विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 12 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 12 दिसंबर 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 12 दिसंबर

बीएलओ सुपरवाईजरेां की बैठक सम्‍पन्‍न 


vidisha-news
1 जनवरी 2021 को जिनकी उम्र 18 वर्ष पूर्ण होने जा रही है उन सभी मतदाताओं के लिए कल रविवार को एवं आगामी शनिवार रविवार को मतदान केंद्रों पर विशेष कैंपेनिंग की जाकर मतदाता सूची में नाम जोड़े जाने के विशेष अभियान के तहत आज अनुविभागीय अधिकारी एवं निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी विधानसभा क्षेत्र 144 विदिशा के बीएलओ सुपरवाइजर की बैठक आयोजित की गई। सुपरवाइजर को पाबंदी की गई कि प्रत्येक बीएलओ अपने क्षेत्र में आने वाले ऐसे 18 वर्ष के मतदाताओं से उनके फॉर्म प्राप्त करें तथा मतदाता सूची में उनके नाम सम्मिलित कराए जाएं मतदान केंद्रों पर 24 दिसंबर तक  नाम जोड़े जाने हेतु फॉर्म जमा कराए जा सकते हैं निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी या सहायक निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी तहसीलदार के कार्यालय में भी फॉर्म जमा कराने की व्यवस्था है। अभियान में मतदाताओं से अपील की जा रही है कि वह स्वस्थ प्रजातंत्र के लिए आगे आए और मतदाता सूची में अपना नाम जुड़ा है तथा अपना वोटर आईडी कार्ड प्राप्त करें।

सफलता की कहानी : गर्ल्स एजुकेशन को बढावा देने हेतु बैक टू बुक अभियान 

sehore news
नीति आयोग द्वारा विदिशा जिले को आकांक्षी जिलो की सूची में शामिल किया गया है। नीति आयोग के निर्देशानुसार विकास संबंधी सूचकांको पर शिक्षा, स्वास्थ्य, वित्तीय समवेशन, कृषि तथा इंफ्रास्ट्रक्चर आयामो पर सतत कार्य किया जा रहा है। जिले में शिक्षा तथा स्वास्थ्य के क्षेत्र के निर्धारित सूचकांको की प्राप्ति के लिए नीति आयोग द्वारा पिरामल संस्थान को दायित्व सौपा गया है। संस्थान की टीम द्वारा शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए किए गए नवाचार से गर्ल्स एजुकेशन में आशातीत वृद्वि हुई है।  पिरामल संस्थान के द्वारा जिले की दो सौ शालाओं को डेमो शालाओ के रूप में चयनित कर यहां शिक्षा विभाग के अमले के साथ मिलकर शैक्षणिक गुणवत्ता सुधार हेतु सतत प्रयास किए जा रहे है। चयनित डेमो शालाओं में प्रार्थना सभा, बालसभा, पुस्तकालय एवं शाला परिसर को आकर्षक बनाने के कार्यो को विगत दो वर्षो से मूर्तरूप दिया जा रहा है। कोरोना वायरस कोविड 19 संक्रमण की वजह से शालाओ का संचालन बंद होने पर बच्चो खासकर छात्राओं में शैक्षणिक नुकसान की भरपाई हेतु संस्थान द्वारा गर्ल्स एजुकेशन बैक टू बुक अभियान सितम्बर माह से शुरू किया गया है। गर्ल्स एजुकेशन बैक टू अभियान तहत किए जा रहे क्रियान्वयन में प्रत्येक पंचायत से स्वंयसेवको का चयन किया गया है जिसमें बारहवी पास लड़कियों को प्राथमिकता दी गई है। चिन्हांकित स्वंयसेवको को वर्चुअल तरीको से प्रशिक्षित कर कार्य हेतु अभिप्रेरित किया गया है। राज्य द्वारा संचालित हमारा घर-हमार विद्यालय कार्यक्रम में चयनित स्वंयसेवक अपना योगदान दे रहे है। जिले के दूरस्थ क्षेत्रो जहां विविधकारणवश यदि शिक्षक नियमित नही जा पा रहे है तो उन क्षेत्रों में स्वंयसेवकों के माध्यम से विद्यार्थियो को पुस्तको से जोड़ने में सहयोग लिया जा रहा है। पिरामल संस्थान के द्वारा जिले में 210 स्वंयसेवक चिन्हांकित कर उन्हें प्रशिक्षित किया जा चुका है। जिनके माध्यम से सातो विकासखण्ड के 128 ग्रामों के कुल 1310 छात्रो तक पिरामल संस्थान की टीम ने अपनी पहुंच बनाई है।

जिले में रेत की 16 वैध खदाने 

विदिशा जिले में रेत उत्खनन की कुल 16 वैध खदाने है जिनका कुल रकवा 38.126 हेक्टेयर है। जिला खनिज अधिकारी श्री मेहताब सिंह रावत ने बताया कि सर्वाधिक कुरवाई तहसील में सात, सिरोंज में तीन, बासौदा एवं नटेरन में दो-दो, शमशाबाद एवं लटेरी में क्रमशः एक-एक रेत उत्खनन की वैध खदान है। विकासखण्डवार जिन ग्रामो मेंं वैध रेत उत्खनन कार्य हेतु  नियमो के तहत आवंटित की गई है कि जानकारी देते हुए जिला खनिज अधिकारी श्री रावत ने बताया कि कुरवाइ्र तहसील में ग्राम सिरावली खसरा क्रमांक 17 रकवा दो हेक्टेयर, ग्राम लचायरा में खसरा क्रमांक तीन रकवा एक हेक्टेयर, ग्राम विशनपुर में खसरा क्रमांक 129, 239 कुल रकवा पांच हेक्टेयर, ग्राम दुनातर खसरा क्रमांक एक रकवा एक हेक्टेयर, ग्राम देवली खसरा क्रमांक 159, रकवा 1.881 हेक्टेयर, ग्राम बोथीघाट खसरा क्रमांक 82 रकवा एक हेक्टेयर, सिरोंज तहसील के ग्राम झागर में खसरा क्रमांक 276 रकवा दो हेक्टेयर, ग्राम ढिमरोली खसरा क्रमांक 163 रकवा दो हेक्टेयर, ग्राम बैरागढ़ खसरा क्रमांक 273 रकवा दो हेक्टेयर, बासौदा तहसील के ग्राम खरतरी में खसरा क्रमांक 223 रकवा पांच हेक्टेयर एवं ग्राम गोहची में खसरा क्रमांक 295 रकवा एक हेक्टेयर, नटेरन  तहसील के ग्राम आमखेडासूखा में खसरा क्रमांक 114 रकवा पांच हेक्टेयर एवं ग्राम जोहद में खसरा क्रमांक एक रकवा 1.045 हेक्टेयर इसके अलावा शमशाबाद  तहसील के ग्राम जीरापुरा में खसरा क्रमांक 241 एवं 299 का कुल रकवा पांच हेक्टेयर, लटेरी तहसील के ग्राम दनवास में खसरा क्रमांक 24 रकवा दो हेक्टेयर रेत उत्खनन हेतु नियमानुसार वैध घोषित किया गया है। 

नेशनल लोक अदालत में 2191 प्रकरणों के निराकरण का निराकरण हुआ

विदिशा जिले में आज सम्पन्न हुई नेशनल लोक अदालत हेतु कुल 26 खण्ड पीठो के समक्ष न्यायालयों के 5978 प्रकरण तथा प्रीलिटिगेशन के 26463 प्रकरण निराकरण हेतु प्रस्तुत किए गए थे। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं अपर जिला न्यायाधीश श्री उपेन्द्र प्रताप सिंह ने नेशनल लोक अदालत में निराकृत प्रकरणों व समझौता राशि की जानकारी देते हुए बताया है कि नेशनल लोक अदालत में न्यायिक एवं राजस्व न्यायालयों के 1497 प्रकरण व प्रीलिटिगेशन के 694 प्रकरणो का निराकरण हुआ है समझौता राशि 55592669 है।  नेशनल लोक अदालत आयोजन में कोविड 19 के संबंध में केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन सुनिश्चित किया गया था। जिला न्यायालय परिसर में एक सादे कार्यक्रम में नेशनल लोक अदालत का शुभांरभ जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री श्यामाचरण उपाध्याय द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर किया गया। जिला न्यायाधीश द्वारा इस अवसर पर कोविड 19 से बचाव हेतु उपस्थितजनों को मास्क वितरित किए गए है।  शुभांरभ कार्यक्रम में विशेष न्यायाधीश (एट्रोसिटी), श्रीमती माया विश्वलाल, कुटुम्ब न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश श्री मोहन पी तिवारी, अपर जिला न्यायाधीश श्री उपेन्द्र प्रताप सिंह, श्री आत्मा राम टांक और सुश्री प्रतिष्ठा अवस्थी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री संदीप कुमार जैन, जिला रजिस्ट्रार डॉ रविकांत सोलंकी, न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री राकेश सनोडिया, श्री कृष्णा अग्रवाल, श्रीमती बार्बी जुनेजा, सुश्री आरती आर्य तथा जिला अभिभाषक संघ के पदाधिकारी एवं सदस्यगणों के अलावा जिला न्यायालय में पदस्थ कर्मचारीगण, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण विदिशा का स्टाफ सहित पैरालीगल वांलिटियर्स भी मौजूद थे।  

आयुष्मान भारत निरामयम योजना  हेल्थ कार्ड उपलब्ध कराने का कार्य अभियान के रूप में

आयुष्मान भारत निरामयम योजना के तहत एसईसीसी 2011 के डाटा में उपलब्ध हितग्राहियों को हेल्थ कार्ड उपलब्ध कराने के लिए जिले में विशेष अभियान का क्रियान्वयन खासकर ग्रामीण क्षेत्रो के हितग्राहियों हेतु किया जा रहा है।  जिला पंचायत की सीईओ श्रीमती नीतू माथुर ने बताया कि अभियान के तहत जिले के चिन्हित हितग्राहियों को समय पर हेल्थ कार्ड की उपलब्धता सुनिश्चित हो इसके लिए विडाल हेल्थ इंश्योरेन्स प्रायवेट लिमिटेड द्वारा इसका कार्य किया जा रहा है। कंपनी जिला अस्पताल, सिविल अस्पताल क्रमशः बासौदा, सिरोंज, मेडीकल कॉलेज विदिशा में कार्य कर रही है। जिले की सभी सीएससी कुल 399 केन्द्रों पर हेल्थ कार्ड बनाए जा रहे है। सीएससी द्वारा हेल्थ कार्ड बनाने के लिए प्रति कार्ड राशि तीस रूपए ली जा रही है।  हेल्थ कार्ड बनाने के लिए पात्र हितग्राही उज्जवला योजना, पीएमएवायजी, एसआरएलएम के सदस्य, खाद्यान्न पर्ची के हितग्राही एवं नया सबेरा के हितग्राही पूर्व से ही लाभांवित है। जिनका नाम एसईसीसी डाटा 2011 की सूची में दर्ज है। जिन हितग्राहियों के हेल्थ कार्ड नही बने है की सूची एनआईसी द्वारा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायतो को तीन दिवस में उपलब्ध कराने हेतु निर्देशित किया गया हैं योजना का लिंक bis.pmjay.gov.in    है। जिस पर लिंक के बाद समग्र नम्बर डालने से हितग्राही का एसईसीसी नम्बर प्रदर्शित किया जाता है।  जिपं सीईओ श्रीमती माथुर ने समस्त राजस्व अधिकारियों, जनपदो के सीईओ तथा बीएमओ के अलावा एसआरएलएम के खण्ड स्तरीय प्रबंधकों को पत्र प्रेषित कर हेल्थ कार्ड बनाने हेतु जनपद क्षेत्रों की ग्राम पंचायतों में कार्यरत ग्राम रोजगार सहायको को निर्देशित करें ताकि जिन हितग्राहियों के समग्र आईडी एवं आधार कार्ड नम्बर उपलब्ध है उन हितग्राहियों के हेल्थ कार्ड बनाने की कार्यवाही शीघ्र पूरी हो सकें।
                  
17 सेम्पल पॉजिटिव पाए गए 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केएस अहिरवार ने बताया कि शनिवार 12 दिसम्बर को कोरोना वायरस कोविड 19 के कुल 17 सेम्पल पाजिटिव पाए गए है जिसमें विदिशा विकासखण्ड में छह, सिरोंज में सात, कुरवाई में तीन तथा लटेरी विकासखण्ड में एक सेम्पल पॉजिटिव पाया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: