पिटाई शब्द का इस्तेमाल करना क्या सही है : नीतीश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 7 मार्च 2021

पिटाई शब्द का इस्तेमाल करना क्या सही है : नीतीश

nitish-question-to-giriraj
बेगूसराय : केंद्रीय मंत्री और भाजपा सासंद गिरिराज सिंह के विवादित बयान के बाद राजनीतिक गलियों में एक बार फिर से हलचल मच गई है। जहां एक तरफ विपक्ष द्वारा लागातार उनके बयान को लेकर हमला बोला जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ बिहार के मुखिया नीतीश कुमार ने भी उनसे सवाल दागा है। मुख्यमंत्री ने गिरिराज सिंह के बयान को लेकर सवाल किया है कि गिरिराज सिंह ही बताएं की पिटाई शब्द का इस्तेमाल करना क्या सही है ? इसके साथ ही उन्होंने कहा कि किसी अधिकारी के साथ ऐसा बर्ताव करना क्या सही रहेगा ? दरअसल , बेगूसराय सांसद गिरिराज सिंह ने एक सार्वजनिक मंच से खुले तौर पर कहा था कि जो अधिकारी सहित तौर पर काम नहीं करता है उसके सिर पर दोनों हाथ से लाठी मरना चाइए। उन्होंने सार्वजनिक मंच से कहा कि सांसद, विधायक, जिलाधिकारी, अंचलाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, मुखिया सब जनता के लिए हैं। यदि पदाधिकारी सही से काम नहीं करता हो तो उसके सिर पर दोनों हाथों से लाठी मार दो। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इतना करने के बाद फिर भी अधिकारी नहीं सुनता है तो गिरिराज सिंह आपके साथ हैं। ज्ञात हो कि जब गिरिराज सिंह मंच पर कार्यक्रम के सिलसिले में अपनी बात लोगों के समक्ष रख रहे थे तभी सामने बैठे लोगों ने अधिकारियों द्वारा काम नहीं किए जाने की शिकायत की। यही नहीं फरियादी अधिकारियों की शिकायत से संबंधित आवेदन भी सौंप रहे थे। तभी इसी दौरान किसी ने सीओ साहब की शिकायत कर दी फिर क्या था गिरिराज सिंह अपने चिर परिचित अंदाज में एक बार फिर से अधिकारियों पर हमला बोला।

कोई टिप्पणी नहीं: