बिहार में सस्ता हुआ करोना जांच, अब चुकानी होगी आधी कीमत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 2 दिसंबर 2020

बिहार में सस्ता हुआ करोना जांच, अब चुकानी होगी आधी कीमत

covid-test-cheep-in-bihar
पटना : बिहार में जैसे-जैसे ठंड का कहर बढ़ रहा है। वैसे वैसे एक बार फिर से कोरोना तेजी से वापस आ रहा है। बिहार में हर रोज लगभग 1000 मरीज कोरोना संक्रमित पाए जा रहें हैं। इस बीच बिहार वासियों के लिए थोड़ी सी राहत की खबर यह है कि राज्य के अंदर कोरोना जांच के लिए सबसे अधिक विश्वसनीय माने जाने वाला आरटीपीसीआर जांच अब पहले के मुकाबले आधे दाम में होगा। बिहार में कोरोना का आरटीपीसीआर जांच सस्ता हो गया है। इसको लेकर बिहार के नीतीश सरकार ने आदेश जारी कर दिया है। बिहार सरकार ने निजी लैब में कोरोना के आरटीपीसीआर टेस्ट का रेट 800 तय किया है। वहीं अगर घर से सैंपल देना चाहते हैं तो तीन सौ अतिरिक्त देना होगा। यानी घर से सैंपलिंग कराने पर टेस्ट का खर्च 1100 रुपये होगा। इसके अलावा वैक्सीन को लेकर भी बिहार में तैयारी शुरू हो गई है। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि कोरोना महामारी से बचाव को लेकर अगले कुछ महीनों में वैक्सीन के आने की उम्मीद है। इसके समुचित तरीके से वितरण, ट्रांसपोर्टेशन व टीकाकरण को लेकर प्रखंड स्तर तक टीमों का गठन किया जाएगा। मंत्री ने कहा कि कोरोना नियंत्रण को लेकर बिहार दुनिया में मॉडल बन चुका है। बिहार में कोरोना को बहुत हद तक नियंत्रित किया गया। बिहार में रिकवरी रेट दुनिया में सबसे आगे है जो करीब 97.13 फीसदी है। देश के बड़े राज्यों की तुलना में 0.5 फीसदी मृत्यु दर है। आबादी की दृष्टि से बिहार दूसरा बड़ा राज्य, जबकि जांच को लेकर यूपी के बाद दूसरे नंबर पर है।

कोई टिप्पणी नहीं: