मधुबनी : इप्टा ने शहादत दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 30 जनवरी 2021

मधुबनी : इप्टा ने शहादत दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया

ipta-teibute-mahatma-gandhi
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी भारतीय जननाट्य संघ (इप्टा) देश भर में महात्मा गांधी की शहादत दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया | इसी कड़ी में इप्टा मधुबनी इकाई भी महात्मा गांधी के शहादत दिवस पर मधुबनी रेलवे स्टेसन परिशर में बापू को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए एक जनवादी गीत का  कार्यक्रम किया गया, कार्यक्रम में जनवादी गीतों की प्रस्तुतियों के साथ -साथ अपराह्न 11 बजे से लेकर 11 बजकर 2 मिनट तक उस स्थल पर उपस्थित सभी आम नागरिक दो मिनट के लिए सामूहिक मौन रखकर बापू को श्रद्धांजलि अर्पित किये, मधुबनी इप्टा के सचिव अर्जुन राय ने कहा कि गांधी जी अहिंसा के प्रतीक थे अाज ही के दिन कहने को तो साल के बांकी दिनों जैसा ही था लेकिन शाम होते होते यह इतिहास में सबसे दुखद दिनों में शुमार हो गया, चुकी 30 जनवरी 1948 को शाम को नाथुराम गोडसे ने महात्मा गांधी जी की जान ले ली, तो वही इप्टा  मधुबनी के वरिष्ठ रंगकर्मी चन्दन मिश्रा ने कहा कि गांधी जी का सबसे बड़ा जूर्म यह था कि वें सावरकर की हिन्दू राष्ट्रवादी रथ य़ात्रा के लिए सबसे बड़ा रोड़ा बन गये थे | जनवादी गितों की प्रस्तुती में कृष्णा कुमार, रौशन कुमार, रमेश कुमार, धिरज मिश्रा, राकेश ठाकुर, रंजीत राय, राहुल ठाकुर, चन्दन साफी, राकेश कुमार, मिथिलेश मैथिल, विजय कुमार व अन्य लोग थे |

कोई टिप्पणी नहीं: