बिहार : अधिकार देने के बदले उनकी जायज माँगें भी छीनी गई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 11 फ़रवरी 2021

बिहार : अधिकार देने के बदले उनकी जायज माँगें भी छीनी गई

government-remove-farmer-right
पटना। अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के महासचिव पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री तारिक अनवर ने कहा कि आज देश में सबसे बड़ी समस्या किसान आन्दोलन की है।उन्होंने कहा कि किसान को और अधिक सुविधा एवं अधिकार देने के बदले उनकी जायज माँगें भी छीनी गई है। श्री तारिक ने कहा कि नये कृषि कानून के प्रावधान के तहत किसान अदालत नहीं जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि देश के किसान अन्नदाता हैं। उन्होंने कहा कि देश की 65 प्रतिशत आबादी कृषि पर आधारित है, लेकिन प्रधानमंत्री अन्नदाता को प्रताड़ित कर रहे हैं। केन्द्र की भाजपा सरकार किसानों को प्रताड़ित करने के लिये उनके रास्ते में कील ठोक रहे हैं तथा उनके धरना स्थल पर पानी एवं बिजली का सम्बन्ध बिच्छेद कर दिया है। श्री अनवर ने कहा कि केन्द्र सरकार के मंत्री कह रहे हैं कि किसान आन्दोलन पंजाब तक ही सीमित है, लेकिन वास्तविकता यह है कि हरियाणा, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र एवं अन्य राज्यों के किसान इसमें बड़ी संख्या में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि अब विदेशों से भी किसान आन्दोलन के समर्थन में आवाजें आ रही हैं और यह अन्तर्राष्ट्रीय मुद्दा बन गया है। श्री तारिक अनवर ने कहा कि प्रधान मंत्री को कृषि कानून को प्रतिष्ठा का प्रश्न नहीं बनाना चाहिये तथा तीनों कृषि बिल को वापस लेना चाहिये एवं एम0ए0पी0 को कानूनी प्रावधान दिया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि बिहार प्रभारी श्री भक्त चरण दास, बिहाहर के विभिन्न जिलों का दौरा कर कांग्रेसजनों को कृषि कानून के बारे में जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने पहली बार राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने पर बिहार को विशेष राज्य के दर्जा की आवाज उठायी थी। उन्होंने कहा कि आज बिहार एवं केन्द्र में एक ही पार्टी की डबल इंजन की सरकार है लेकिन बिहार को विशेष राज्य के मुद्दे को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भूल गये हैं। बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार का यह आदेश कि जो युवा किसी आन्दोलन में शामिल होंगे उन्हें सरकारी नौकरी से बंचित होना पड़ेगा, एक आलोकतांत्रिक कदम है। लोकतंत्र में लोगों को अपनी माँगों के समर्थन में धरना, प्रदर्शन में भाग लेने पर कोई प्रतिबन्ध नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में ग्लेसियर टूटने की घटना अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है और हम मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस कमिटी के कार्यकारी अध्यक्ष श्यामसुन्दर सिंह धीरज, प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष एच0के0 वर्मा, प्रवक्ता राजेश राठौड़, पूर्व विधायक गजानन्द शाही, किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह, जमाल अहमद भल्ल, वशी अख्तर उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: