दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाएं चार मई से - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाएं चार मई से

cbsc-board-starts-fron-4th-may
नयी दिल्ली, 31 दिसंबर, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की कक्षा 10वीं और 12 वीं की बोर्ड परीक्षाएं चार मई से 10 जून के बीच आयोजित की जाएगीं जबकि प्रैक्टिकल मार्च में होंगे। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने बोर्ड परीक्षाएं देने वाले देशभर के लाखों छात्रों की अनिश्चितताओं को विराम लगाते हुए गुरुवार को परीक्षाओं की तिथियां घोषित की। इस बार बोर्ड परीक्षाएं चार मई से प्रारम्भ होकर 10 जून तक चलेगी जबकि प्रैक्टिकल एक मार्च से शुरू होगें। सीबीएसई जल्द ही परीक्षा की समय सारिणी भी जारी करेगा। बोर्ड परीक्षाओं के नतीजों की घोषणा 15 जुलाई से पहले की जाएगी। केंद्रीय मंत्री ने परीक्षाओं की तिथियां घोषित करते हुए कहा, "जैसा कि आप सभी जानते हैं, कोविड-19 महामारी के कारण छात्रों, शिक्षकों और स्कूलों को एक अभूतपूर्व और अनिश्चित स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। वर्तमान सत्र में, सभी शिक्षकों ने यह सुनिश्चित करने के लिए अथक परिश्रम किया है ताकि छात्रों को पढाई में कोई भी दिक्कत न हो। स्कूल प्रबंधन और प्रधानाचार्यों ने लॉकडाउन के तुरंत बाद, यह सुनिश्चित किया कि कक्षाएं बिना किसी बाधा के जारी रहें। शिक्षकों ने शिक्षण प्रक्रिया में छात्रों को हर संभव सहायता प्रदान की है। शिक्षकों ने कड़ी मेहनत करके नई तकनीक और शिक्षण के तरीके अपनाए। ऐसा परिवर्तन शायद ही कहीं देखा गया होगा। सरकार द्वारा पीएम ई-विद्या कार्यक्रम भी शुरू किया गया जिससे की डिजिटल माध्यम से सीखने के लिए एक मंच और सामग्री प्रदान की जा सके।"


उन्होनें कहा," शिक्षा के साथ सुरक्षा' के सिद्धांत का पालन करते हुए सीबीएसई हर छात्र की सुरक्षा और सुरक्षा के लिए विभिन्न उपायों को अपनाएगा। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि बोर्ड परीक्षाएं, जेईई और नीट की परीक्षाओं जैसी समान दक्षता के साथ आयोजित की जाएँगी। सीबीएसई द्वारा परीक्षाओं के समय छात्रों के लिए अनुकूल वातावरण सुनिश्चित करने के लिए साथ ही, छात्रों को पढाई की मूलभूत सुविधाओं के अन्तर के कारण उनकी पढाई प्रभावित न हो, इसके लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।" डॉ निशंक ने कहा, "मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि सीबीएसई, छात्रों के मूल्यांकन करने के लिए लिखित व प्रायोगिक परीक्षा आयोजित करके छात्रों और स्कूल को सभी सहायता प्रदान करेगा। इस क्रम में, परीक्षाओं की तैयारी के लिए लगभग चार महीने का समय छात्रों और स्कूलों के लिए उपलब्ध होगा। सीबीएसई ने यह भी निर्णय लिया है कि इस वर्ष, प्रायोगिक परीक्षाओं को कराने की अंतिम तिथि, संबंधित कक्षा की लिखित परीक्षाओं की अंतिम तिथि के सतुल्य होगी साथ ही यह भी तय किया गया है कि आगामी परीक्षाओं के लिए अधिक परीक्षा केंद्र बनाये जाएंगे ताकि छात्र परीक्षा केंद्रों तक आसानी से पहुंच सकें।" उन्होनें अभिभावकों, छात्र-छात्राओं एवं सभी हितधारकों से आग्रह किया कि वे यह सुनिश्चित करने के लिए कि परीक्षाओ के लिए छात्रों के पास एक सुरक्षित, तनाव मुक्त और सुविधाजनक वातावरण तैयार हो सके एक साथ मिल कर काम करें। यदि कोई भी छात्र तनाव महसूस करता है तो वह ‘मनोदर्पण’ पोर्टल के साथ-साथ टोल फ्री नंबर 844-844-0632 का उपयोग कर सकता है। केंद्रीय मंत्री ने विश्वास दिलाया कि समय-समय पर सीबीएसई स्कूलों, छात्रों और अभिभावकों द्वारा परीक्षाओं के सफल आयोजन के लिए और छात्रों और हितधारकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए दिशानिर्देश जारी करेगा और इन दिशानिर्देशों का सभी संबंधितों द्वारा सख्ती से पालन किया जाएगा। उन्होंने अंत में सभी छात्रों को परीक्षाओं के लिए शुभकामनाएं दीं और उन्हें बेफिक्र होकर तैयारी करने के लिए प्रेरित किया।

कोई टिप्पणी नहीं: