मधुबनी : कृषि कानून वापस लेने को माले का विशाल मानव श्रृंखला - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 30 जनवरी 2021

मधुबनी : कृषि कानून वापस लेने को माले का विशाल मानव श्रृंखला

  • #भाकपा (माले) सहित महागठबंधन के दलों ने जिला समाहरणालय के समक्ष सहित मालेनगर के सामने बाली मुख्य सड़क एवं कैटोला चौक पर बनाया मानव श्रृंखला।
  • #तीनो कृषि कानून वापस ले और किसानों पर दमन बंद करे मोदी सरकार।
  • #भाजपाई एजेंट दीप सिद्धू द्धारा पुलिस की मिलीभगत से अराजकता कराकर आन्दोलन को बदनाम करने की साज़िश रचने के जुर्म में प्रधानमंत्री मोदी अपने गृह मंत्री अमित शाह से इस्तीफा ले।  - माले ।

cpi-ml-human-chain-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) माले सहित महागठबंधन के आवाहन पर आयोजित मानव श्रृंखला में मधुबनी समाहरणालय,मालेनगर लहेरियागंज वह कैटोला चौक पर सैकड़ों की संख्या में माले कार्यकर्ताओं ने भागिदारी किया। जिला समाहरणालय के समक्ष में भाकपा-माले के ओर से जिला सचिव ध्रुब नारायण कर्ण, अनिल कुमार सिंह, दानी लाल यादव, शंकर पासवान, राजेंद्र यादव व गणेश यादव ने नेतृत्व किया।मालेनगर लहेरियागंज में मुख्य सड़क पर माले के बिशंम्भर कामत तो कैटोला चौक पर माले के सिंहेश्वर पासवान ने नेतृत्व किया। जिला समाहरणालय के समक्ष मानव श्रृंखला में भाग ले रहे माले के जिला सचिव ध्रुब नारायण कर्ण ने कहा कि मोदी सरकार जब तक तीनों कृषि कानून वापस नहीं लेगी,तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने आगे कहा कि 26 जनवरी को दिल्ली सहित संपूर्ण देश में लाखों किसानों ने शांतिपूर्ण तरीके से ट्रेक्टर मार्च निकाला। आंदोलन को बदनाम करने के लिए मोदी सरकार ने एक साज़िश के तहत भाजपाई एंजेट दीप सिद्धू के जरिए अराजकता करवाया। इस घिनौना हरकत कराने के जुर्म में प्रधानमंत्री मोदी अपने गृह मंत्री अमित शाह से इस्तीफा ले। किसानों पर से मुकदमे वापस ले। माले एवं महागठबंधन किसान आंदोलन के समर्थन में आंदोलन करता रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: