गो रूर्बन यात्रियों की बस यात्रा शुरू - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 18 नवंबर 2020

गो रूर्बन यात्रियों की बस यात्रा शुरू

* भारत कालिंग कैंपस, पथरौटा गाँव, इटारसी में उद्घाटन सत्र का आयोजन किया गया..

go-rubarn-journy-starts
भोपाल (मध्यप्रदेश)। गो रूर्बन यात्रा के दूसरे दिन की शुरुवात सुबह 6 बजे की प्राथना से हुई। सभी प्रतिभागियों ने एक साथ मिल कर जय जगत गीत गाया। प्राथना के बाद सभी को 3 समूहों में बांट कर फील्ड विजिट पर भेजा गया। अहिंसक स्थानीय अर्थव्यवस्था को समझने के उद्देश्य से तीनों समूहों के लिए अलग अलग फील्ड चुनी गई, एक समूह को एक रेस्टोरेंट मालिक से मिलने भेजा गया जो पिछले 8-9 सालों से खेती किसानी कर रहे थे और अभी कुछ समय पहले ही रेस्टोरेंट शुरू किया है, दूसरे समूह को एक युवा किसान के पास भेजा जो फूलों की खेती करते हैं और तीसरे समूह को एक परिवार के पास भेजा जो अपनी आजीविका के लिए भंगार इखट्टा करते हैं। फील्ड विजिट से वापस आने के बाद सबने अपने अपने अनुभव साँझा किए।  गो रूर्बन यात्रा के उद्घाटन सत्र का आयोजन आज भारत कॉलिंग में किया गया जिसमें मुख्य रूप से सिस्टर सिल्विया पीटर, प्रज्ञान स्कूल के संचालक दर्शन तिवारी, एकता परिषद के राष्ट्रीय संयोजक अनीश कुमार, फिल्ममेकर आर वरुण, ईको क्रैडल की संचालक सौम्या जैन, अनंत मंडी से आरती रैगर और भारत कालिंग के संचालक संदीप महतो उपस्थित रहे। अनीश कुमार ने महात्मा गांधी के विचारों को सभी के साथ साँझा किया और इस यात्रा में उसका महत्व बताया। सिस्टर सिल्विया ने प्रेम और सद्भावना का संदेश देते हुए मानव और  प्रकृति के संबंध को बड़ी सहजता से समझाया। उद्घाटन सत्र के बाद सभी प्रतिभागी बस में बैठ कर गांधी ग्राम, चेड़का की और रवाना हुए। 3 घंटे का सफर तय करके यात्रा गांधी ग्राम पहुँची जहां उसका स्वागत सभी ग्रामवासियों द्वारा किया गया। आज रात सभी गांधी ग्राम में ही रुकेंगे और कल सुबह सलकनपुर के पास भिलाई गाँव की और प्रस्थान करेंगे।  गो रूर्बन एकता परिषद और अंश हैप्पीनेस सोसाइटी द्वारा शुरू की गई एक पहल है जिसका उद्देश्य ग्राम और शहर की बढ़ती दूरियों को कम करना और आपसी समझ बनाना है। गो रूर्बन द्वारा इससे पहले 7 शिविरों का आयोजन किया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: