मुंगेर : घटना के विवादों से घिरी लिपि सिंह बनी सहरसा की पुलिस कप्तान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 1 जनवरी 2021

मुंगेर : घटना के विवादों से घिरी लिपि सिंह बनी सहरसा की पुलिस कप्तान

lipi-singh-sp-in-controversy
अरुण कुमार ( बेगूसराय ) मुंगेर में पुलिस फायरिंग को लेकर विवादों में आई लिपि सिंह को सहरसा का नया एसपी बनाया गया है।सहरसा के एसपी राकेश कुमार को कैमूर का नया एसपी बनाया गया है।


चुनाव आयोग ने दिया था हटाने का निर्देश 

मुंगेर में पुलिस फायरिंग के बाद मुंगेर जल रहा था।विरोध के बीच चुनाव आयोग ने कड़ी कार्रवाई की। 29 अक्टूबर को मुंगेर एसपी लिपि सिंह को हटाने का आदेश भी दिया।चुनाव आयोग ने इस पूरे मामले की जांच मगध डिवीजन के कमिश्नर असंगबा चुबा से कराने का निर्देश दिया था।इसके बाद से लिपि सिंह पोस्टिंग की प्रतिक्षा में थी।जिसके बाद नए साल पर लिपि सिंह को सहरसा का एसपी बनाया गया है।


लिपि सिंह के खिलाफ आमजनों में था आक्रोश

आगे आपको बताते चलें कि बिहार में विधानसभा चुनाव मुंगेर में प्रतिमा विसर्जन के मामले ने तूल पकड़ा था।पुलिस की ओर से लाठीचार्ज से लेकर फायरिंग में कई लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे और एक श्रद्धालु अनुराग पोद्दार की मौत भी हो गई थी। जिसके बाद वहां की एसपी लिपि सिंह के खिलाफ घोर प्रदर्शन शुरू हो गए थे।लोगों ने काफी प्रदर्शन किया,थाने के ऊपर हमला किया गया पुलिस की गाड़ियां जलाई गईं शहर में अव्यवस्था की स्थिति पैदा हो गई थी।लोगों का आरोप था कि लिपि सिंह ने जानबूझकर पुलिस फायरिंग कराई थी।


लिपि सिंह 2016 बैच की है अधिकारी

आपके जानकारी हेतु यह भी बता दूँ कि 2016 बैच की आईपीएस लिपि सिंह बिहार के नालंदा जिला की रहने वाली है और राजनीतिक परिवार से ताल्लुकात रखती हैं।उनके पिता आरसीपी सिंह भी एक आईएएस अफसर रह चुके हैं और वर्तमान में राज्यसभा सांसद के साथ-साथ जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हाल के दिनों में बने हैं।आरसीपी सिंह को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बेहद करीबी माना जाता है और वे पार्टी का चुनावी प्रबंधन भी देखते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: