गया में दिव्यांगो के लिए नमस्ते कार्यक्रम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 17 अक्तूबर 2020

गया में दिव्यांगो के लिए नमस्ते कार्यक्रम

जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी के द्वारा नवाचार किया जा रहा है।कही सेल्फी स्पोर्ट तैयार किया गया है तो कही दिव्यांगो के लिए नमस्ते 

namaste-programe-for-handicap-gaya
गया। बिहार विधान सभा आम निर्वाचन 2020 के अवसर पर गया जिले के मतदाता को मतदान करने करने के लिए संदेश देने तथा निर्वाचन /मतदान संबंधी अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं पर मतदाताओं की राय जानने एवं मतदान करने के लिए उन्हें प्रेरित करने के उद्देश्य से जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी श्री अभिषेक सिंह द्वारा फेसबुक लाइव का आयोजन किया गया है, जिसमें जिला निर्वाचन पदाधिकारी गया द्वारा गया जिले के सभी मतदाताओं तथा पहली बार बने मतदाताओं को शुभकामनाएं एवं बधाई दिया है। इस फेसबुक लाइव में 9110 लोगों का रिच रहा है। जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी द्वारा फेसबुक लाइव में सभी जिला वासियों का स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के सबसे बड़े त्यौहार में सभी लोग जुड़े हुए हैं। मताधिकार के प्रति पूरा जिलावासी काफी गंभीर है। फेसबुक लाइव में उन्होंने बताया कि गया में प्रथम चरण का मतदान 28 अक्टूबर 2020 बुधवार को होगा तथा मतगणना 10 नवंबर 2020 को होगी। चार विधानसभाओं में मतदान सुबह 7:00 बजे से संध्या 6:00 बजे तक तथा शेष विधानसभा में मतदान सुबह 7:00 बजे से संध्या 4:00 बजे तक किया जाएगा। फेसबुक लाइव में मतदान ना देने से क्या फर्क पड़ेगा के प्रश्न के उत्तर में जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा कि प्रत्येक योग्य व्यक्ति को एक मत देने का अधिकार है । 1-1 मत कीमती है, हर मत क्षेत्र की व्यवस्था एवं विकास को परिवर्तित कर सकता है।  हम सब व्यवस्था एवं विकास को सुदृढ़ करने के लिए मतदान करें।  फेसबुक लाइव पर प्रश्न पूछा गया कि ऑनलाइन मतदाता सूची में नाम जोड़ने की क्या प्रक्रिया है? के प्रश्न पर जिला पदाधिकारी ने उत्तर दिया कि मतदाता सूची में नाम जोड़ने की सतत प्रक्रिया है। नामांकन के अंतिम दिन तक नाम जोड़ने की प्रक्रिया प्रारंभ की गई है। मतदान करने के बाद एनवीएसपी पोर्टल पर सर्च कर अपने डॉक्यूमेंट को ऑनलाइन नाम जोड़ने, उसमें संशोधन करने का कार्य इत्यादि मतदान की समाप्ति के बाद पुनः किया जा सकता है।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा नए मतदाता (यंग वोटर्स) को संदेश देते हुए कहा कि युवा देश के विकास को परिवर्तित कर सकता है। युवा के अंदर ऊर्जा एवं ताकत है उसके पास किसी को मोटिवेट/ प्रेरित करने तथा इनोवेटिव आइडिया होता है। पहली बार मतदाता बनने पर युवा मतदाता में काफी उत्साह एवं जोश रहता है। पहली बार मतदान करना एक गौरवपूर्ण कार्य होता है। उन्होंने संदेश दिया कि 28 अक्टूबर को युवा मतदाता अपने मतदान केंद्र पर जाएं और मतदान कर अपना फर्ज निभाएं। फेसबुक लाइव में प्रश्न पूछा गया कि दिव्यांग मतदाताओं के लिए मतदान केंद्र पर क्या व्यवस्था होगी। जिला पदाधिकारी ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग की प्राथमिकता है कि प्रत्येक मतदान केंद्र पर अच्छी सुविधा मतदाता को मिले। प्रत्येक मतदान केंद्र में रैंप, व्हीलचेयर के साथ-साथ वालंटियर होंगे, जो दिव्यांग मतदाता को अन्य मान्य सुविधा उपलब्ध कराएंगे। दृष्टिहीन मतदाताओं के लिए ईवीएम में ब्रेल लिपि की व्यवस्था है साथ ही साथ ब्रेल ईपिक की भी व्यवस्था है। उन्होंने बताया कि दिव्यांग मतदाताओं के लिए नमस्ते कार्यक्रम प्रारंभ किया जा रहा है जिसके अंतर्गत 28 अक्टूबर को मत देने के लिए उन्हें आमंत्रित किया जाएगा। फेसबुक लाइव में कोविड-19 के बचाव एवं सुरक्षा के लिए जानकारी देते हुए जिला पदाधिकारी ने कहा कि मतदान के 1 दिन पूर्व सभी मतदान केंद्रों को सैनिटाइज किया जाएगा। सामाजिक दूरी अनुपालन के लिए दो-दो गज की दूरी पर गोले बनाए गए हैं। हेल्पडेस्क में आशा/ एएनएम होंगी जो थर्मल स्क्रीनिंग के माध्यम से मतदाता का तापमान मापने का कार्य करेगी। तापमान अधिक होने पर पुनः जांच की जाएगी। दोबारा भी तापमान अधिक होने पर उन्हें मतदान के अंतिम घंटे में उन्हें मतदान करने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। सभी मतदान केंद्र में ग्लब्स, मास्क, सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है साथ ही मतदान कर्मियों के लिए मास्क, ग्लब्स, फेस शिल्ड, सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है। इस प्रकार सभी मतदान कर्मी तथा सभी मतदाता कोविड-19 से पूरी तरह सुरक्षित रहेंगे। 

मतदाताओं को लुभाने के लिए कार्रवाई करने के प्रश्न पर जिला पदाधिकारी ने बताया कि मतदान अमूल्य है। इसकी कोई कीमत नहीं है। इसे कुछ रुपए, साड़ी, कपड़ा इत्यादि देकर खरीदा नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा कि मतदान हमारी इज्जत है इसे हम बेच नहीं सकते। जो लोग धन, बल के माध्यम से मतदान एवं मतदाता को प्रभावित करना चाहते हैं उनके विरुद्ध प्रशासन द्वारा सख्त कार्रवाई की जा रही है। ऐसे लोगों को सबक सिखाने के लिए तथा अवैध नगद राशि, शराब, उपहार इत्यादि को जप्त कर उस पर कार्रवाई करने के लिए एसएसटी/ एफ़एसटी टीम सतत निगरानी कर रहा है। साथ ही जिले में माननीय प्रेक्षक द्वारा भी निगरानी की जा रही है। जिले में स्थापित चेक पोस्ट पर वाहनों की जांच नियमित रूप से की जा रही है। उन्होंने कहा कि नियंत्रण कक्ष पर स्थापित दूरभाष संख्या 0631 2222253 एवं 2222259 तथा सी -विजिल एप्स के माध्यम से लोग इस प्रकार का मामला प्रकाश में आने पर शिकायत कर सकते हैं कार्रवाई अवश्य होगी। उन्होंने मतदाताओं को बिना किसी प्रलोभन एवं निडरता के साथ मतदान करने का आह्वान किया। उन्होंने बताया कि नक्सल इलाके में पूरी सुरक्षा की व्यवस्था है। जिले में विकास के काफी कार्य किए गए हैं जिससे नक्शल का प्रभाव काफी हद तक कम हुआ है, फिर भी केंद्रीय अर्धसैनिक बल द्वारा नक्सल क्षेत्र में लगातार अभियान चलाए जा रहे हैं। कोई व्यक्ति अगर किसी वोटर को डराता या धमकाता है तो प्रशासन उसे निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। नक्सल क्षेत्र के मतदाता निर्भीक होकर मतदान करें। आपकी सुरक्षा के लिए पूरी व्यवस्था है। वीवीपैट के संबंध में उन्होंने बताया कि वीवीपैट ऐसी व्यवस्था है कि ईवीएम का बटन दबाने से आप जिसे मत देते हैं वीवीपैट पर उस प्रत्याशी का नाम एवं प्रतीक चिन्ह 7 सेकंड के लिए पर्ची के रूप में प्रिंट होता है। जिसे देखकर आप आश्वस्त हो सकते हैं कि जिस प्रत्याशी को आपने मत दिया है उसी प्रत्याशी को मत गया है। जिला पदाधिकारी ने गया जिला के मतदाताओं को संदेश दिया है कि आप निर्भिक होकर एवं पूरे उत्साह के साथ 28 अक्टूबर को मतदान करने जाएं आपके सुरक्षा एवं कोविड-19 संक्रमण से बचाव की पूरी व्यवस्था की गई है। उन्होंने महिला मतदाता को विशेष रूप से मतदान के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए पूरी व्यवस्था की गई है। उनके लिए अलग लाइन बनाया गया जाएगा। लगभग 450 मतदान केंद्रों पर सभी मतदान कर्मी महिलाएं होंगी साथ ही 450 मतदान केंद्र पर दो महिला मतदान पदाधिकारी की भी प्रतिनियुक्ति की गई है। मतदान केंद्रों पर शौचालय, पेयजल, विद्युत, शेड इत्यादि की भी व्यवस्था की गई है। उन्होंने मतदाताओं से अपील किया कि गया ज़िला के सभी मतदाता 28 अक्टूबर को निर्धारित समय पर मतदान केंद्र पर आएं और लोकतंत्र के सबसे बड़े त्यौहार में भाग ले।

कोई टिप्पणी नहीं: