बिहार : मनोनीत करने वाली सूची में एंग्लो इंडियन समुदाय को शामिल करने की मांग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 14 फ़रवरी 2021

बिहार : मनोनीत करने वाली सूची में एंग्लो इंडियन समुदाय को शामिल करने की मांग

demand-for-mlc-seat
पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधान परिषद में एंग्लो इंडियन,अधिवक्ताओं, किसानों समेत दूसरे वर्ग से प्रतिनिधित्व देने की बात की थी,उसे बीस साल के बाद भी पूरा नहीं कर सके हैं.इस समय सीएम नीतीश जी के पास मौका है.जब वे 12 सदस्यों का नाम राज्यपाल फागू चौहान महोदय को विप में मनोनीत करने के लिए प्रेषित करेंगे.राज्यपाल फागू चौहान उन्हीं सदस्यों के नाम को मंजूरी देते हैं, जिन्हें राज्य सरकार भेजती है. बताते चले कि बिहार विधान परिषद में समय-समय पर सदस्‍य- संख्‍या में वृद्धि और कमी की गई है.26 जनवरी, 1950 को लागू भारतीय संविधान के अनुच्‍छेद-171 में वर्णित उपबन्‍धों के अनुसार विधान परिषद के कुल सदस्‍यों की संख्‍या 72 निर्धारित की गई.पुन: विधान परिषद् अधिनियम, 1957 द्वारा 1958 ई. में परिषद के सदस्‍यों की संख्‍या 72 से बढ़ाकर 96 कर दी गई.बिहार पुनर्गठन अधिनियम, 2000 द्वारा बिहार के 18 जिलों तथा 4 प्रमंडलों को मिलाकर 15 नवम्‍बर, 2000 ई. को बिहार से अलग कर झारखंड राज्‍य की स्‍थापना की गई और बिहार विधान परिषद् के सदस्‍यों की संख्‍या 96 से घटाकर 75 निर्धारित की गई. 15 नवंबर 2000 को बिहार बंटवारे के बाद एंग्लो इंडियन समुदाय से मनोनीत होनेवाले एक सदस्य का कोटा झारखंड चला गया था.झारखंड विधानसभा में एंग्लो इंडियन समुदाय के नामित सदस्य ग्लेन जोसेफ गॉलस्टेन हैं.इसके पहले जोसेफ गॉलस्टेन थे.इस समुदाय को विधान परिषद में प्रतिनिधित्व देने की मांग होने लगी.जो बीस साल से लगातार जारी है.एंग्लो इंडियन समुदाय की तरह ही अधिवक्ताओं, किसानों समेत दूसरे वर्ग से प्रतिनिधित्व देने की मांग उठ रही है. जानकार लोगों का कहना है कि बिहार पुनर्गठन विधेयक के तहत बिहार विधान परिषद की मौजूदा संख्या निर्धारित हुई थी, इसलिए उक्त विधेयक में भी संशोधन करना होगा. इसके पहले राज्य कैबिनेट में प्रस्ताव पारित कराकर दोनों सदनों से पारित कराने की प्रक्रिया करनी पड़ सकती है. हालांकि विधि विशेषज्ञों की राय के बाद ही प्रक्रिया पर अंतिम निर्णय होगा.  फिलवक्त मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 12 सदस्यों  का नाम राज्यपाल फागू चौहान महोदय को मनोनीत करने के लिए प्रेषित करने वाले हैं.उन्हीं 12 सदस्यों में एंग्लो इंडियन समुदाय,अधिवक्ताओं, किसानों समेत दूसरे वर्ग से प्रतिनिधित्व का नाम राज्यपाल फागू चौहान महोदय को विप में मनोनीत करने के लिए प्रेषित कर दें .जो वक्त की मांग है.मुख्यमंत्री उक्त मांग को पूरी कर दें. अभी बिहार विधान परिषद् में कुल 75 सदस्य होते हैं.जो इस प्रकार से होता है 27 सदस्‍य बिहार विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से, 6 शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से, 6 स्‍नातक निर्वाचन क्षेत्र से, 24 स्‍थानीय प्राधिकार से तथा 12 मनोनीत सदस्‍य होते हैं. बिहार विधान परिषद् में कुल 75 सदस्य होते हैं. इन 75 सदस्यों में जदयू के 23, राजद के 06, कांग्रेस के 04, बीजेपी के 21, वामदल सीपीआई के 02, लोक जनशक्ति पार्टी के 01, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के 2, मुकेश साहनी की वीआईपी पार्टी के 01 और 02 निर्दलीय सदस्य हैं. 12 मनोनीत में से जदयू को 06 और बीजेपी को भी 06 कोटे में जाने की उम्मीद जताई जा रही है. भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के उपाध्यक्ष राजन क्लेमेंट साह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आग्रह पूर्ण मांग की है कि निकट भविष्य में 12 सीटों पर राज्यपाल महोदय के पास मनोनीत करने वाली सूची भेजी जा रही है उक्त सूची में आप एंग्लो इंडियन समुदाय काे भी शामिल करें.

कोई टिप्पणी नहीं: