बिहार : गुलनाज के हत्यारों को गिरफ्तार करो - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 17 नवंबर 2020

बिहार : गुलनाज के हत्यारों को गिरफ्तार करो

वैशाली जिले के चांदपुरा ओपी प्रभारी और देसरी थाना प्रभारी को निलंबित करो.गुलनाज के परिवार को मुआवजा और उसकी मां को सरकारी नौकरी दो...

demand-arrest-gulnaz-killer
पटना. आज कारगिल चौक के समीप शव रखकर प्रदर्शन किया गया.अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन की अनिता सिन्हा ने वैशाली जिला के देसरी की गुलनाज हत्याकांड की निंदा करते हुए सरकार से तत्काल कार्रवाई की मांग की है. ऐपवा की राष्ट्रीय महासचिव मीना तिवारी ने कार्रवाई की मांग करते हुए कहा कि पुलिस द्वारा अपराधियों को संरक्षण देना बंद होना चाहिए. उन्होंने बताया कि भाकपा माले और अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (ऐपवा) की एक टीम ने वैशाली जिला के देसरी प्रखंड की मृतक गुलनाज के घर जाकर उसके परिवार से मुलाकात की और आसपास के लोगों से भी बातचीत की. इस टीम में भाकपा माले नेता विशेश्वर यादव और जिला सचिव योगेंद्र राय व अन्य साथी शामिल थे. टीम को गुलनाज की अम्मी शैमुना खातुन ने बताया कि 30अक्टूबर की सुबह तीन लड़कों ने गुलनाज के साथ छेड़खानी की जिसका उसने विरोध किया. शैमुना के पड़ोस में रहने वाली सुमन देवी और सुमन देवी का बेटा सन्नी कुमार भी अपराधियों से मिले हुए थे.( इस घटना से पहले भी सुमन देवी ने उसे घर छोड़कर भाग जाने को कहा था जिससे गुलनाज ने साफ इंकार कर दिया था)शाम को जब वह कूड़ा फेंकने बाहर निकली तब उस पर किरासन तेल उड़ेल कर आग लगा दिया गया. 70%जल चुकी गुलनाज का पहले स्थानीय स्तर पर ईलाज शुरू हुआ फिर पटना के पीएमसीएच में कल 15 नंवबर को उसकी मृत्यु हो गई. शैमुना खातुन ने बताया कि 2017में उसके पति की मृत्यु हो गई तब से वह सिलाई का काम करके अपने बच्चों को पाल रही थी. वह सिलाई का काम करने रोज पटना सिटी आती है. उसके चार बच्चों (दो बेटियां और दो बेटे) में 20 वर्षीया गुलनाज सबसे बड़ी थी जिसका चार महीने बाद निकाह होने वाला था.विधवा शैमुना अपने मेहनत के बल पर अपने बच्चों को पाल रही थी. उसे न तो कोई पेंशन मिलता है न किसी अन्य योजना का लाभ मिलता है. ऐपवा महासचिव मीना तिवारी से बात करते हुए शैमुना ने कहा कि मुझे बस इंसाफ चाहिए और कुछ नहीं. इस पूरे मामले में अपराधियों के साथ पुलिस की मिलीभगत साफ दिखती है. पुलिस को दिए बयान में गुलनाज ने अपराधियों का नाम बताया लेकिन आज तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है. भाकपा माले नेता विशेश्वर यादव ने कहा कि यदि अपराधियों को तत्काल गिरफ्तार नहीं किया गया तो 18 नवंबर को सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा.


भाकपा माले और ऐपवा ने मांग की है कि

1.चांदपुरा ओपी प्रभारी और देसरी थानाध्यक्ष को तत्काल निलंबित किया जाए

2.सभी अभियुक्तों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए और स्पीडी ट्रायल कर सजा दी जाए.

3.शैमुना खातुन को सरकारी नौकरी और परिवार को मुआवजा दिया जाए.

कोई टिप्पणी नहीं: