प्राथमिक शिक्षा का माध्यम मातृभाषा मैथिली लागू किये जाने का स्वागत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 6 मार्च 2021

प्राथमिक शिक्षा का माध्यम मातृभाषा मैथिली लागू किये जाने का स्वागत

 

manoj jha
बिहार सरकार द्वारा नई शिक्षा नीति के तहत मिथिला क्षेत्र में प्राथमिक शिक्षा का माध्यम मातृभाषा मैथिली लागू किये जाने का स्वागत करते हुए मिथिला लोकतांत्रिक मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज झा ने बयान जारी कर कहा है कि प्राथमिक शिक्षा का माध्यम मातृभाषा होने से बच्चों का शैक्षणिक विकास तीव्र गति से होगा। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा फरवरी 2014 में पटना में किए गए दस दिनों के अनशन के दौरान सरकार के तत्कालीन शिक्षा निदेशक ने इस मांग को तब भी लागू करने का आश्वासन दिया था जिसे आज तक लंबित रखा गया जो मिथिला के छात्रों के भविष्य के लिए बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने सरकार द्वारा मैथिली भाषा को अंगिका, बज्जिका और ठेंठी आदि स्तर पर पृथक किये जाने को चिंताजनक बताते हुए सरकार पर मिथिला क्षेत्र को विभिन्न इकाइयों में बांटने की कड़े शब्दों में निन्दा करते हुए कहा कि सरकार को इस बात को समझना चाहिए कि पांच कोश की दूरी पर भाषा का बदलना भाषा की नई इकाई नहीं माना जा सकता और अंगिका बज्जिका और ठेंठी आदि भाषाएं मैथिली भाषा की ही बोलियां हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: