बेतिया : प्रत्येक बच्चा अनमोल, एक-एक बच्चे का रखें ख्याल : डीएम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 26 मार्च 2021

बेतिया : प्रत्येक बच्चा अनमोल, एक-एक बच्चे का रखें ख्याल : डीएम

  • जेई/एईएस (मस्तिष्क ज्वर-चमकी बुखार) की रोकथाम के लिए की जा रही तैयारियों की हुई समीक्षा

dm-betiya-order-for-child-care
बेतिया। जेई/एईएस की रोकथाम के लिए की जा रही तैयारियों की गहन समीक्षा जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार द्वारा आज कार्यालय प्रकोष्ठ में की गयी। जिलाधिकारी ने सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि जेई/एईएस (मस्तिष्क ज्वर-चमकी बुखार) की रोकथाम के लिए सभी व्यवस्थाएं अपडेट रखी जाय। सभी पीएचसी को अलर्ट मोड में रखा जाय ताकि किसी भी विषम परिस्थिति में बच्चों की जान बचाई जा सके। किसी भी प्रकार की लापरवाही, कोताही एवं शिथिलता कतई बर्दाश्त नहीं की जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक बच्चा अनमोल है, एक-एक बच्चे का ख्याल रखना है।  जिलाधिकारी ने कहा कि जिले के सभी पीएचसी में जेई/एईएस से बचाव  के लिए सभी आवश्यक दवाएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाय। आवश्यक दवाओं के साथ-साथ पैरासिटामोल, ओआरएस, विटामिन ए सहित ग्लूकोज भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि ड्यूटी रोस्टर बनाकर डाॅक्टरों सहित अन्य कर्मियों की शत-प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित किया जाय। साथ ही कंट्रोल रूम के माध्यम से उपस्थिति की जांच सुनिश्चित किया जाय। सिविल सर्जन एवं जिला मलेरिया पदाधिकारी स्वयं सभी कार्यों का नियमित अनुश्रवण एवं निरीक्षण करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि आशा कार्यकर्ता, सेविका-सहायिका, एएनएम, जीविका दीदी आदि को पुनः शिड्यूल बनाकर समुचित तरीके से प्रशिक्षित किया जाय ताकि जेई/एईएस की रोकथाम में कोई परेशानी उत्पन्न नहीं हो तथा पीड़ित बच्चों का प्राथमिक इलाज समुचित ढंग से किया जा सके। साथ ही सभी पीएचसी के डाॅक्टरों को भी पुनः प्रशिक्षित करने का निर्देश जिलाधिकारी द्वारा दिया गया है। जीविका दीदियां महिलाओं को जेई/एईएस की रोकथाम हेतु क्या करें-क्या नहीं करें को पढ़कर सुनाएंगी। वहीं आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका भी केन्द्रों पर बच्चों, महिलाओं को पढ़कर अनिवार्य रूप से सुनाएंगी। स्कूलों में चेतना सत्र के दौरान भी बच्चों को पढ़कर सुनाने का निर्देश दिया गया है।


सिविल सर्जन को निर्देश दिया गया कि जेई/एईएस की रोकथाम  के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी गाइडलाइन व्यापक स्तर पर बुकलेट, पम्फलेट, दीवाल लेखन, नुक्कड़ नाटक, फ्लेक्स, चैपाल आदि के माध्यम से प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित किया जाय। साथ ही हाउस-टू-हाउस सर्वे भी करायी जाय और अभिभावकों को जागरूक किया जाय।  उन्होंने कहा कि एंबुलेंस की समुचित व्यवस्था कराना सुनिश्चित किया जाय। साथ ही गांव-पंचायतों से पीड़ित बच्चों को स्वास्थ्य केन्द्र पर लाने  के लिए वाहनों की टैगिंग अविलंब सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने कहा कि हर हाल में पीड़ित बच्चों को स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया जाना है, इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही, कोताही, शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जायेगी। सिविल सर्जन द्वारा बताया गया कि जेई/एईएस की रोकथाम  के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा सारी व्यवस्थाएं चुस्त-दुरूस्त रखी गयी है। निर्देशानुसार जिले के सभी सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों का पुनः समीक्षा एवं निरीक्षण कराया जायेगा। उन्होंने बताया कि जिले के सभी पीएचसी में दो-दो बेड जेई/एईएस के लिए सुरक्षित रखा गया है। सभी तरह की आवश्यक दवाएं एवं अन्य चिकित्सीय व्यवस्था अपडेट करा दी जायेगी। उन्होंने बताया कि नियमित रूप से टीकाकरण अभियान एवं विटामिन-ए की खुराक बच्चों को दिलायी जा रही है।  उन्होंने बताया कि नरकटियागंज अनुमंडलीय अस्पताल में पीकू (शिशु गहन चिकित्सा इकाई) वार्ड फंक्शनल है। यहां पर 10 बेड की व्यवस्था माॅनिटर के साथ की गयी है। साथ ही 05 बेड वेंटिलेटर से लैश है। उन्होंने बताया कि सभी डाॅक्टरों को निर्देश दिया गया है कि ट्रिटमेंट प्रोटोकाॅल का शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित किया जाय। बिना ट्रिटमेंट प्रोटोकाॅल के रेफर नहीं किया जाय।  सिविल सर्जन ने बताया कि अभिभावक अपने-अपने बच्चों को रात में बिना खाना खिलाएं नहीं साने दें। अगर कोई बच्चा शाम के समय में खाना खाया है और सो गया है तो उसे भी रात में जगाकर अवश्य खाना खिलाएं। इसके साथ ही बच्चों को रात में सोते समय अनिवार्य रूप से मीठा सामग्री यथा-गुड़, शक्कर, चीनी आदि खिलाएं। उन्होंने कहा कि चमकी बुखार अधिकांशतः रात के 02 बजे से 04 बजे के बीच अक्रामक रूप लेता है, इस समय सभी अभिभावकों को सचेत रहने की आवश्यकता है। अगर चमकी के साथ तेज बुखार हो तो तुरंत क्षेत्र के एएनएम, आशा कार्यकर्ता अथवा आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका को सूचित करें। इनके माध्यम से आवश्यक दवाएं तथा प्राथमिक उपचार की जायेगी तथा नजदीकी पीएचसी में ले जाकर समुचित उपचार किया जायेगा। इस अवसर पर सिविल सर्जन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं: