बिहार : राजनीतिक द्वेष के कारण नहीं होने दे रहे विकास : चिराग पासवान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 22 मार्च 2021

बिहार : राजनीतिक द्वेष के कारण नहीं होने दे रहे विकास : चिराग पासवान

chirag-attack-nitish
पटना : बिहार दिवस के मौके पर लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान ने एक बार फिर से नीतीश कुमार पर जोरदार हमला बोला है। चिराग ने नीतीश कुमार की कार्यशैली पर हमला बोला है। लोजपा सुप्रीमो और जमुई सांसद चिराग पासवान ने नीतीश कुमार पर आरोप लगाते हुए कहा कि राजनीतिक दुश्मनी के कारण वह उनके क्षेत्र का विकास नहीं होने देते हैं। नीतिश कुमार उनके संसदीय क्षेत्र नीतीश कुमार में अस्पताल नहीं बना रहे हैं। चिराग पासवान ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट करते हुए कहा कि बिहार दिवस के दिन यह लिखते हुए काफी दुख हो रहा है कि बिहार का शिक्षा स्तर इतना नीचे गिर गया है कि कोई भी सक्षम बिहारी अपने बच्चों को बिहार में नहीं पढ़ाना चाहता है। चिराग ने कहा कि केंद्र सरकार बिहार को मदद करना चाहती है। लेकिन बिहार के सिस्टम ने ही केंद्र सरकार के पैरों में जंजीरे लगा दी। उन्होंने कहा कि 3 साल पहले केंद्र सरकार ने 450 करोड़ की लागत से 500 बेड के मेडिकल कॉलेज स्वीकृति जमुई में दी थी। इस परियोजना की जिम्मेदारी नीतीश सरकार को दी गई थी। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया यही कारण है कि जमुई में 500 बेड वाला मेडिकल कॉलेज नहीं बन पा रहा है। चिराग ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर इस बात की जानकारी दी। लेकिन अफसोस है कि उन्होंने कोई पहल नहीं की। रात के 1:08 बजे बिहार दिवस के लिए चिंतित बिहार प्रदेश के मुखिया जी से अपेक्षा है कि अगले साल बिहार दिवस आने के पहले यह विकास कार्य शुरू हो जाए ताकि विकास में राजनैतिक द्वेष ना दिखे। चिराग ने कहा कि 22 मार्च 1912 को बिहार राज्य की स्थापना सकारात्मक सोच के साथ की गई होगी और हो भी क्यों नहीं जब भी कोई बिहार के गौरवशाली इतिहास के बारे में पढ़ता है उसका बिहार की मिट्टी के प्रति सम्मान बढ़ जाता है। हम सब आज जब बिहार की 109 वी वर्षगांठ मना रहे है तो बिहार विकास के नित नए मानदंड स्थापित करे यही अपेक्षा करते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: