बिहार : शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के सवाल पर विधानसभा का घेराव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 1 मार्च 2021

बिहार : शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के सवाल पर विधानसभा का घेराव

student-protest-bihar-assembly
पटना 1 मार्च, आज पटना के गांधी मैदान से आइसा और इंक़लाबी नौजवान सभा के द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के सवाल पर विधानसभा का घेराव किया गया.19 लाख रोजगार  मांग रहा है युवा बिहार, नए बिहार के तीन आधार-शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार, नौजवानों का अपमान नहीं सहेगा बिहार ,ठेका, संविदा व्यवस्था बंद करो, पक्की नौकरी-सरकारी नौकरी की गारंटी करो जैसे गगन भेदी नारों के साथ छात्र नौजवानों ने गांधी मैदान से विधानसभा की ओर कूच किया गया जहां. इस घेराव का नेतृत्व आइसा के राष्ट्रीय महासचिव सह विधायक संदीप सौरभ,इंकलाबी नौजवान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व विधायक मनोज मंजिल,इंकलाबी नौजवान सभा के राष्ट्रीय महासचिव नीरज कुमार, इंक़लाबी नौजवान सभा के राज्यअध्यक्ष सह विधायक अजीत कुशवाहा, राज्य सचिव सुधीर कुमार, आइसा के राज्य अध्यक्ष मोख्तार, राज्य सचिव सबीर कुमार,तकनीकी छात्र संगठन के ई. सावन कुमार राज्य सह सचिव आकाश कश्यप,शिक्षक अभ्यर्थी नेता राजेंद्र प्रसाद सिंह, अलोक कुमार, दारोगा अभ्यर्थी सनी जायसवाल,महिला सिपाही अभ्यर्थी मोनिका कुमारी, आरती कुमारी, एसएससी के शकील, अभिषेक शामिल थे.


आज के प्रदर्शन में शिक्षा और रोजगार का मुद्दा था, सरकार को छात्र-युवाओं का प्रतिनिधिमंडल बुलाकर उनसे वार्ता करनी चाहिए थी, लेकिन इसके उलट प्रदर्शन पर आंसू गैस के गोले दागे गए, पानी का बौछार किया गया और युवाओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया. प्रशासन ने गांधी मैदान से उनके मार्च को जेपी चैक से आगे बढ़ने तक नहीं दिया . पुलिस के हमले में कई युवाओं के सर फट गए और कई दर्जन लोग बुरी तरह घायल हैं, जिन्हें पीएमसीएच में भर्ती कराया गया है. गंभीर रूप से घायलों में मुकुल राज, पूसा, आशिफ होदा, समस्तीपुर, कन्हैया कुमार, नालंदा, दिलीप कुमार, दरभंगा, मुन्ना कुमार भोजपुर आदि शामिल हैं. यहां तक कि प्रशासन ने प्रदर्शन में शामिल होने माले विधायकों पर भी लाठीचार्ज किया गया, जो बेहद शर्मनाक है. विधायक संदीप सौरभ, अजित कुशवाहा, मनोज मंजिल, महानन्द सिंह, गोपाल रविदास और रामबली सिंह यादव मार्च के समर्थन में पहुंचे थे, लेकिन उनके साथ भी प्रशासन ने बेहद अपमानजनक आचरण किया. बाद में घायल युवाओं से पीएमसीएच में मिलने विधायक वीरेंद्र प्रसाद गुप्ता पहुंचे. उन्होंने सभी घायलों का हालचाल लिया और लड़ाई जारी रखने का आह्वान किया इस मार्च में स्कूल शिक्षक अभ्यार्थी, बैंक,अभियंता अभ्यर्थी, एलआईसी, रेलवे, सीजीएल, आईबीपीएस,  दारोगा, सिपाही, होम गार्ड, कार्यपालक सहायक, बिहार एसएससी, टोला सेवक, तालीमी मरकज, विकास मित्र, गेस्ट शिक्षक, सहायक प्रोफेसर, पारा मेडिकल, सांख्यकी स्वयं सेवक, फिजिकल शिक्षक अभ्यर्थी, सभी तरह के ठेके, मानदेय व प्रोत्साहन राशि पर काम कर रहे कर्मी आदि सभी तरह के रोजगार पाने के लिए प्रयासरत व सम्मानजनक रोजगार के लिए संघर्ष कर रहे अभ्यर्थी व संगठन इस मार्च में शामिल थे.

कोई टिप्पणी नहीं: