बेगूसराय : भारी पर रही हेमरा मध्य विद्यालय की सिंघम प्राद्यपिका माला कुमारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 22 जनवरी 2021

बेगूसराय : भारी पर रही हेमरा मध्य विद्यालय की सिंघम प्राद्यपिका माला कुमारी

  • तानाशाह प्रधान के भय से शिक्षा विभाग के आलाधिकारी भी कार्यवाई करने से डरी हुई है।

school-principle-lady-singham
अरुण कुमार ( बेगूसराय) संकुल समन्वयक मध्य विद्यालय हेमरा के आवेदन,हेमरा विद्यालय के सभी सहायक शिक्षक,संकुल के सभी प्रधान एवं सहायक शिक्षकों के प्राप्त आवेदन के आलोक में बिहार शिक्षा परियोजना परिषद,पटना,के राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी किरण कुमारी के पत्रांक 2893,दिनांक 22/06/2020 के द्वारा जिला शिक्षा पदाधिकारी,एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारी एसएसए,बेगूसराय को वस्तु स्थिति की जांच कर एक सप्ताह के अंदर कार्यवाही करने को कहा गया। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी,प्रारंभिक शिक्षा एवं सर्व शिक्षा अभियान,बेगूसराय के पत्रांक 927,दिनांक 30/06/2020 को प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी,बेगूसराय को एक सप्ताह के अंदर विद्यालय का स्थलीय दौरा करते हुए बिंदुवार जांच प्रतिवेदन स्पष्ट मंतव्य के साथ अधोहस्ताक्षरी कार्यलय को उपलब्ध कराने का आदेश दिया गया। प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी,बेगूसराय के पत्रांक 313 दिनांक 07/07/2020 को संकुल संसाधन केन्द्र मध्य विद्यालय हेमरा का जांच किया गया। जिसमें प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी बेगूसराय द्वारा स्पष्ट कहा गया कि समन्वयक के द्वारा किये गए खर्च से संबंधित अभिश्र्व,कार्यवाही तैयार कर रखा गया था। परन्तु संचालक के द्वारा हस्ताक्षर नहीं किया गया था।संचालक अभिश्र्व,कार्यवाही पंजी एवं रोकड़ पंजी पर हस्ताक्षर करने के लिये कहा गया तो संचालक ने इन सभी अभिलेखों पर हस्ताक्षर से साफ इंकार कर दिया।प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सुनील कुमार राय,बेगूसराय जांच प्रतिवेदन में मध्य विद्यालय हेमरा के संचालक सह प्रधानाध्यापक का स्थानांतरण दूसरे विद्यालय में करते हुए किसी दूसरे विद्यालय के प्रधानाध्यापक का पदस्थापन मध्य विद्यालय हेमरा में करने का अनुशंसा किया गया।ताकि संकुल का कार्य ससमय संचालित हो सके। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी,एसएसए बेगूसराय राज कुमार शर्मा के पत्रांक 1316 दिनांक 07/08/2020 को प्रधानाध्यापिका मध्य विद्यालय हेमरा पर नियमानुकूल कार्यवाई करने का अनुसंशा किया गया। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी,स्थापना शिक्षा विभाग बेगूसराय सुमन शर्मा के ज्ञापांक 2050 दिनांक 25/08/2020 के द्वारा मध्य विद्यालय हेमरा के प्रधानाध्यपिका सह संकुल संचालिका से स्पष्टीकरण किया गया। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना शिक्षा विभाग, बेगूसराय सुमन शर्मा के पत्रांक 2200,दिनांक 14/09/2020 एवं ज्ञापांक 2437,दिनांक 09/ 10/ 2020 के पत्र के आलोक में दिनांक 25/09/2020 एवं 16/10/2020 को प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी बेगूसराय के प्रधानाध्यापक मध्य विद्यालय हेमरा एवं संकुल समन्वयक मध्य विद्यालय हेमरा अपना-अपना पक्ष प्रतिवेदन साक्ष्य सहित जमा किये।जिसमे प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी बेगूसराय प्रमोद कुमार सिंह के पत्रांक 454,दिनांक 16/10/2020 को अपने जाँच प्रतिवेदन में ग्रामीण स्तर से प्राप्त प्रतिवेदन में प्र.अ एवं विद्यालय में कार्यरत शिक्षक का आपस मे बनाव नही है। मध्य विद्यालय हेमरा के सभी शिक्षकों के द्वारा भी प्र.अ पर आरोप लगाया गया कि अनावश्यक दवाब एवं मानसिक रूप से प्रतारीत करते हैं।संकुलाधीन सभी प्र.अ एवं शिक्षको के द्वारा प्रतिवेदन में सभी ने समन्वयक के कार्यो की सराहना की।परन्तु संचालक के कार्य शैली, व्यवहार से सभी असंतुष्ट होने की बात बतायी। मध्य विद्यालय हेमरा,बेगूसराय का शिक्षकोपस्थिति पंजी का भी अवलोकन किया गया।जिसमें शैक्षणिक सत्र के बीच मे ही हस्ताक्षर बनाने का पृष्ठ बचा हुआ रहने के बावजूद भी बदल दिया गया।पूर्व पंजी में कई जगहों पर उपस्थिति में कटिंग एवं वाईटनर लगा हुआ पाया गया।जो किसी फेर-बदल का धोतक है। पूर्व के संकुल समन्वयक के साथ भी वर्तमान प्र.अ का कार्यकलाप संतोष नहीं रहकर हमेशा विवादित रहा है। प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी,बेगूसराय भी तदनुसार  यथोचित कार्यवाई करने की अनुसंशा डीपीओ,स्थापना सुमन शर्मा को किये। दिनांक 16/10/2020 को अंतिम सुनवाई पूरी हो जाने के बाद भी आज तक विभागीय कार्यवाही नहीं कि गयी ।जबकि डीपीओ स्थापना सुमन शर्मा के द्वारा कहा गया कि वे अपने स्तर से जांच कर एचएम पर कार्यवाई को लेकर फाइल जिला शिक्षा पदाधिकारी बेगूसराय, रजनीकांत प्रवीण के पास भेज दिए हैं।अंतिम निर्णय वहीं से लिया जायगा। सात माह से अधिक बीत जाने के बावजूद भी आज तक दोष सिद्ध हो जाने पर भी एचएम सह संकुल संचालिका माला कुमारी पर कार्यवाही नहीं कि जा सकी है।जबकि राज्य शिक्षा परियोजना के पत्र में सात दिन के अंदर दोषी पर कार्यवाही की बात कही गयी थी। इससे साफ जाहिर होता है की शिक्षा विभाग के आलाधिकारी माला कुमारी को बचाने में लगी हुई है।उपर्युक्त सभी दस्तावेज दिसम्बर 2020 में ही बिहार सरकार को भी सौंपी जा चुकी है इसके बावजूद भी अभी तक कोई कार्यवाही प्राद्यपिका माला कुमारी के विरुद्ध नहीं हो रहा है आखिर इसका कारण क्या ही सकता है?जाहिर है कि सभी ऊपर से लेकर नीचे तक के पदाधिकारियों में कुछ न कुछ तो ऐसा है जिसके वजह से सभी साक्ष्य उपलब्ध होने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नही हो रही है।

कोई टिप्पणी नहीं: