कृषि कानूनों के आड़ में रचे गए षड़यंत्र को सफल नहीं होने देंगे : टिकैत - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 16 मार्च 2021

कृषि कानूनों के आड़ में रचे गए षड़यंत्र को सफल नहीं होने देंगे : टिकैत

farmer-law-conspiracy-tikait
जबलपुर, 15 मार्च, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कृषि कानूनों को लेकर केन्द्र सरकार पर हमला करते हुए आज कहा कि इन कानूनों की आड़ में किसानों को तबाह करने के लिए जो षडयंत्र रचा गया है, उसे वे सफल नहीं होने देंगे। श्री टिकैत मध्यप्रदेश के जबलपुर की सिहोरा तहसील स्थित कृषि उपज मंडी में किसान महापंचायत को संबोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि किसान को औलाद से भी अधिक जमीन प्यारी होती है। जीवित रहते किसान अपनी जमीन औलाद के नाम नहीं कर सकता है। किसान अपनी जमीन किसी कारपोरेट घरानों को नहीं देने वाले हैं। यह आंदोलन तब तक चलेगा, जब तक कृषि कानून वापस नहीं होता। उन्होंने कहा कि दिल्ली में 100 दिन से आंदोलन चल रहा है और सरकार मान नहीं रही। उन्होंने कहा कि इन कानूनों के खिलाफ आजादी की दूसरी क्रांति की जरूरत पड़ी, तो हम तैयार हैं। महापंचायत से पहले श्री टिकैत ने मीडिया से चर्चा में कहा कि बैरन-पोस्टर फाडने की ओछी राजनीति हम नहीं रोक  सकते हैं। मध्यप्रदेश में किसानों की स्थिति ठीक नहीं है, यहां के किसानों को गुमराह कर आंदोलन में शामिल नहीं होने दिया जा रहा है। किसान के साथ नौजवान भी जाग गया है। यह सब कुछ ज्यादा दिन तक नहीं चलने वाला है। वह अच्छी तरह से जान गया है कि कृषि कानून नुकसानदायक है।



live samachar, livesamachar

कोई टिप्पणी नहीं: