चीन ने फिर किया हैरान, ऑफशोर विंड एनर्जी के मामले में 2020 को किया अपने नाम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2021

चीन ने फिर किया हैरान, ऑफशोर विंड एनर्जी के मामले में 2020 को किया अपने नाम

affshore-wind-energy
चीन दुनिया को हैरान करने से नहीं पीछे हटता। जब हम और आप कोविड से डरे सहमे लॉक डाउन में अपने और अपने प्रियजनों की कुशलता और स्वास्थ्य के लिए आशंकित थे, चीन के ऊर्जा क्षेत्र में क्रांति रची जा रही थी। दरअसल चीन ने अकेले साल 2020 में दुनिया की कुल अपतटीय पवन ऊर्जा, या ऑफ शोर विंड एनर्जी, की आधी क्षमता स्थापित कर ली। और ऐसा नहीं कि चीन ने अचानक ऐसा किया हो। लगातार तीसरे साल चीन ने ऑफ शोर विंड एनर्जी क्षमता स्थापना के मामले में दुनिया का नेतृत्व किया है। इस बात का ख़ुलासा होता है ग्लोबल विंड एनर्जी काउंसिल (GWEC) मार्केट इंटेलिजेंस द्वारा जारी किए गए नवीनतम आंकड़ों से। इनके अनुसार, कोविड-19 के प्रभावों के बावजूद वैश्विक अपतटीय पवन उद्योग ने 2020 में अपना दूसरा सर्वश्रेष्ठ वर्ष देखा और 6 गीगावॉट की नई क्षमता स्थापित की। इस वृद्धि का नेतृत्व चीन द्वारा लगातार तीसरे साल किया गया, और उसने पिछले साल वैश्विक स्तर पर नई अपतटीय पवन क्षमता के आधे से अधिक हिस्से को स्थापित किया। बाकी क्षमता में योगदान के लिए यूरोप में स्थिर विकास को श्रेय जाता है। यूरोप में नीदरलैंड ने 2020 में लगभग 1.5 गीगावॉट की नई अपतटीय पवन स्थापना की और इसके साथ वो चीन के बाद 2020 में नई क्षमता के लिए दूसरा सबसे बड़ा बाजार बन गया। अन्य यूरोपीय अपतटीय पवन बाजारों ने भी पिछले साल नियमित वृद्धि का अनुभव किया, बेल्जियम (706 मेगावाट), यूके (483 मेगावाट), और जर्मनी (237 मेगावाट), सभी 2020 में नई क्षमता स्थापित कर रहे हैं। पिछले साल यूरोप में ही एकमात्र नई फ्लोटिंग अपतटीय पवन क्षमता स्थापित हुई। इसका सेहरा बंधा पुर्तगाल में 17 मेगावाट की क्षमता को। चीन और यूरोप के बाहर जिन दो अन्य देशों ने 2020 में नई अपतटीय पवन क्षमता दर्ज की वो थे दक्षिण कोरिया (60 मेगावाट) और अमेरिका (12 मेगावाट)।


कुल मिलाकर, वैश्विक अपतटीय पवन क्षमता अब 35 गीगावॉट से अधिक है- जो कि पिछले 5 वर्षों में 106 प्रतिशत की वृद्धि है। चीन अब संचयी प्रतिष्ठानों के मामले में जर्मनी से आगे निकल गया है, जो शीर्ष स्थान पर यूके के बने रहने के साथ वैश्विक स्तर पर दूसरी सबसे बड़ी अपतटीय पवन बन गया है। पूरे घटनाक्रम पर GWEC में मार्केट इंटेलिजेंस एंड स्ट्रेटजी के प्रमुख फेंग ज़ाओ कहते हैं, “महामारी के दौरान दुनिया भर में अपतटीय पवन उद्योग की निरंतर वृद्धि इस तेजी से बढ़ते उद्योग के लचीलेपन का सबूत है। हालांकि चीन को सबसे पहले कोविड-19 संकट का सामना करना पड़ा था, अपतटीय वायु क्षेत्र पर प्रभाव न्यूनतम रहे सुर मार्च 2020 तक ही सामान्य काम फिर शुरू हो गया। चीन की रिकॉर्ड-ब्रेकिंग वृद्धि 2021 में जारी रहने की उम्मीद है, क्योंकि इस वर्ष के अंत तक चीन पर अपनी फीड-इन-टैरिफ की समय सीमा को पूरा करने का दबाव है।” उन्होंने यह भी कहा कि, "जबकि यूरोप वैश्विक स्तर पर सबसे बड़ा अपतटीय पवन बाजार बना हुआ है, एशिया पैसिफिक तेजी से महत्वपूर्ण उद्योग विकास की भूमिका निभाएगा क्योंकि जापान और दक्षिण कोरिया जैसी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं ने हाल ही में महत्वाकांक्षी अपतटीय पवन लक्ष्य स्थापित किए हैं। अमेरिका भी अपतटीय पवन के लिए तेजी से महत्वपूर्ण बाजार बन जाएगा, क्योंकि नए प्रशासन ने यह स्पष्ट कर दिया है कि वे इस महत्वपूर्ण उद्योग के विकास में तेजी लाने के लिए काम कर रहे हैं।"


इसी क्रम में GWEC में ग्लोबल ऑफशोर विंड टास्क फोर्स के चेयर, एलेस्टेयर डटन, ने कहा,  “अपतटीय पवन हमारी ऊर्जा प्रणाली को विघटित करने और नेट शून्य हासिल करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों में से एक के रूप में अपनी भूमिका को मजबूत कर रहा है। वर्तमान वैश्विक अपतटीय पवन क्षमता ने हमारे समाज को 62.5 मिलियन टन कार्बन उत्सर्जन से बचने में मदद की है - जो सड़क से 20 मिलियन से अधिक कारें हटाने के बराबर है। अपतटीय पवन के सामाजिक आर्थिक लाभ पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं क्योंकि देश ग्रीन (हरित) आर्थिक सुधार के लिए अपनी रणनीतियों को विकसित कर रहे हैं, साथ ही वर्तमान अपतटीय पवन क्षमता पहले से ही परियोजनाओं के जीवनकाल में वैश्विक स्तर पर लगभग 700,000 नौकरियां प्रदान करती हैं।” उन्होंने यह भी कहा कि, "फिर भी, जब यह अपतटीय पवन की विशाल क्षमता की बात करते हैं तो हमने अभी सिर्फ हिमशैल की नोक को देखा है। विश्व बैंक समूह की रिपोर्ट है कि वर्तमान प्रौद्योगिकी के साथ वैश्विक स्तर पर अपतटीय पवन क्षमता के 71,000 गीगावॉट से अधिक है, और इस संसाधन का दोहन, महत्वपूर्ण आर्थिक लाभ पैदा करते हुए, 1.5 डिग्री सेल्सियस पूर्व-औद्योगिक स्तरों से नीचे ग्लोबल वार्मिंग को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण होगा। इस क्षमता का अनुभव करने के लिए, उद्योग की वृद्धि के लिए दीर्घकालिक क्षितिज प्रदान करने के लिए स्थिर नीतियों के साथ उद्योग और सरकार का सहयोग महत्वपूर्ण होगा। इस दशक में फ्लोटिंग ऑफशोर विंड के व्यावसायीकरण में तेजी लाना इस क्षेत्र के लिए नए अवसर खोलने के लिए और अकल्पनीय संभव पवन संसाधन पर कब्जा करने के लिए भी महत्वपूर्ण होगा।” कुल मिलाकर चीन से आ रही ये खबर जलवायु के लिए ये काफ़ी सुखद है।


 2020 में नई अपतटीय पवन क्षमता

1. चीन - 3,060 मेगावाट

2. नीदरलैंड - 1,493 मेगावाट

3. बेल्जियम - 703 मेगावाट

4. यूके - 483 मेगावाट

5. जर्मनी - 237 मेगावाट

6. दक्षिण कोरिया - 60 मेगावाट

7. पुर्तगाल - 17 मेगावाट (फ्लोटिंग)

8. अमेरिका -12MW


संचयी क्षमता के लिए शीर्ष 5 अपतटीय पवन बाजार

1. यूके - 10,206 मेगावाट

2. चीन - 9,898 मेगावाट

3. जर्मनी - 7,730 मेगावाट

4. नीदरलैंड - 2,611 मेगावाट

5. बेल्जियम - 2,259 मेगावाट

कोई टिप्पणी नहीं: