बिहार : बढ़ते अपराध को ले राजद ने निकाला पोस्टर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 17 जनवरी 2021

बिहार : बढ़ते अपराध को ले राजद ने निकाला पोस्टर

rjd-poster-attack-on-nitish
पटना : इंडिगो के स्टेशन हेड रूपेश कुमार सिंह की हत्या के बाद विपक्ष द्वारा लगातार नीतीश सरकार पर हमला बोला जा रहा है। इसी कड़ी में राजद कार्यकर्ताओं द्वारा पोस्टर जारी कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला गया है। जानकारी हो कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से जब राज्य में बढ़ते अपराध को लेकर सवाल किया गया तो पत्रकारों के सवाल के जबाव में मुख्यमंत्री खुद सवाल करने लगें। अब इसी को लेकर राजद कार्यकर्ताओं द्वारा पोस्टर जारी कर तंज किया गया है। इस पोस्टर में मधुबनी रेप कांड और रूपेश कुमार सिंह के हत्याकांड को दर्शाया गया है। इसके अलावा इस पोस्टर के जरिए यह दिखाया गया है कि बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सुशील कुमार मोदी से सलाह मांग रहे हैं। इसके आगे इस पोस्टर में दिखाया गया है कि नितीश कुमार सुशील कुमार मोदी को फोन कर यह कहते हुए नजर आते हैं कि बिहार में क्राइम रुक नहीं रहा है समझ में नहीं आ रहा है क्या करें आप तो दिल्ली भाग गए हमको छोड़ के तो वहीं सुशील कुमार मोदी इसके जवाब में यह कहते हुए नजर आते हैं कि मेरी मानिए तो जिस तरह मैंने पितृपक्ष के मेले के समय अपराधियों से हाथ जोड़कर अपराध ना करने का निवेदन किया था वहीं आप भी कीजिए, क्या पता अपराधियों को दया आ जाए और अपराध कम हो जाए बिहार में! गौरतलब है कि इस पोस्टर के जरिए यह दिखाने की कोशिश की गई है कि वर्तमान सरकार बिहार में अपराध रोकने में बिल्कुल भी सफल नहीं है अब उनको अपराध रोकने के लिए अपराधियों से हाथ जोड़कर प्रार्थना करना होगा। इसके पहले राजद के बड़े नेता तेजस्वी यादव भी नीतीश कुमार की पार्टी को थर्ड ग्रेड पार्टी बता चुके हैं। ऐसे में अब देखना यह होगा की इन सारे आरोपों का जवाब नीतीश कुमार किस अंदाज में देते हैं क्योंकि आज रूपेश कुमार सिंह हत्याकांड को 5 दिन हो चुके हैं लेकिन पुलिस के हाथों अभी तक कुछ भी नहीं लगा है। वहीं वर्तमान डीजीपी पिछले डीजीपी के शासन काल को याद कराने में जुटे हुए हैं और यह कहते हुए नहीं थकते हैं कि 2020 की तुलना में 2019 में अधिक अपराध हुए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: