बिहार : वित्त मंत्री ने बजट नहीं सेल का किया है ऐलान : तेजस्वी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 फ़रवरी 2021

बिहार : वित्त मंत्री ने बजट नहीं सेल का किया है ऐलान : तेजस्वी

budget-is-sale-tejaswi-yadav
पटना : केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश कर दिया है। इस बार के बजट में निजीकरण पर विशेष ध्यान दिया गया है। इस बार के बजट में BPCL, Air India, SCI,CCI, IDBI, BEML, Pawan Hans के निजीकरण का ऐलान किया गया है। वहीं सरकार द्वारा इन सभी कंपनियों का निजीकरण करने के फैसले पर विपक्षी दलों द्वारा जमकर हमला बोला जा रहा है। इसी कड़ी में बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इस बजट को बजट नहीं बल्कि सेल कहा है। तेजस्वी यादव ने कहा कि इस बजट में बिहार के साथ सौतेला व्यवहार किया गया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार हमेशा से करती आ रही है कि किसानों की आय दोगुनी कर दी जाएगी लेकिन 2020 में कृषि कानून बनाकर किसानों को भिखारी कर रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस बार के बजट में कल कारखाने को लेकर कोई चर्चा नहीं की गई। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रेलवे को लेकर तो कोई चर्चा भी नहीं किया गया है। तेजस्वी ने कहा कि जब लालू यादव रेल मंत्री थे तो रेलवे मुनाफे में रही थी। इसके साथ ही हर साल रेल किराया भी सस्ता किया जाता था। उन्होंने अपने शासनकाल में चार कारखाने भी खुलवाए थे। साथ ही उन्होंने कहा कि बिहार से बहुत सारे सांसद जीतकर लोकसभा गए हैं। लेकिन आज लग रहा था वो लोग सिर्फ डेस्क थपथपाने के लिए वहां गए हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि जिस विश्वविद्यालय से पढ़कर कई सांसद बैठे हुए हैं उस विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा नहीं दिया गया है। भाजपा सरकार से इससे अभी उम्मीद भी नहीं की जा सकती थी मुझे उम्मीद था कि भाजपा देश बेचने वाला बजट ही लाएगी। वहीं एनडीए घटक दल में शामिल हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के नेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी इस बजट से नाखुश होते हुए कहा कि कि सरकार को किसी चीज़ का निजीकरण करने से पहले प्राईवेट सेक्टर में आरक्षण का क़ानून बनाना चाहिए था। साथ ही उन्होंने कहा कि इस बजट से आरक्षित वर्ग यानि कि एससी/एसटी तबके से आने वाले लोगों में सरकार के प्रति असंतोष बढ़ेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: