दरभंगा : क्रियान्वित महत्वकांक्षी नल-जल योजना की समीक्षा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 जनवरी 2021

दरभंगा : क्रियान्वित महत्वकांक्षी नल-जल योजना की समीक्षा

nal-jal-meeting-darbhanga
दरभंगा. इस जिले के जिलाधिकारी हैं डॉ. त्यागराजन एस. एम. .जिलाधिकारी ने सिंहवाड़ा प्रखण्ड कार्यालय के सभागार में मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के अन्तर्गत क्रियान्वित महत्वकांक्षी नल-जल योजना की समीक्षा की गई. समीक्षा के दौरान तीन-चार वार्डों में कार्य की प्रगति काफी धीमी पायी गयी, कहीं कार्य अधूरा पाया गया, कहीं कुछ लीकेज पाया गया.उन वार्डों के अधूरे कार्य को पूरा कराने के लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी, सिंहवाड़ा को अधिकृत किया गया तथा उन्हें निर्देशित किया गया है कि यदि निर्धारित समय सीमा के अंतर्गत कार्य नहीं पूरा किया जाता है, तो संबंधित के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी जाए.उन पंचायतों में अरै वीरदीपुर एवं अधुआ पंचायत के कुछ वार्ड भी शामिल हैं.नल जल योजना की समीक्षा क्रम में कहा गया कि जिन जिन वार्ड में अभी तक जलापूर्ति प्रारम्भ नहीं किया गया है या अधूरा है उसे हर हाल में 15 फरवरी तक पूर्ण करा कर जिला मुख्यालय को प्रतिवेदन उपलब्ध कराया जाए. इस क्रम में जिलाधिकारी द्वारा सिंहवाड़ा प्रखंड के आर.टी.पी.एस काउंटर का भी गहन निरीक्षण किया गया.निरीक्षण के क्रम में पाया गया कि आर.टी.पी.एस काउंटर पर तत्काल सेवा के लिए आवेदन करने वाले आवेदकों को वहाँ प्रतिनियुक्त कार्यपालक सहायक द्वारा संबंधित कर्मी से रिपोर्ट कराकर आवेदन देने को कहा जा रहा है. इसके साथ ही आर.टी.पी.एस. काउंटर पर वितरण पंजी भी संधारित नहीं था तथा प्रमाण पत्र वितरण की व्यवस्था भी सही नहीं पायी गयी. जिलाधिकारी द्वारा संबंधित कार्यपालक सहायक को वितरण पंजी संधारित रखने को कहा गया। साथ ही साथ आर.टी.पी. एस काउंटर पर प्रतिनियुक्त कार्यपालक सहायक से स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश भी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सिंहवाड़ा को दिया गया है. भ्रमण के दौरान उप विकास आयुक्त तनय सुल्तानियाँ, जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, सिंहवाड़ा एवं संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थें. वहां के निवासी बलदीप यादव ने कहा कि मान्यवर  से नम्र निवेदन पूर्वक कहना चाहता हूँ कि श्रीमान महोदय आप नल जल योजना की पड़ताल करने से कोई फायदा नहीं है.उनका कहना है कि महोदय जाँच करना है तो पंचायत प्रतिनिधि के द्वारा दिये गये सम्पति का ब्यौरा खंगालिये.जो नामांकन समय दिया गया था.उस समय क्या था और अभी क्या है? उस से ही पता चल जाएगा कि नल-जल, नली -गली का विकास कितना हुआ है. श्रीमान यह मेरा व्यक्तिगत मानना है कि ऐसा करने से दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. वहीं गौतम सिंह चौहान का कहना है कि एक बार जल नल योजना का कुशेश्वरस्थान पश्चिमी प्रखंड के औराही पंचायत का जांच किया जाए.यहां पर बहुत बड़ी लूट हुई है.जिसका निदान अभी तक नहीं हुआ है.कोई देखने वाला ही नहीं है. चौधरी इफ्तेखार ने कहा कि माननीय जिलाधिकारी महोदय जाले विधानसभा क्षेत्र के Radhi पूर्वी पंचायत में RTPS केंद्र नहीं होने के कारण यहां के लोगों को कोई भी काम के लिए जाले ब्लॉक जाना होता है.जैसे अगर किसी को जन्म प्रमाण पत्र, मृत्यु पत्र, यहां तक अगर राशन कार्ड भी बनाना हो या उस में बच्चों का पंजीकरण करना हो उसके लिए भी जाले ब्लॉक ही जाना होता है. जो एक गरीब महिला तथा असहाय के किए बहुत परेशानी की बात है. अतः श्रीमान से आग्रह करते हैं इसका समाधान करें. महताब आलम ने कहा कि डीएम साहब क्यों  जनता को बेवकूफ बनाते हो. कभी स्थल पर भी जाकर के देखिए पूरे अरई बर्दीपुर पंचायत में कहीं भी नियम अनुसार काम नहीं हुआ है.नीतेश जी को यह हवा हवाई ले मारेगी. नुरूल होदा ने कहा कि डी.एम.सदर प्रखण्ड के  अन्तर्गत अतिहर पंचायत में आता है.यहां नल जल की क्या स्थिति है, जिसे में शब्दों में शायद बयाँ ना कर पाऊं. क्या हालत है यहां की जल नल की. जिसके बारे में विगत कई महिनों से आप के फ़ेसबुक पेज पर लिखते आ रहा हूँ. सर कभी अतिहर की समीक्षा की जाये. अतिहर पंचायत के अन्तर्गत जितने भी वार्ड है जिसका उद्घाटन हो चुका है.वहां तो न पूर्ण तरीके से टोटी का काम हुआ है और ना ही पाइप लाईन का ही काम पूर्ण तरीके से हुआ है. मैं अपनी स्वं की बात कर रहा हूँ कि मेरे घर में अभी तक टोटी नहीं लगा है. और जब मुखिया जी को इस के बारे मे बोलने जाता हूं तो बोलते है की नही लगाऊंगा जो करना है कर लो. जिसको शिकायत करनी है जा कर दो. जिससे परेशान होकर कुछ महीने पहले लिखित में भी मैंने आप के ऑफिस को दिया था लेकिन बहुत अफसोस की बात ही है कि इसकी एक बार भी जांच  नहीं की गयी और ना कोई प्रतिक्रिया ही मिली है आप की तरफ से.आप से विनम्र निवेदन है कि सदर प्रखण्ड के अंतर्गत अतिहर पंचायत की एक बार जांच की जाए.

कोई टिप्पणी नहीं: