे महंगा बिजली बिहार में मिल रहा है।बिहार में उद्योग धंधे ठप पड़े हैं। बिहार में बेरोजगारी है, लोग नाराज हैं। बिहार में विकास के बदले 60 घोटाले हुए हैं। इनके साथ तेजस्वी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने कहा की उद्योग, कल-कारखाने नहीं लग सकते। वे कहते हैं कि बिहार समुद्र किनारे नहीं है, इसलिए उद्योग-कारखाने नहीं लग सकते तो लालू यादव ने तीन रेल कारखाने कैसे लगवाए। वहीं, कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी तीन गठबंधनों में चुनाव लड़ रही है, एक गठबंधन है जदयू और बीजेपी का जो आपको नज़र आता है, एक गठबंधन है बीजेपी और एलजेपी का जो आप समझते हैं और एक गठबंधन है बीजेपी और ओवैसी साहब का। तीन ठगबंधन के साथ बीजेपी इस बिहार के चुनाव में उतरी है।

कोई टिप्पणी नहीं: