सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 19 नवम्बर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 19 नवंबर 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 19 नवम्बर

पीड़ित मानवता की सेवा ही राजनीति का एकमात्र लक्ष्य होना चाहिए                                                 

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के जन्मदिवस पर युवा कांग्रेस एनएसयूआई ने लगाया रक्तदान शिविर।  

sehore news
सीहोर/ पीड़ित मानवता की सेवा ही राजनीति का एकमात्र लक्ष्य होना चाहिए यदि कोई जरूरतमंद है तो सभी को आगे आकर सेवा कार्य के लिए आगे आना चाहिए। एनएसयूआई जिलाध्यक्ष देवेंद्र ठाकुर ने बताया कि आज भारत की पूर्व प्रधानमंत्री स्व  इंदिरा गांधी के जयंती के अवसर पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारंभ इंदिरा जी के चित्र पर अथितियों ने माल्यापर्ण कर  किया। इस अवसर पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष बलवीर तोमर ने कहा कि रक्तदान हर युवा को करना चाहिये इससे अनजाने में किसी की जान बचाने का पुण्य कार्य आपके द्वारा हो जाता है ऐसे कार्यक्रम कांग्रेस पार्टी द्वारा आगे भी किये जायेंगे। गांधीवादी नेता ओम दीप ने कहा कि इंद्रा गांधी के नेतृत्व में भारत ने अभूतपूर्व प्रगति की है आज जो विकास दिख रहा है उन कार्यो की नींव इंद्रा जी ने ही रखी थी। युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजीव गुजराती ने युवाओ से अपील की है कि हर स्वस्थ युवा को रक्तदान करना चाहिए इस कार्य को करके मन मे अच्छा लगता है  हमारा संगठन ऐसे मानव सेवा के कार्यक्रम आगे भी चलाता रहेगा। इस अवसर पर युवा कांग्रेस एनएसयूआई के अड़तीस युवाओ ने रक्तदान किया।रक्तदान शिविर में जिला अस्पताल के डॉ पी एस अर्मो, पी एस परमार, अम्बर मालवीय ने सहयोग किया। इस अवसर पर बलवीर तोमर,ओमदीप साहब,नईम नवाब, रामप्रकाश चौधरी , विवेक राठौर ,लोकेंद्र वर्मा, तुलसी राठौर, गजराज परमार, आफताब सिद्दकी, ब्रजेश पाटीदार,धर्मेंद्र भिलाला, संतोष मालवीय,कपिल उपाध्याय,गजराज सिंह दरबार,दीपक सिसोदिया,राहुल गोस्वामी, सर्वेश व्यास, देवेन्द्र  ठाकुर,निशांत वर्मा,धर्मेंद्र भिलाला,लक्की सक्सेना,अनिल शर्मा, प्रिंस यादव , सुमित नारे, सोनू विश्वकर्मा,  मनीष मेवाड़ा, यश यादव,हरिओम सिसोदिया,विवेक परिहार,राहुल कुशवाह,रेहान नवाब, पुलकित पटेल, नवीन वर्मा, राहुल भावसार, राहुल सेन, यमन यादव, तनिष त्यागी, श्रीपाल मालवीय, मयंक लोधी, रवि सूर्यवंशी, अंकुश श्रीवास, मोनू राठौर आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे।       


सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री भारत सरकार श्री थावर चंद गेहलोत, आज सीहोर आएंगे


सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री भारत सरकार श्री थावर चंद गेहलोत 20 नवंबर 2020 को सीहोर आएंगे। जारी दौरा कार्यक्रम अनुसार मंत्री श्री गेहलोत 20 नवंबर 2020 को प्रात: 10 बजे कार द्वारा भोपाल से प्रस्थान कर प्रात: 10:30 बजे सीहोर पहुंचेंगे। जहां राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य एवं पुर्नवास संस्थान के निर्माणाधीन स्थल का निरीक्षण करेंगे। तत्पश्चात प्रात: 11 बजे सीहोर से उज्जैन के लिए प्रस्थान करेंगे।


12 दिसबंर को आयोजित होने वाली नेशनल लोक अदालत के संबंध में बैठक आज


अपर जिला न्यायाधीश एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री एसके नागौत्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि 12 दिसंबर 2020 को जिला एवं तहसील स्तर पर ऑफलाईन/ऑनलाईन नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया जाएगा। लोक अदालत में अधिक संख्या में प्रकरणों का निराकरण हो सके एवं नेशनल लोक अदालत का प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया में प्रचार-प्रसार के संबंध में 12 दिसंबर को बैठक आयोजित की जाएगी। बैठक न्यायालय परिसर स्थित एडीआर सेंटर भवन में दोपहर 12 बजे आयोजित होगी। बैठक में समस्‍त प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रितिनिधि आमंत्रित हैं।


“पोषित परिवार-सुपोषित म.प्र.“ के अन्तर्गत अति गंभीर कुपोषित बच्चों के परिवारों को मिलेगी प्रोत्साहन राशि


सुपोषित प्रदेश की संकल्पना को साकार करने के लिए कुपोषण जैसे गंभीर विषय पर समुदाय एवं परिवार की सहभागिता पर विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। इसके तहत ’पोषित परिवार-सुपोषित मध्यप्रदेश’ कार्यक्रम के अन्तर्गत अति गंभीर कुपोषण की श्रेणी में आने वाले बच्चों के परिवार को बच्चे के पोषण स्तर में उनके सक्रिय प्रयास से आयें सुधार के लिए प्रोत्साहित एवं सम्मानित किया जायेगा। प्रमुख सचिव, महिला-बाल विकास श्री अशोक शाह ने इस संबंध में सभी जिला कलेक्टर्स को पत्र लिख कर अवगत कराया है। यह प्रोत्साहन राशि एक परिवार को 200 रुपये प्रति किश्त की दर से दो किश्तों में 400 रूपये दी जायेगी। इसके तहत दो प्रावधान सुनिश्चित किये गए है। पहले प्रावधान में ऐसे पंजीकृत अति गंभीर कुपोषित बच्चे जिनका पोषण स्तर में अति गंभीर कुपोषण की श्रेणी से मध्य गंभीर कुपोषण की श्रेणी में आ गया हो, ऐसे परिवार को प्रोत्साहन की प्रथम किश्त की राशि देय होगी। दूसरे प्रावधान में ऐसे पंजीकृत अति गंभीर कुपोषित बच्चे जो मध्यम गंभीर कुपोषण की श्रेणी में आने के बाद सामान्य पोषण स्तर की श्रेणी में आ गए है, ऐसे परिवार को द्वितीय किश्त की राशि भी देय होगी। इसके अतिरिक्त बच्चे से संबंधित अन्य स्वास्थ्य सेवाओं जैसे बच्चे की उम्र अनुसार टीकाकरण सारणी का अनुपालन, 6 माह से 2 वर्ष की आयु हो उनके 6 माह के बाद बच्चे के ऊपरी आहार की शुरूआत एवं उसकी निरन्तरता का स्तर निर्धारित मानक अनुसार है या नहीं तथा परिवार द्वारा अपनाये जाने वाले स्वास्थ्य एवं पेषण व्यवहार अथवा शिक्षा के स्तर का भी आंकलन किया जायेगा। वर्तमान में प्रदेश के सभी जिलों में अति गंभीर कुपोषित बच्चों के समुदाय आधारित पोषण प्रबंधन कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है। इसके अन्तर्गत अति गंभीर कुपोषित बच्चों के चिन्हाकंन एवं पंजीयन के बाद 12 सप्ताह अथवा 3 माह तक सतत प्रयास कर उन्हें सामान्य पोषण स्तर पर लाया जाता है। इस दौरान बच्चों के परिवार को परामर्श देकर उनके सहयोग से बच्चों के पोषण एवं स्वास्थ्य स्थिति में सुधार का प्रयास किया जाता है। ’पोषित परिवार- सुपोषित मध्यप्रदेश’ में इन परिवारों का सम्मान किया जायेगा जिनके प्रयासों से पंजीकृत अति गंभीर कुषोषित बच्चों के पोषण स्तर में बदलाव परिलक्षित हो रहा है।


मध्यप्रदेश में गौ-केबिनेट के गठन का महत्वपूर्ण निर्णय, 22 नवम्बर को प्रथम बैठक

मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रयासों से कृषि केबिनेट के मिले थे अनेक लाभ, अब गौ पालकों के आर्थिक उत्थान का कदम

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में गौधन के संरक्षण और संवर्धन के लिए गौ-केबिनेट के गठन का निर्णय लिया है। इस केबिनेट में पशुपालन, वन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, राजस्व, गृह और कृषि विकास एवं किसान कल्याण विभाग को शामिल किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि गौ-केबिनेट की प्रथम बैठक गोपाष्टमी के दिन 22 नवम्बर को आगर-मालवा में गौ अभ्यारण में आयोजित की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में कृषि क्षेत्र के विकास और किसानों को आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने के लिए एकीकृत समेकित कृषि के महत्व को रेखांकित किया है। कृषि में खाद्यान्न के उत्पादन और कृषकों को फसलों का उचित मूल्य दिलाने के साथ गौ पालन की अहम भूमिका है। कृषि कार्य में संलग्न कृषकों को पशुपालन के लिए काफी समय मिलता है। गौ पालन की दिक्कतें दूर होंगी और इसे आर्थिक रूप से उपयोगी बनाने की दिशा में योजनाओं और कार्यक्रमों को गति मिलेगी। साथ ही गौधन के संरक्षण और संवर्धन के लिए उपायों को अपनाया जायेगा। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ही कृषि केबिनेट का गठन किया था। इस केबिनेट के निर्णयों पर अमल हुआ। कृषि क्षेत्र में उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि के साथ किसानों को शासन की योजनाओं का लाभ मिला। उन्हें आर्थिक रूप से काफी फायदा हुआ। ठीक इसी तरह गौ-केबिनेट के गठन से गौ-सेवकों, पशु पालकों और किसानों को फायदा होगा। मध्यप्रदेश में गौ-केबिनेट के गठन से पशुपालक, गौ-सेवकों, कृषकों और खेतिहर श्रमिकों के आर्थिक कल्याण की संभावनाएं बढ़ेंगी। भारतीय संस्कृति में गौ सेवा का प्रमुख स्थान है। आज भी लाखों परिवार घर में बनी पहली रोटी गौ माता को खिलाते हैं। गौ-माता के दूध से निर्मित घी का पूजा अनुष्ठान में विशेष महत्व है। मध्यप्रदेश सरकार ने गौ- शालाओं के विकास के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाएं हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गौ-केबिनेट के लिए आगर-मालवा जिले में स्थित गौ-अभ्यारण का चयन किया है। यह भारत में प्रारंभ होने वाला प्रथम गौ-अभ्यारण था। यह प्रदेश की महत्वपूर्ण उपलब्धि थी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीपावली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा के अवसर पर गोपाष्टमी गौ-अभ्यारण में मनाने की घोषणा की थी। मध्यप्रदेश में गौ-सेवकों को गौ-शालाओं के संचालन के लिए सहायता दी गई। अशक्त और अस्वस्थ गायों के लिए उपचार और पोषण की व्यवस्थाएं भी की गईं। गौ-सेवा आयोग के माध्यम से विभिन्न गतिविधियां आयोजित कर गौ- शालाओं के विकास के लिए सहयोग किया गया। मध्यप्रदेश में छह विभाग मुख्य रूप से गौ-केबिनेट निर्णयों के क्रियान्वयन को अंजाम देंगे। गाय के गोबर के कंडों का उपयोग भी किस तरह बढ़े, इस दिशा में कार्य योजना को लागू किया जाएगा। छह विभागों की सक्रियता से क्रियान्वयन के स्तर पर कठिनाई नहीं होगी। समन्वय से कार्य पूरे किए जाएंगे। वर्तमान में गौ-काष्ठ के निर्माण को प्रोत्साहन मिल रहा है। इस उत्पाद के विपणन के नये आयामों पर विचार किया जाएगा। इसी तरह गौ-दुग्ध से निर्मित अन्य वस्तुओं के विपणन के लिए भी प्रयास होंगे।  


नेशनल मीडिया अवार्ड के लिये प्रविष्टियां 20 नवम्बर तक आमंत्रित


भारत निर्वाचन आयोग द्वारा नेशनल मीडिया अवार्ड के लिये 4 श्रेणियों में 20 नवम्बर 2020 तक प्रविष्टियां आमंत्रित की गई हैं। मीडिया समूह की मतदाता जागरूकता अभियान की गुणवत्ता, कवरेज/मात्रा की सीमा, जनता पर प्रभाव के सबूत और कोई अन्य प्रासंगिक कारक संबंधी कार्यो के आधार पर प्रिन्ट, इलेक्ट्रॉनिक, रेडियो और सोशल मीडिया के क्षेत्र में विशेष कार्य करने पर यह पुरस्कार प्रदान किये जायेंगे। पुरस्कार के लिये प्रविष्टियाँ श्री पवन दीवान अवर सचिव (संचार) भारत निर्वाचन आयोग, निर्वाचन सदन, अशोका रोड, नई दिल्ली पिन कोड 110001 के पते एवं ईमेल media.election.eci@gmail.com और pawandiwan@eci.gov.in पर  20 नवम्बर 2020 तक पहुंच जाना चाहिये। प्रविष्टियों में नाम, पता, फोन, फैक्स नम्बर और ई-मेल एड्रेस अवश्य लिखा हो। प्रविष्टियाँ भेजने की सूचना मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय, अरेरा हिल्स भोपाल को भी दें। राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25 जनवरी, 2021 को यह पुरस्कार प्रदान किये जायेंगे।


30 नवम्बर तक बंद रहेंगी आठवीं तक की कक्षाएँ


कोविड-19 संक्रमण को दृष्टिगत राज्य शासन द्वारा निर्णय लिया गया है कि कक्षा 1 से 8वीं तक की कक्षाओं के लिए प्रदेश के समस्त शासकीय/अशासकीय स्कूल 30 नवम्बर, 2020 तक बन्द रहेंगे। पूर्व में जारी निर्देशों के अनुरूप डिजीटल मोड से लर्निंग कक्षाएं जारी रहेंगी। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा विभागीय समसंख्यक आदेश 12 अक्टूबर के अनुसार कक्षा 1 से 8वीं तक की कक्षाएँ 15 नवम्बर 2020 तक बंद रखे जाने एवं कक्षा 9 वीं से 12 वीं के विद्यार्थियों को शिक्षकों से मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिये माता-पिता/अभिभावकों की अनुमति से विद्यालय आने की अनुमति दी गई थी। कक्षा 9 वीं से 12 वीं तक की कक्षाएं विभागीय समसंख्यक आदेश 12 अक्टूबर के अनुसार यथावत संचालित रहेंगी।  


16 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई वर्तमान में कोरोना एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 96 है


मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान 16 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। सीहोर के फारेस्ट कालोनी, नेहरू कालोनी, स्वामी विवेकानंद कालोनी, शुगर फैक्ट्री चैराहा, दांगी स्टेट से 1-1 व्यक्ति की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। बुदनी के रेहटी अंतर्गत वार्ड नंबर 8 से 2 व्यक्ति, रेहटी थाना क्षेत्र 1 व्यक्ति पॉजीटिव आया है। श्यामपुर के रावणखेड़ा, मुगिसपुर एवं बरखेडी से 1-1 व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। नसरूल्लागंज के बालागांव एवं ग्राम कुडी से 1-1 व्यक्ति संक्रमित आया है वहीं इछावर के खेटिया, वार्ड 12 इछावर से 1-1 व्यक्ति की रिपोर्ट संक्रमित आई है। कुल एक्टिव/ पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 96 है। 08 को आईसोलेषन से रिकवर के होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। कुल रिकवर की संख्या 2113 है। 41 संक्रमितों की उपचार के दौरान मृत्यु हुई है। आज 454 सैम्पल लिए गए है।  सीहोर शहरी क्षेत्र से 51 सैम्पल लिए गए, नसरूल्लागंज 85, आष्टा से 100, इछावर से 53, श्यामपुर से 100 बुदनी से 65 सैम्पल लिए गए है।    आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है । सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम. आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 2250 है जिसमें से 41 की मृत्यु हो चुकी है 2113 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में एक्टिव/ पॉजीटिव की संख्या 96 है। आज 454 सैंपल जांच हेतु लिए गए। जांच के लिए अब तक भेजे गए कुल सेंपलों की संख्या 40756 है। कुल निगेटिव सेंपलों की संख्या 37981 है। आज 425 सेंपलों की जांच निगेटिव प्राप्त हुई है। कुल 454 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्टेट कार्यालय में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति या उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है।


सीहोर में कठपुतली से विज्ञान एवं तकनीकी संचार पर 5 दिवसीय कार्यशाला का शुभारंभ

सीहोर जिले के 55 प्रतिभागी ले रहे हैं कार्यशाला में भाग

sehore news
शहर में आज से शुरू हुई कठपुतली के माध्यम से विज्ञान संचार कार्यशाला में प्रतिभागियों को कठपुतली के माध्यम से विज्ञान, तकनीक एवं जनजागरूकता के मुद्दों पर बेहतर संचार और संवाद की कला सिखाई गई। कार्यशाला का शुभारंभ जिले के डीपीसी अनिल श्रीवास्तव ने किया। इस अवसर पर शिक्षा विभाग के सांख्यिकीय अधिकारी एचएस निमजे, स्वास्थ्य विभाग के जिला मीडिया समन्वयक शैलेष कुमार शैल, जिला कम्युनिटी मोबिलाइजर विंध्यवासिनी कुशवाह, अध्यापक बीएल मालवीय, विशेषज्ञ सुनील जैन तथा सर्च एंड रिसर्च डलवमपेंट सोसायटी की अध्यक्ष डा. मोनिका जैन तथा सचिव डॉ. अनिल सिरवैयां उपस्थित थे।  इस पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन सर्च एंड रिसर्च डवलपमेंट सोसायटी भोपाल द्वारा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार के सहयोग से किया जा रहा है। कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए डीपीसी श्री अनिल श्रीवास्तव ने कहा कि यह जानना रोचक है कि कठपुतली के माध्यम से किस तरह लोगों को जोड़ा जा सकता है तथा किस तरह जन-जागरूकता के विषयों का प्रचार-प्रसार किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि कठपुतली कला प्राचीन भारत में मनोरंजन का सषक्त माध्यम था। उन्होंने कहा कि लोक संचार के साधन भारतीय संस्कृति में विशेष महत्व रखते हैं। आज पूरी दुनिया कोरोना महामारी का सामना कर रही है और ऐसे में जन-जागरूकता के लिए लोक संचार के साधन का महत्व और बढ़ जाता है। उन्होंने प्रतिभागियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि सीहोर में इस आयोजन को एक अवसर के रूप में लें और पूरी लगन से कठपुतलियों को बनाकर संचार की कला को सीखें।  इससे पहले सर्च एंड रिसर्च डवलपमेंट सोसायटी की अध्यक्ष डॉ.. मोनिका जैन ने कार्यशाला में अगले पांच दिनों की गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पूर्व राष्ट्रपति और देश केमहान वैज्ञानिक डाॅ. एपीजे अब्दुल कलाम की प्रेरणा से सोसायटी विज्ञान की अलख जगाने का कार्य कर रही हैं। लोकसंचार के माध्यमों इसे सबसे ज्यादा प्रभावी हैं। उन्होंने कार्यशाला के उद्देश्यों की विस्तार से जानकारी दी। उपाध्यक्ष डाॅ. राजीव जैन ने बताया कि विज्ञान एवं तकनीक के क्षेत्र में कार्य करते हुए आज सोसायटी को दस वर्ष पूर्ण हो गए हैं।


गुब्बारे और रद्दी का उपयोग

कार्यशाला के पहले दिन विषय विशेषज्ञ सुनील जैन ने प्रतिभागियों को ग्लब्स पपेट (कठपुतली) बनाने का प्रशिक्षण दिया। प्रतिभागियों को गुब्बारे और रद्दी अखबार से ग्लब्स पपेट का बेस तैयार करना सिखाया। प्रतिभागियों ने पूरे उत्साह के साथ के इस काम को पूरा किया। इस दौरान श्री भटनागर ने प्रतिभागियों के सवालों के जवाब भी दिए। कठपुतली बनाने के लिए सामग्री सोसायटी द्वारा उपलब्ध कराई गई। सर्च एंड रिसर्चड डवलपमेंट सोसायटी के सचिव डॉ.अनिल सिरवैयां ने प्रतिभागियों से कहा कि वे विज्ञान संचार केवल जन-जागरूकता तक सीमित नहीं है। एक बेहतर विज्ञान संचारक के रूप में आप इस क्षेत्र में अपना कॅरियर भी बना सकते हैं। उन्होंने बताया कि भारत के ग्रामीण अंचलों में व्याप्त कुरीतियों और अध्ंाविश्वासों को दूर करने और आम जन में वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए विज्ञान संचारकों की महत्वपूर्ण भूमिका है लेकिन देश में विज्ञान संचारकों की बड़ी संख्या में कमी है। यदि प्रतिभागी विद्या में निपुण होते हैं वे इसे अपनी आजीविका का साधन भी बना सकते हैं। उन्होंने बताया कि कठपुतली जैसे लोक संचार माध्यमों में दक्ष और प्रशिक्षित कर्मियों के लिए मीडिया, पब्लिसिटी एवं विज्ञापन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। कार्यशाला में सीहोर जिले के शासकीय-अशासकीय कॉलेज एवं स्कूलों के शिक्षक, विद्यार्थी, आंगनबाड़ी-आशा कार्यकर्ता, कलाकर एवं लेखक भाग ले रहे हैं। कार्यशाला के दूसरे शुक्रवार को चमत्कारों की वैज्ञानिक व्याख्या की जाएगी। इसमें देश भर में तथाकथित लोगों द्वारा किए जा रहे विभिन्न चमत्कारों जैसे आग खाना, पानी गायब करना, हवा में उड़ना का प्रदर्शन कर उनके पीछे छिपे वैज्ञानिकों तथ्यों को बताया जाएगा ताकि प्रतिभागी इसके माध्यम से आमजन को अंधविश्वासों से मुक्ति पाने के लिए जागरूक कर सकें।


किसानों को पर्याप्त मात्रा में मिलेगा यूरिया


किसान कल्याण तथा कृषि विकास उपसंचालक श्री एसएस राजपूत ने जानकारी देते हुए बताया कि इस वर्ष रबी मौसम में 396600 हेक्टर क्षेत्र में बोनी करने का लक्ष्य रखा गया था जिसके विरूद्ध अभी तक 321120 हेक्टर क्षेत्र में बोनी हो चुकी है जो लक्ष्य का 81% है फसलों के अंतर्गत गेहूं 77%,  चना 104 प्रतिशत, मशूर 103, मटर, सरसों तथा अलसी की शत प्रतिशत बोनी हो चुकी है। बुधनी एवं नसरुल्लागंज में बारना तथा कोलार क्षेत्र में बोनी होना शेष है।  किसानों को यूरिया उर्वरक की आपूर्ति की जा रही है। इस वर्ष यूरिया उर्वरक का 69000 में लक्ष्य के विरुद्ध 45000 मेट्रिक टन की आवक हो चुकी है जो लक्ष्य का 65% है चल रही है। 20-25 दिन के बाद यूरिया की आवश्यकता होती है। उसी मान से कृषकों को यूरिया उपलब्ध कराया जा रहा है। गत दिवस जिले में रैक आई थी जिसमें से समितियों को यूरिया भेजा गया है। वर्तमान में यूरिया की कमी नहीं है।  जैसे जैसे किसानों की मांग रहेगी उसके अनुसार यूरिया की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।   

कोई टिप्पणी नहीं: