केरल में वाम ने 33 मौजूदा विधायकों को इस बार टिकट नहीं दिया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 11 मार्च 2021

केरल में वाम ने 33 मौजूदा विधायकों को इस बार टिकट नहीं दिया

33-mla-no-ticket-in-keral
तिरुवनंतपुरम, 10 मार्च, केरल में सत्तारूढ़ माकपा ने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन और उनके मंत्रिमंडल के सात सहयोगियों को छह अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मुकाबले में उतारा है। वित्त मंत्री थॉमस इसाक समेत 33 मौजूदा विधायकों को इस बार टिकट नहीं दिया गया है। सत्तारूढ़ दल के 33 विधायक इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगे क्योंकि पार्टी ने युवाओं और महिलाओं के बीच पैठ बढ़ाने के लिए कई नए चेहरों को मौका दिया है। माकपा ने बुधवार को अपने 83 उम्मीदवारों की सूची जारी की। दो उम्मीदवारों के नामों की घोषणा बाद में की जाएगी। विजयन कन्नूर जिले में धर्मादम निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे। स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा (मत्तान्नूर), श्रम मंत्री टी पी रामकृष्णन (पेराम्ब्रा), बिजली मंत्री एम एम मणि (उदुंबनचोला), देवस्वओम मंत्री कडाकमपल्ली सुरेंद्रन (कझाकूटम) , मत्स्य मंत्री मर्सीकुट्टी अम्मा (कुंद्रा) और स्थानीय स्वशासन मंत्री ए सी मोइद्दीन (कुन्नमकुलम) और उच्च शिक्षा मंत्री के टी जलील फिर से किस्मत आजमाएंगे। पार्टी ने विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीरामकृष्णन को इस बार मुकाबले में नहीं उतारा है और ‘सीटू’ के राष्ट्रीय सचिव पी नंदकुमार को मल्लपुरम में पोन्नानी से उतारने का फैसला किया है। माकपा के प्रदेश सचिव प्रभारी ए विजयराघवन ने मीडिया को बताया कि फिर से सत्ता में आने के लक्ष्य के साथ पार्टी ने उम्मीदवारों की सूची तैयार की है। पालक्कड़ के दो बार सांसद रह चुके एम बी राजेश पहली बार राज्य विधानसभा का चुनाव लड़ रहे हैं और वह त्रिथला से किस्मत आजमाएंगे। दो बार जीत के बाद उम्मीदवारों को टिकट नहीं दिए जाने के पार्टी के फैसले के कारण इसाक के अलावा, वरिष्ठ मंत्री ई पी जयराजन, आर रवींद्रनाथ, जी सुधाकरन और एके बालन समेत 33 विधायक इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगे। विजयराघवन ने कहा कि मांजेश्वरम और देवीकुलम निर्वाचन क्षेत्रों के उम्मीदवारों की घोषणा बाद में की जाएगी। उन्होंने कहा कि पार्टी का लक्ष्य किसी को टिकट दिए जाने से इनकार करना नहीं बल्कि नये उम्मीदवारों को मौका देना है। वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) के महत्वपूर्ण घटक भाकपा ने मंगलवार को घोषणा की थी कि पार्टी 25 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। एलडीएफ को 2016 के चुनाव में 140 सदस्यीय विधानसभा में 91 सीटों पर जीत मिली थी।

कोई टिप्पणी नहीं: