बेतिया : कामगारों को अविलंब ऋण दिलाना सुनिश्चित करें बैंकर्स : डीएम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 11 फ़रवरी 2021

बेतिया : कामगारों को अविलंब ऋण दिलाना सुनिश्चित करें बैंकर्स : डीएम

  • विभिन्न बैंक प्रबंधकों के साथ हुई समीक्षात्मक बैठक
  • प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना (पी.एम.ई.जी.पी.) सहित अन्य योजनाओं से कामगारों/श्रमिकों को लाभान्वित करने का निर्देश

dm-appeal-loan-to-farmer
बेतिया। पश्चिम चम्पारण जिले के जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार ने कहा कि पश्चिम चम्पारण जिले में बेतिया माॅडल को विकसित करने तथा चनपटिया में स्टार्टअप जोन अधिष्ठापित कराने में सभी संबंधित अधिकारी, कर्मियों के साथ ही बैंकर्स द्वारा भी सराहनीय कार्य किया गया है। स्टार्टअप जोन में प्रोडक्शन चालू है तथा देश-विदेश में पश्चिम चम्पारण जिले के बने उत्पाद भेजे जा रहे हैं। यहां के उत्पाद गुणवता से इतने लैश हैं कि दिन-प्रतिदिन इनकी डिमांड बढ़ती जा रही है। स्टार्टअप जोन को क्रियाशील देखकर अन्य इच्छुक व्यक्ति द्वारा भी यहां कार्य करने की इच्छा जतायी जा रही है, इन्हें आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। इन सभी को रोजगार उपलब्ध कराने में बैंकर्स की अपेक्षित सहयोग की आवश्यकता है। जिलाधिकारी समाहरणालय सभाकक्ष में आयोजित समीक्षात्मक बैठक में विभिन्न बैंकों के प्रबंधकों सहित अन्य अधिकारियों को निदेशित कर रहे थे। जिलाधिकारी ने कहा कि लाॅकडाउन के दौरान जिले में वापस लौटे कामगारों, श्रमिकों को इसी जिले में रोजगार उपलब्ध कराने में कुछ ब्रांच मैनेजर द्वारा आवेदकों को ऋण उपलब्ध कराने की दिशा में कोताही बरतने का मामला प्रकाश में आया है, यह अत्यंत ही चिंताजनक है।उन्होंने कहा कि आज जरूरत है सभी को समन्वित प्रयास करके वापस लौटे कामगारों/श्रमिकों के उत्थान के लिए बेहतरीन कार्य करने की। प्रयास ऐसा करना है कि लाॅकडाउन के दौरान जिले में वापस लौटे वैसे कामगार अथवा श्रमिक जो इसी जिले में कार्य करना चाहते हैं, पुनः वापस नहीं जायें।


उन्होंने सभी बैंकर्स को पूरी संजीदगी एवं तत्परतापूर्वक(पी.एम.ई.जी.पी.) सहित अन्य पर्सनल ऋण योजनाओं से कामगारों/श्रमिकों को लाभान्वित करने को कहा है। उन्होंने कहा कि स्टार्टअप जोन अंतर्गत अपना उद्यम शुरू करने के इच्छुक व्यक्तियों को तीव्र गति से ऋण उपलब्ध करायी जाय ताकि वापस लौटे कामगार/श्रमिक अपना रोजगार चालू कर सकें तथा पश्चिम चम्पारण जिले का विकास तीव्र गति से हो सके। उन्होंने कहा कि बैंकर्स द्वारा जिन ऋण आवेदनों को अस्वीकृत किया गया है, उसका रिव्यू पुनः करें तथा प्रयास करें कि शीघ्र ही आवेदकों को ऋण उपलब्ध कराया जा सके।  उन्होंने कहा कि पश्चिम चम्पारण जिले के लिए गौरव की बात है कि शीघ्र ही फैब्रिक का निर्माण भी इसी जिले में होगा। अभी टेक्सटाईल उद्यम के लिए फैब्रिक बाहर के राज्यों से मंगाया जाता है। अपने जिले में फैब्रिक का निर्माण होने से उद्यमियों को काफी राहत मिलेगी तथा उन्हें ज्यादा मुनाफा भी होगा। साथ ही लुधियाना सहित अन्य इण्डस्ट्रीयल स्थलों के बड़े-बड़े उद्यमी भी अपना उद्यम इसी जिले में अधिष्ठापित करना चाह रहे हैं।  इंडियन बैंक, इलाहाबाद बैंक के प्रबंधकों द्वारा जिलाधिकारी को आश्वस्त किया गया कि रिजनल मैनेजर से वार्ता हो गयी है, शीघ्र ही आवेदक को ऋण उपलब्ध करा दिया जायेगा। आंध्रा बैंक प्रबंधक द्वारा बताया गया कि उनके यहां दो मामले लंबित हैं। एक मामले में आवेदक द्वारा कोटेशन जमा नहीं किया गया है तथा दूसरे मामले में मार्जिन मनी जमा नहीं किया गया है। समीक्षा के क्रम में ही संबंधित आवेदकों को तुरंत कोटेशन एवं मार्जिन मनी बैंक को उपलब्ध कराने को कहा गया। समीक्षा के क्रम में सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया के प्रबंधक द्वारा बताया गया कि लुधियाना से जिले में वापस लौटे मुनीर आलम से संबंधित ऋण आवेदन का सेंशन कर दिया गया है। आवेदक को ईडीपी प्रशिक्षण दिलाया जा रहा है। प्रशिक्षण उपरांत प्रमाण पत्र प्राप्त करने के साथ ही आवश्यक दस्तावेज लेकर ऋण उपलब्ध करा दिया जायेगा।  यूको बैंक प्रबंधक द्वारा वरीय पदाधिकारियों से बात कर जिलाधिकारी को आश्वस्त किया गया कि ऋण हेतु आवेदन देने वाले सुनील राम एवं सुगंधी देवी को शीघ्र ही ऋण दिला दिया जायेगा। इसी तरह पंजाब नेशनल बैंक, सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया सहित अन्य बैंक प्रबंधक जिनके यहां ऋण से संबंधित मामले लंबित हैं ने जिलाधिकारी को आश्वस्त किया कि अविलंब आवेदकों को ऋण उपलब्ध करा दिया जायेगा। जिलाधिकारी द्वारा एलडीएम को निर्देश दिया गया कि बैंकों को ऋण के लिए आवेदन के समय किन-किन कागजातों की आवश्यकता हैं, इससे संबंधित एक काॅमन चेकलिस्ट तैयार कर सभी बैंक प्रबंधकों को उपलब्ध करायेंगे। साथ ही एक-एक आवेदनों का निष्पादन तीव्र गति के साथ कराना सुनिश्चित करेंगे। इस अवसर पर वरीय उप समाहर्ता, श्री रवि प्रकाश, प्रबंधक, डीआरसीसी, श्री शैलेश पाण्डेय, एलडीएम सहित विभिन्न बैंकों के प्रबंधक उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं: