सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 18 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 18 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 18 अप्रैल

 कलेक्टर की अपील पर सहयोग के लिए आगे आ रहे हैं व्यापारिक प्रतिष्ठान

  • कोविड-19 के इलाज के लिए अच्छी पहल, तीन व्यापारियों द्वारा 81 ऑक्सीजन सिलेंडर जिला चिकित्सालय को प्रदान किए   


sehore news
कोरोना संक्रमण से बचाव को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने ऑक्सीजन का कार्य करने वाली संस्थाओं से आह्वान किया है कि उनके पास खाली या भरे सिलेंडर हो तो वे जिला चिकित्सालय को दें। ताकि कोविड-19 के इलाज में उनका उपयोग किया जा सके। उनके आव्हान पर संस्थाएं अब आगे आ रही हैं। कलेक्टर श्री गुप्ता ने अपील करते हुए कहा की कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए  सामाजिक, व्यापारिक, संस्थाओं द्वारा जो भी सहयोग या योगदान दिया जाएगा यह कोविड-19 के इलाज में मददगार सिद्ध होगा। कलेक्टर श्री गुप्ता के आह्वान पर आज नगर के 3 व्यापारिक प्रतिष्ठानों, जिसमें बादशाह फेब्रिकेशन, राकेश झा एजेंसी तथा डीएस ट्रेडर्स द्वारा 81 सिलेंडर जिला चिकित्सालय को दिए गए। एसडीएम श्री रवि वर्मा, तहसीलदार श्री अमित सिंह तथा श्री नरेंद्र यादव ने इन तीनों संस्थाओं से ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर जिला चिकित्सालय को सौंप दिए।


जिला मुख्यालय स्थित  50 बिस्तरों का ऑक्सीजन युक्त कोविड-19 सेटर शुरु


sehore news
कोरोनो संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देशानुसार जिला मुख्यालय स्थित आवासीय खेल परिसर में 50 बिस्तरों का ऑक्सीजन युक्त कोविड केयर सेंटर प्रारम्भ हो गया है।  इस कोविड सेंटर में चिकित्सकों की टीम द्वारा 24 घंटे सेवा दी जा रही है। कोविड सेंटर में कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती किया जा रहा है।


कुंभ से वापस लौटने वाले श्रद्धालुओं की जानकारी प्राप्त करने एवं डेडिकेटिड नंबर के लिए अधिकारियों की ड्यूटी


कोरोना संक्रमण से रोकथाम एवं बचाव के लिए मध्यप्रदेश शासन गृह विभाग द्वारा जिला प्रशासन को कुंभ के मेले से लौटने वाले श्रद्धालुओं की जानकारी प्राप्त करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए एक डेडिकेटिड नंबर उपलब्ध कराने एवं श्रद्धालुओं को आईसोलेटेड कराने के निर्देशित किया गया है। इस संबंध में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह द्वारा जिला कार्यक्रम समन्वय, सर्व शिक्षा अभियान के पर्यवेक्षण में लगाई गई है। नियुक्त किए गए अधिकारियों में नोडल अधिकारी श्री देवेन्द्र सक्सेना-8770724139, श्री राहुल वर्मा- 7766991105 एवं श्री राजेन्द्र मेवाड़ा-7987456101 शामिल हैं। ये अधिकारी रजिस्ट्रर में संबंधित श्रद्धालुओं की पूरी जानकारी रखेंगे।   


कोविड़ की लड़ाई मे मददगार साबित होगा ऑक्सीजन प्लांट


कोविड की लड़ाई और जिले के कोरोना संक्रमित लोगों के लिये अच्छी खबर यह है कि जिला चिकित्सालय में दो करोड़ रूपये की लागत से हवा से ऑक्सीजन बनाने वाला प्लांट लगाया जा रहा है । निर्माण एजेंसी के इंजिनियरों द्वारा स्थल निरीक्षण कर प्लांट के लिये जरूरी काम शुरू कर दिया गया है। यह प्लांट जल्दी ही बनकर तैयार हो जायेगा। इस प्लांट के बन जाने से  न केवल जिले की आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन की पूर्ति होगी ,बल्कि अन्य जिलों को भी सप्लाई की जा सकेगी। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री हर्ष सिंह ने इस प्लांट के बारे में बताया कि कोविड़ की लड़ाई में यह बहुत मददगार साबित होगा। इस प्लांट का पूरा सिस्टम स्वचालित होगा। यह ऑक्सीजन प्लान प्लांट जिला परिसर में लगाया जाएगा। इसके लिये ऑक्सीजन बनाने वाली मशीन इंस्टॉल की जाएगी । यह प्लांट बिजली से संचालित होगा तथा प्लांट शुरू होने के बाद ऑक्सीजन सर्वप्रथम टंकी में स्टोर होगी। इसके बाद पाइपों के माध्यम से अस्पताल के वार्डों में सप्लाई होगी । ऑक्सीजन की मात्रा स्टोरेज क्षमता से कम होने पर अलार्म बजेगा। इस प्लांट के तैयार हो जाने के बाद ऑक्सीजन की कभी कमी होगी। ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट लगाने से आक्सीजन सिलेंडरों को बार-बार रिफिल करने की आवष्यका नहीं पड़ेगी। इस प्लांट के काम शरू करने के बाद पूरे जिले के लिये ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी। इस की खास बात यह है कि इसमें प्लांट में फायर सेफ्टी का भी आटोमेटिक सिस्टम होगा जिसमें फायर स्प्रिंकलर और स्मोक डिटेक्टर लगाने के बाद यहां धुआं अथवा आग की लपटें उठने पर ऑटोमेटिक पानी की बौछारें शुरू होगी जिससे आग को शीघ्र  बुझाया जा सकेगा।    


होम आयसोलेशन में हर मरीज को दें मेडिकल किट

  • जनता को निरंतर दी जाए अस्पतालों, बिस्तरों आदि की जानकारी, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना टेस्ट की संख्या बढ़ाई जाए और उसकी रिपोर्ट 24 घंटे में आना सुनिश्चित किया जाए। होम आयसोलेशन की व्यवस्था को पुख्ता बनाया जाए तथा होम आयसोलेशन में रह रहे हर मरीज को नि:शुल्क दवाई की किट उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के इलाज के लिए अस्पतालों में बिस्तरों, ऑक्सीजन, इंजेक्शन, दवाओं आदि की सुविधा निर्बाध रूप से मिलती रहे, यह सुनिश्चित किया जाए। साथ ही इन सुविधाओं की जानकारी कॉल सेंटर 1075 आदि के माध्यम से जनता को निरंतर मिलती रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे।


होम आयसोलेशन व्यवस्था को पुख्ता करें- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि होम आयसोलेशन व्यवस्था को इतना सुदृढ़ बनाया जाए कि मरीजों को अस्पताल जाने की जरूरत ही न पड़े। होम आयसोलेशन में दवाओं की किट, टेलीमेडिसिन के साथ ही निरंतर निगरानी हो। दिन में दो बार मरीज से बात की जाए। होम आयसोलेशन में रह रहे मरीजों को शहरी क्षेत्र में नगरीय निकाय एवं ग्रामीण क्षेत्र में पंचायतों के माध्यम से नि:शुल्क दवाओं की किट वितरित की जाएगी। वर्तमान में प्रदेश में 44 हजार 999 मरीज होम आयसोलेशन में हैं।


समय पर पहुँच जाए सभी जिलों में ऑक्सीजन- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति निरंतर बढ़ती जा रही है तथा उपयोग के हिसाब से ऑक्सीजन मिल रही है। यह सुनिश्चित किया जाए कि प्राप्त ऑक्सीजन सभी जिलों को समय पर उपलब्ध हो जाए।


चार हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था- प्रदेश के विभिन्न जिलों में चार हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था की जा रही है। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं। दो हजार कंसंट्रेटर पहले दिए जा चुके हैं तथा 150 कंसंट्रेटर और आ गए हैं। इसी प्रकार सभी जिलों में कुल 58 ऑक्सीजन संयंत्र चालू किए जाने के संबंध में कार्यवाही की जा रही है। इनमें से 21 लग गए हैं तथा 13 शीघ्र चालू होंगे।  


प्रदेश में 63 हजार 889 एक्टिव प्रकरण-प्रदेश में कोरोना के 63 हजार 889 एक्टिव प्रकरण हैं। कोरोना के 11 हजार 269 नए प्रकरण आए हैं। प्रदेश में कोरोना संक्रमण बढ़ने की गति धीमी हुई है। एक्टिव प्रकरणों में से 68 प्रतिशत होम आयसोलेशन तथा 32 प्रतिशत अस्पतालों में हैं। विमान से मंगाए इंजेक्शन- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की त्वरित आपूर्ति के लिए उन्हें विमान से मंगाने की व्यवस्था की जाए। हेट्रो कम्पनी को एक लाख रेमडेसिविर इंजेक्शन का आर्डर दिया गया है। निर्धारित दर पर ही हो कोरोना जाँच एवं इलाज- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि निजी लैब, अस्पतालों द्वारा निर्धारित दर पर ही कोरोना टेस्ट, सीटी स्केन तथा कोरोना का उपचार किया जाए। अस्पताल टेस्ट एवं इलाज की दरें बाहर प्रदर्शित करें। जो अस्पताल निर्धारित दरों से अधिक शुल्क लें, उनके खिलाफ कार्यवाही की जाए। टेस्टिंग के लिए न लगे लाइन- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शासकीय एवं निजी लेब में कोरोना टेस्ट क्षमता बढ़ाने के निर्देश दिए। साथ ही वहां इस प्रकार की व्यवस्था की जाए कि किसी भी व्यक्ति को कोरोना टेस्ट करवाने के लिए लाइन में न लगना पड़े। सभी जिलों में चालू हुए सीसीसी-प्रदेश के सभी जिलों में 110 कोविड केयर सेंटर प्रारंभ कर दिए गए हैं। इनमें 6,153 बिस्तरों की उपलब्धता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि जिन मरीजों को होम आयसोलेशन के लिए उनके घर में जगह नहीं है, उन्हें सीसीसी में रखा जाए। यहाँ दवाओं, चाय, नाश्ता, भोजन आदि सभी व्यवस्थाएँ अच्छी हों।  


पात्र हितग्राहियों को अप्रैल एवं मई दो माह का एक साथ राशन वितरण होगा


राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 में शामिल पात्र परिवारों हेतु शासन ने माह अप्रैल एवं मई 2021 का एक मुश्त खाद्यान, शक्कर, नमक का आवंटन जारी किया गया है। माह अप्रैल एवं मई का खाद्यान, शक्कर एवं नमक का वितरण परिवार को एक मुश्त अप्रैल माह में किया जायेगा। जिन पात्र परिवारों द्वारा माह अप्रैल 2021 की सामग्री प्राप्त की जा चुकी है। उन परिवारों को माह मई 2021 की सामग्री का वितरण अप्रैल 2021 में ही किया जायेगा। सभी उचित मूल्य की दुकानों पर दो माह अप्रैल एवं मई की एक मुश्त सामग्री वितरण की सूचना भी प्रदर्शित करनी होगी। सभी दुकानदार विक्रेता एवं प्रबंधकों को इसका व्यापक प्रचार-प्रसार के साथ सामग्री वितरण के दौरान कोविड-19 की गाईड लाईन का भी पूर्ण रूप से पालन करने के निर्देश दिए है। निर्देशों की अवहेलना करने पर प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति एवं सहकारी भण्ड़ार के प्रबंधक एवं विक्रेताओं के विरूद्ध मध्यप्रदेश सार्वजनिक वितरण प्रणाली नियंत्रण आदेश 2015 के प्रावधानों के तहत् कार्यवाही की जायेगी।


होम आइसोलेट पॉजिटिव व्यक्ति निर्देशों का पालन करें, बाहर घूमता पाए जाने पर कार्यवाही होगी


कोविड-19 के तहत पॉजिटिव पाए जाने पर होम आइसोलेट किए गए व्यक्ति पूरी तरह क्वारंटाइन रहें। संक्रमित व्यक्ति और उनके परिजन कंटेनमेंट से बाहर न आएं।  यदि होम आइसोलेट व्यक्ति द्वारा तय मानकों का उल्लंघन किया जाना पाया जाता है तो रोगी एवं उसके वयस्क देखभालकर्ता अथवा परिजनों के विरुद्ध मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949, महामारी रोग अधिनियम 1984 एवं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा 51 के तहत पेनल्टी एवं वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। संक्रमित व्यक्ति जो होम आइसोलेशन में है वे नियमों का पालन करते हुए पॉजिटिव सैंपल आने के बाद 14 दिन तक होम क्वारंटीन रहेंगे। इसके पश्चात दो नेगेटिव रिपोर्ट आने के उपरांत भी सात दिन तक होम आइसोलेशन में रहेंगे। संक्रमित व्यक्ति एवं उनके परिजन यदि होम आइसोलेशन से बाहर पाए जाते हैं तो उन पर दो हजार रूपये का जुर्माना और धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज किया जाएगा । यदि होम आइसोलेट व्यक्ति के उक्त अवधि समाप्त होने के उपरांत भी कंटेनमेंट समाप्त नहीं किया गया है तो वे इसकी जानकारी कंट्रोल रूम नंबर 1075 पर दे सकते हैं। मगर किसी भी स्थिति में संक्रमित व्यक्ति अथवा उनके परिजन होम आइसोलेशन के निर्देशों का उल्लंघन नहीं करेंगे।


वरिष्ठ नागरिक बेघर अवस्था में हो या उनके साथ दुर्व्यवहार होता हो तो टोल फ्री नंबर 14567 पर सूचना दें ’राष्ट्रीय हेल्पलाइन स्थापित’


वरिष्ठ नागरिक बेघर अवस्था में हो अथवा उनके साथ दुर्व्यवहार हो रहा हो तो टोल फ्री नंबर 14567 पर कॉल कर सूचित करें, ताकि संबन्धित विभागों के अधिकारियों द्वारा वरिष्ठ नागरिकों को सुरक्षा एवं आवश्यक सेवाएं दी जा सके एवं उनकी देखभाल की जा सके। विदित हो कि वरिष्ठ नागरिकों को सहायता एवं सेवा प्रदान करने हेतु भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय एवं राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय हेल्पलाइन स्थापित की गई है। मप्र में हेल्पलाइन 14567 का क्रियान्वयन सामाजिक न्याय एवं निशक्तजन कल्याण विभाग द्वारा हेल्पेज इंडिया भोपाल के माध्यम से किया जा रहा है।


सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिये किया जा रहा है एप का उपयोग


अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (पीटीआरआई) श्री डी.सी. सागर ने बताया है कि इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डाटाबेस (आईआरएडी) का क्रियान्वयन मध्यप्रदेश में प्रभावी रूप से किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस एप का उपयोग प्रदेश के 41 जिलों में प्रारंभ किया जा चुका है। एडीजी श्री सागर ने बताया कि भारत सरकार ने एप के क्रियान्वयन के लिये पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में मध्यप्रदेश को भी शामिल किया है। मध्यप्रदेश के अतिरिक्त तमिलनाडु, उत्तरप्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र और राजस्थान को भी पायलेट प्रोजेक्ट में शामिल किया गया है। श्री सागर ने बताया कि एप का उपयोग कर सड़क दुर्घटनाओं का डाटाबेस तैयार किया जा रहा है। डाटाबेस के आधार पर दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिये आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं, जिससे दुर्घटनाओं की संख्या को न्यूनतम किया जाकर जन-धन हानि से बचाया जा सके। 


प्रदेश में तेजी से सामान्य हो रही है ऑक्सीजन की सप्लाई : मुख्यमंत्री श्री चौहान


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कल हमें 350 मैट्रिक टन ऑक्सीजन मिली। जबकि खपत 335 मैट्रिक टन हुई है। ऑक्सीजन की सफ्लाई अब प्रदेश में तेजी से सामान्य हो रही है। स्थानीय तौर पर व्यवस्था कर जिलों में 1,293 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर्स लगाए जा चुके हैं। केन्द्र सरकार से 20 अप्रैल तक 445 मैट्रिक टन, 25 अप्रैल तक 565 मैट्रिक टन और 30 अप्रैल 700 मैट्रिक टन ऑक्सीजन आपूर्ति पर सहमति प्राप्त हो गई है। ऑक्सीजन की इतनी मात्रा अप्रैल अंत तक अनुमानित मरीजों के लिए पर्याप्त होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान निवास पर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। कोरोना-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने फोन पर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए।


केन्द्रीय मंत्रियों से निरंतर संपर्क और जिलों पर निगरानी- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन, इंजेक्शन और अन्य सुविधाओं के पूर्ति के लिए केन्द्रीय मंत्रियों सहित व्यवस्था की दृष्टि से महत्वपूर्ण सभी व्यक्तियों से वे निरंतर फोन पर संपर्क में है। जिला स्तर पर आवश्यक सुविधाओं और व्यवस्थाओं के लिए जिला अधिकारियों से संवाद जारी है।


अब तक 42 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन प्राप्त, आज और मिलेंगे 9788- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब तक 42 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन की शासकीय सप्लाई आ चुकी है। आज शनिवार को 9,788 इंजेक्शन और प्राप्त हो रहे हैं। 50 हजार इंजेक्शन की सप्लाई का आर्डर दिया गया है, जिसकी शीघ्र ही डिलीवरी प्राप्त होगी।


40 हजार 276 बिस्तर उपलब्ध, निरतंर बढ़ रही है संख्या- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बिस्तरों की संख्या लगातार बढ़ाई जा रही है। शासकीय और निजी अस्पतालों में 14 अप्रैल को कुल 37 हजार 719 बिस्तर उपलब्ध थे जो अब बढ़कर 40 हजार 276 हो गए हैं। प्रदेश के 50 जिलों में 109 कोविड केयर सेंटर स्थापित किए जा चुके हैं, जिनमें 6,153 बिस्तर उपलब्ध हैं। भोपाल में प्रशासन अकादमी में 150, हमीदिया अस्पताल में 300, चिरायु अस्पताल में 300 और एम्स में 500 बिस्तरों की व्यवस्था की जा रही है। इस क्रम में शुक्रवार को छतरपुर में 58 बिस्तर के नर्मदा - अपना हास्पिटल का शुभारंभ हुआ है।   


जिले अपनाएँ “बैस्ट प्रेक्टिसेस“-कोरोना कर्फ्यू, मास्क पर सख्ती, व्यापक सर्वे आवश्यक

  • हर जिले में होम आयसोलेशन व्यवस्था को प्रभावी बनाया जाए, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना नियंत्रण के लिए खंडवा, बुरहानपुर, देवास एवं छिंदवाड़ा जिलों ने अच्छा काम किया है। इन जिलों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट उल्लेखनीय रूप से कम हुई है, नए प्रकरण कम आ रहे हैं और रिकवरी लगातार बढ़ रही है। यहाँ अपनाई गई बैस्ट प्रेक्टिसेस को अन्य जिले भी लागू करें। कोरोना कर्फ्यू, मास्क पर सख्ती तथा व्यापक सर्वे कोरोना संक्रमण रोकने में प्रभावी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी प्रभारी मंत्री अपने जिलों में अच्छा कार्य कर रहे हैं। हर जिले में होम आईसोलेशन व्यवस्था को प्रभावी बनाया जाए। वहाँ मरीजों को दवा, चिकित्सा, परामर्श, उनकी मॉनीटरिंग के अलावा दिन में कम से कम दो बार उनसे बात की जाए। प्रभारी मंत्री स्वयं भी होम आयसोलेशन के मरीजों से बात करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में प्रभारी मंत्रीगण अपने-अपने जिलों से शामिल हुए। भोपाल से मंत्री श्री विश्वास सारंग, इंदौर से श्री तुलसी सिलावट, जबलपुर से श्री अरविंद सिंह भदौरिया, ग्वालियर से श्री प्रद्युम्न सिंह, उज्जैन से श्री मोहन यादव, शाजापुर से श्री इंदर सिंह परमार, शिवपुरी से श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, नीमच से श्री ओमप्रकाश सखलेचा, खरगोन से श्री हरदीप सिंह डंग, रीवा से श्री रामखेलावन पटेल, शहडोल से बिसाहूलाल सिंह, रायसेन से डॉ. प्रभुराम चौधरी, राजगढ़ से श्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया, बैतूल से श्री कमल पटेल, धार से श्री राजवर्धनसिंह दत्तीगांव, रतलाम से श्री जगदीश देवड़ा, सिवनी से श्री रामकिशोर कांवरे, उमरिया से सुश्री मीना सिंह, अशोकनगर से श्री बृजेन्द्र सिंह, बड़वानी से श्री प्रेम सिंह पटेल शामिल हुए। वी.सी. में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव गृह श्री राजेश राजौरा तथा सभी संबंधित अधिकारी शामिल हुए। कोरोना नियंत्रण में खण्डवा, बुरहानपुर, छिंदवाड़ा एवं देवास जिलों में अच्छा कार्य हुआ है। इन सभी जिलों में पॉजिटिविटी रेट में निरंतर गिरावट आयी है, नए प्रकरण आना कम हो गए हैं और बड़ी संख्या में मरीज ठीक हुए हैं। खण्डवा में पॉजिटिविटी रेट 4.6 प्रतिशत हो गई है, नए प्रकरण 19 आए हैं और 24 मरीज ठीक हुए हैं। इसी प्रकार बुरहानपुर में पॉजिटिविटी रेट 4.90 प्रतिशत है, नए मरीज 28 आए हैं तथा 30 मरीज ठीक हुए हैं। महाराष्ट्र बार्डर पर स्थित होने के बाद भी बुरहानपुर में कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण हुआ है। छिंदवाड़ा जिले में पॉजिटिविटी रेट 9.73 प्रतिशत रह गई है, जो पहले काफी अधिक थी। नए प्रकरण 75 आए हैं जबकि 185 मरीज ठीक हो गए हैं। देवास की पॉजिटिविटी रेट 6.91 प्रतिशत है, यहाँ 35 नए मरीज आए हैं जबकि 165 मरीज ठीक हुए हैं। 59,183 एक्टिव प्रकरण- प्रदेश में 59 हजार 183 एक्टिव प्रकरण हैं। नए प्रकरण 11 हजार 45 आए हैं। पॉजिटिविटी रेट 18.6 प्रतिशत है। संक्रमण की दृष्टि से म.प्र. का देश में छठवा स्थान है। एक्टिव मरीजों में 68 प्रतिशत होम आयसोलेशन में है और 32 प्रतिशत अस्पतालों में हैं।


ऑक्सीजन एवं इंजेक्शन की पर्याप्त उपलब्धता, केन्द्रीय मंत्री श्री सदानंद गौड़ा से बात की- प्रदेश में ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन की पर्याप्त उपलब्धता है। 20 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन सनफार्मा कंपनी से मिल रहे हैं। मायलौन कंपनी को 50 हजार इंजेक्शन का ऑडर्र दिया गया है। एक लाख इंजेक्शन का ऑर्डर और दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता के लिए केन्द्रीय उर्वरक एवं रसायन मंत्री श्री सदानंद गौड़ा से भी वी.सी के दौरान बात की। उन्होंने आश्वस्त किया कि मध्यप्रदेश को पर्याप्त इंजेक्शन उपलब्ध कराए जाएंगे। भोपाल में सर्वाधिक प्रकरण- जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि भोपाल में कोरोना के सर्वाधिक 1681 नए प्रकरण हैं। इंदौर में 1679, जबलपुर में 724, ग्वालियर में 692, सागर में 278, उज्जैन में 275, शाजापुर में 257, शिवपुरी में 246, कटनी में 228, खरगोन में 218, नरसिंहपुर में 216, सतना में 208, शहडोल में 198, रायसेन में 193, छतरपुर में 187, राजगढ़ में 185, बैतूल में 170, पन्ना में 164, धार में 162, रतलाम में 158, विदिशा में 152, सिवनी में 148, उमरिया में 146, गुना में 142, टीकमगढ़ में 142, दमोह में 128, रीवा में 126 और अनूपपुर में 123 नए प्रकरण आए हैं।


ये भी निर्देश दिए- होम आयसोलेशन में टेलीमेडिसिन सुविधा सुनिश्चित करें। भोपाल में शासकीय कर्मचारियों द्वारा वर्क फ्रोम होम व्यवस्था (आवश्यक सेवाएँ छोड़कर)। सभी परीक्षाएँ घर बैठे ही ओपन बुक व ऑनलाइन माध्यम से। सैंपल देने के बाद व्यक्ति घर पर ही रहे। जिन गाँवों में कोरोना प्रकरण अधिक है वहाँ आयसोलेशन सेंटर बनाएँ। दूसरे प्रदेशों से आने वाले मजदूरों को ग्राम में आइसोलेट करें। कोरोना कर्फ्यू के संबंध में स्थानीय क्राइसिस मैनेजमेंट समिति जनता से चर्चा कर निर्णय ले। कुंभ से लौटकर आने वाले व्यक्तियों की जाँच व क्वारेंटाइन की व्यवस्था करें। यदि कोरोना टेस्ट निगेटिव आता है और कोरोना के लक्षण हैं, तो उपचार किया जाए। हर जिले में सिटी स्केन मशीन शीघ्र चालू हो जाए। चिकित्सक, पैरा मैडिकल स्टाफ की आपातकालीन भर्ती तुरंत करें। जन-जागरण कार्य में कोरोना वॉलेंटियर्स के साथ स्व-सहायता समूहों का भी सहयोग लिया जाए। सभी त्यौहार, उत्सव घर पर ही मनाएँ।


जिला कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सुरेश गुप्ता एडवोकेट करिशमाई नेताओं में शामिल थे उनमें बड़ी जिम्मेदारी निभाने की क्षमता थीै- राकेश राय


sehore news
सीहोर।जिला कांग्रेंस सीहेार के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेश गुप्ता एडवोकेट का अनायस  निधन का समाचार मिलने पर कांग्रेस कार्यकर्ता व सीहेार जिले तथा मध्य प्रदेश के अभिभाषक संघ में शोक की लहर छा गई। सेवादल कांग्रेस के जिलाध्यक्ष नरेंद्र खंगराले के द्वारा शोक समाचार सुनकर श्री गुप्ता को सेवादल कांगेस परिवार की ओर से शोक श्रद्धांजली दी गई। मध्य प्रदेश सेवादल कांग्रेस के प्रदेश सचिव राकेश राय ने श्रद्धांजली अर्पित करते हुए कहा की श्री गुप्ता का असामय निधन सीहेार जिले के कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए अत्यंत दुख का विषय है वह उन करिशमाई नेताओं में शामिल थे उनमें जिले तथा राज को नेतृत्व प्रदान करने तथा बड़ी जिम्मेदारी निभाने की क्षमता थी इस लिए वह प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अजीज कुरेशी, पूर्व मंत्री व वरिष्ठ सासंद रहे स्वर्गीय गुफराने आजम जैसे बड़े नेताओं के करीब माने जाते थे। सीहोर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ बलबीर तोमर ने श्री गुप्ता के निधन पर गहरी शोक श्रद्धांजली अर्पित करते हुए कहा की मेरे नजदीकी साथी जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष श्री गुप्ता का परलोक गमन हो जाने पर मुझे गहरा दुख व अद्यात पहुंचा है वह सीहेार जिले के कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए वरिष्ठ अभिभाषक कानून सलाकार तथा तेजतर्रट नेता थे जिनके असामय निधन से खाली हुई जगह को भरना मुश्किल है।   जिला कांग्रेस सेवादल अध्यक्ष नरेंद्र खंगराले ने कहा की श्री गुप्ता का अनायस निधन कांग्रेस की बहुत बड़ी क्षति है। श्रद्धांजली देने वालों में प्रमुख रूप से पूर्व विधायक रमेश सक्सेना नईम नबाव, रूकमणी रोहिला, प्रेमबंधू शर्मा, धमेंद्र ठाकुर, दर्शन सिंह वर्मा, ओम वर्मा, महेश दयाल चौरसिया रामनायण ताम्रकार केयू कुरैशी, राजाराम बडे भाई सुरेश साबू, डॉ अनीस खान, गुलाब बाई ठाकुर, ममता त्रिपाठी, जफरलाल मोहम्मद शमीम कुतुबुददीन शेख, हाफीज चौधरी, अश्फाक भाई, देवेंद्र ठाकुर,राजेंद्र ठाकुर, राजीव गुजराती, सीताराम भारती,आरती नरेंद्र खंगराले, मीरा रेकवार, पवन राठौर, विवेक राठौर, रामू चौधरी,शरद जोशी, प्रीतम दयाल चौरसिया, भूरा यादव, सुनील दुबे मांगीलाल टिमरई, कमल सूर्यवंशी, मून्नलाल मालवीय, धनश्याम जाटव आदि कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल है।


कंट्रोल रूम में डाटा एंट्री कार्य के लिए कम्प्यूटर ऑपरेटर की लगाई ड्यूटी   


जिला स्तर पर कोविड कमांड एवं कंट्रोल सेंटर ई-दक्ष कार्यालय कलेक्ट्रेट में स्थापित किया गया है। कंट्रोल रूम में डाटा एंट्री कार्य के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा सहायक वर्ग एवं कंप्यूटर ऑपरेटर की ड्यूटी लगाई गई है। साथ निर्देश दिए गए हैं कि संबंधित कर्मचारी तत्काल अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करें। कलेक्टर की पूर्व अनुमति के बिना किसी भी दिशा में अवकाश स्वीकृत नहीं होगा। जिन कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है उनमें पशुपालन विभाग से कंप्यूटर ऑपरेटर श्री प्रकाश सोलंकी एवं लोक सेवा प्रबंधन से श्री राशि टंडन को प्रातः 8:00 बजे से अपराहन 2:00 बजे तक, जिला शहरी विकास अभिकरण से श्री नाईम खान एवं श्री परवेज अंसारी स्नातकोत्तर महाविद्यालय अपरांत 2:00 बजे से रात्रि 8:00 बजे तक तथा श्री विनीश राठौर जिला प्लानिंग कार्यालय को रात्रि 8:00 बजे से प्रातः 8:00 बजे तक शामिल हैं। संबंधित कर्मचारी नोडल अधिकारी कार्यपालन यंत्री जल संसाधन विभाग श्री दीपक चौकसे से समन्वय कर ड्यूटी संपादित करेंगे। नोडल अधिकारी द्वारा जरूरत अनुसार ड्यूटी समय में परिवर्तन किया जा सकता है। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो होकर आगामी आदेश तक प्रभाव सील रहेगा।  


कोविड केयर सेंटर की कलेक्टर श्री गुप्ता कर रहे हैं सतत मॉनिटरिंग, व्यवसायिक प्रतिष्ठानों से ऑक्सीजन सिलेंडर देने की कलेक्टर ने की अपील  


sehore-news
जिला मुख्यालय सहित सभी अनुभागों में बनाए गए कोविड केयर सेंटर की कलेक्टर श्री अजय गुप्ता सतत मॉनिटरिंग कर रहे हैं। आज जिला मुख्यालय स्थित आवासीय खेल परिसर में बनाए गए 50 ऑक्सीजन युक्त बिस्तरों का कोविड केयर सेंटर प्रारंभ हो गया है। इसके साथ ही बुधनी में भी कोविड  केयर सेंटर आज से चालू हो गया है। बुधनी में आज 4 मरीजों को भर्ती किया गया है। केंद्र पर आवश्यक मूलभूत सुविधाएं जैसे वाशरूम, टॉइलेट्रीज़, शुद्ध पेयजल आदि उपलब्ध कराए गए हैं तथा कोरोना पॉजिटिव मरीजों को आवश्यक मेडिकल सुविधाएं भी उपलब्ध कराई गई हैं। केंद्र पर डेडिकेटेड मेडिकल टीम को ड्यूटी लगाई गई है। कलेक्टर श्री गुप्ता ने एसडीएम, तहसीलदार तथा चिकित्सकों सहित सभी ड्यूटी में तैनात अधिकारी- कर्मचारियों को यह निर्देश दिए हैं कि कोई भी मरीज कोविड सेंटर में आता है तो, त्वरित जांच एवं समुचित उपचार शीघ्र प्रारंभ किया जाना सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही सभी अनुभाग में एसडीएम सहित सभी संबंधित अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि अपने-अपने अनुभवों में कोरोना कर्फ्यू का पालन कराया जाना सुनिश्चित करें। कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। प्रति लोगों को जागरूक किया जाए। निरंतर यह अनाउंसमेंट कराया जाए कि अनावश्यक लोग घरों से बाहर ना निकले। जिन्हें अत्यावश्यक कार्य से बाहर जाना है वह आवश्यक वांछित पेपर अपने साथ रखें। उन्होंने बताया कि जिला चिकित्सालय सहित सभी कोविड सेंटरों में सभी आवश्यक सुविधाएं सुनिश्चित कर ली गई हैं। उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन का उपयोग करने वाले व्यापारिक एवं  औद्योगिक प्रतिष्ठानों से अपील की गई है कि वह उनके पास उपलब्ध ऑक्सीजन सिलेंडर भरे-खाली सिलेंडर जिला चिकित्सालय को को दें। ताकि कोविड-19 मरीजों के उपचार में उनका उपयोग किया जा सके। उन्होंने बताया कि आज सीहोर के 3 प्रतिष्ठानों ने 81 ऑक्सीजन सिलेंडर जिला चिकित्सालय को दिए हैं।


जिले में 158 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 542, 2 कोरोना संक्रमितों की मृत्यु, मृतकों की कुल संख्या 56


पिछले 24 घंटे के दौरान 158 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहर के 17 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जो जिला चिकित्सालय परिक्षेत्र, ऑफिसर्स कॉलोनी, राजाबाग, चाण्क्यपुरी, जेएनवी सीहोर, यादव मोहल्ला, आराकस मोहल्ला, गंगा आश्रम, न्यू बस स्टेण्ड, गुलाब विहार कॉलोनी, मंडी के निवासी हैं। इसी तरह आष्टा क्षेत्र से 33 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है जो टिटोरिया, बैदाखेड़ी, साई कॉलोनी, कोठरी, सेमनरी रोड़, बुधवार, मुकाती कॉलोनी, मेहतवाड़ा, सेल फैक्ट्री, दादाबाड़ी, जुम्मापुरा, गल चौराहा, रायल कॉलोनी, कचनारिया, अमलाहा, सुभाष नगर, वीरपुर डेम, अलीपुर, बजरंग कॉलोनी, काजीखेड़ी, मालीखेड़ी, किला क्षेत्र, थाना क्षेत्र, चंदन नगर, शांतिनगर के निवासी हैं। इछावर अन्तर्गत 54 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं जो इछावर के वार्ड नंबर 1, 7, 2, 11, 12, कांकरखेड़ा, एसबीआई क्षेत्र, मोलगा, रामदासी, बैंक ऑफ इंडिया परिसर, सेमली जदीद, सीएचसी परिसर भाउखेड़ी, वीरपुर डेम, चैनपुरा, बलोडिया, बिछोली, ढाबलामाता, ग्वाडिया के निवासी हैं। बुदनी क्षेत्र अन्तर्गत 27 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं। जो देवगांव, ग्वाड़िया, वार्ड नंबर 8, 11, 2, 9, 3, 6, पीलीकरार, ककरदा, बायां, रेहटी के वार्ड नंबर 2, बिछिया के निवासी हैं। इसी प्रकार नसरुल्लागंज क्षेत्र से 20 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो नसरुल्लागंज थाना क्षेत्र, कोर्ट परिसर, सेमलपानी, नसरुल्लागंज के वार्ड नंबर 3, 5, मगरिया, सतराना, शास्त्री नगर, छिदगांव, राला, किसान मोहल्ला, सोठिया के निवासी हैं। श्यामपुर क्षेत्र से 7 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं जो रामजाखेड़ी, दोराहा, अमरोद, चरनाल, छापरी, मजेड़ा, हालियाखेड़ी  के निवासी हैं। जिला चिकित्सालय स्थित डेडिकेटेट कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) में पिछले 24 घंटे के दौरान 2 कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु हो गई। मृतकों में 1 महिला तथा 1 पुरुष शामिल है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 542 हैं। आज 129 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 3690 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 56 है । आज 735 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 173, श्यामपुर से 83, विकासखंड नसरुल्लागंज से 89, आष्टा से 172 एवं बुदनी विकासखंड से 126 तथा इछावर से 92 सेंपल लिये गए हैं। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 4288 है जिसमें से 56 की मृत्यु हो चुकी है 3690 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 542 है। आज 735 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 92911 हैं जिनमें से 87007 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 944 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1545 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या  कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 7987652577, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।


जिले में 110 व्यक्तियों को लगा कोरोना का प्रथम एवं द्वितीय टीका


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। रविवार को शहरी सीहोर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सहित जिला चिकित्सालय क़े एक सत्र में कुल 110 व्यक्तियों को कोविड का प्रथम एवं द्वितीय टीका लगाया गया।


कोविड से मृत्‍यु पर पत्रकारों के परिजनों को आर्थिक सहायता  


कोरोना महामारी के दौरान पत्रकारों की कोरोना से मृत्‍यु पर मध्‍यप्रदेश सरकार उनके परिजनों को आर्थिक सहायता उपलब्‍ध कराती है। जनसंपर्क संचालनालय द्वारा आदेश जारी किए गए है कि जिले में ऐसे पत्रकार जिनकी हाल ही में कोरोना से मृत्‍यु हुई है, उनकी समस्‍त जानकारी के साथ निर्धारित प्रोफार्मा में patrkarkalyan@gmail.com पर आवेदन पत्र के साथ संबंधित पत्रकार का कोरोना से मृत्‍यु संबंधी प्रमाण-पत्र, बैंक अकाउंट तथा आयकर दाता न होने एवं परिवार में आय का दूसरा स्‍त्रोत न होने संबंधी शपथ पत्र संलग्‍न कर भेजा जाए।


कोविड मरीजों को घर पर ही मेडिसिन किट एवं आईसोलेशन के संबंध में निर्देश


वर्तमान में कोविड-19 के अत्यधिक संक्रमण के परिपेक्ष में शासन के द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि नगरीय क्षेत्र में होम आईसोलेशन में स्थित कोविड मरीजों को उनके घर पर ही कोविड-19 के स्वप्रबंधन के लिए आवश्यक मेडिसिन किट एवं आईसोलेशन में संबंधित स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों के प्रति उपलब्ध कराई जाए। इस संबंध में शासन द्वारा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। जारी निर्देश अनुसार प्रत्येक निकाय द्वारा अपने क्षेत्र में मेडिसिन किट एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों को होम आइसोलेशन में स्थित कोविड मरीजों के घर पर उपलब्ध कराने के लिए प्रत्येक जोन एवं वार्ड के अनुसार प्रभारी अधिकारी एवं आवश्यकता होने पर टीम की नियुक्ति की जाए। यथासंभव प्रत्येक जिले में होम आइसोलेशन में स्थित मरीजों की मॉनिटरिंग के लिए कंट्रोल रूम या कंट्रोल कमांड सेंटर संचालित है। इस व्यवस्था का संचालन के लिए संचालन के लिए इसे ही केंद्र बिंदु बनाया जाए। छोटे निकायों में वार्ड एवं जोन के अनुसार प्रभारी अधिकारी या टीम की आवश्यकता ना हो तो स्थानीय परिस्थितियों सर कार्यवाही की जाए। सामान्यत: मेडिसिन किट एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की प्रतियां कलेक्टर द्वारा स्वास्थ्य के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी, किंतु कई जिलों में ऐसी स्थिति हो सकती है कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा किट के स्थान पर मेडिसिन उपलब्ध कराई जाए जिसको किट में परिवर्तित करना होगा। नगरीय निकाय इसके लिए आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करें। ऐसी किट का निर्माण कलेक्टर के माध्यम से नियुक्त स्वास्थ्य विभाग विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में किया जाए। स्वास्थ विभाग के निर्देशों के प्रति अगर स्वास्थ विभाग द्वारा मुद्रित कार उपलब्ध नहीं कराई जाती है तो निकाय आवश्यकतानुसार मुद्रण सुनिश्चित किया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि वर्तमान में होम आइसोलेशन में स्थित ऐसे कॉविड मरीज जिनको अभी तक मेडिसिन केट एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की प्रति उपलब्ध नहीं हुई है उन्हें तत्काल प्रभाव से यह उपलब्ध कराई जाए। इसके पश्चात प्रतिदिन होम आइसोलेशन में रहने वाले नए कोविड मरीज को मेडिकल किट एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की प्रति उपलब्ध हो यह सुनिश्चित किया जाए। प्रतिदिन होम आइसोलेशन में मरीजों की सूची कलेक्टर द्वारा नियुक्त अधिकारी से सुबह 7:00 बजे प्राप्त की जाए। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए की प्रतिदिन होम आइसोलेशन में नए मरीजों को उसी दिन आवश्यक सामग्री उपलब्ध हो। प्रत्येक निकाय में इस संपूर्ण व्यवस्था के प्रभारी एवं वार्ड व जोन वाइज टीम के प्रभारियों के फोन नंबर का प्रचार प्रसार किया जाए, ताकि अगर होम आइसोलेशन में स्थित किसी मरीज को मेडिकल किट एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की प्रति प्राप्त नहीं होती है तो तुरंत संपर्क कर सकें। जिला मुख्यालय में होम आइसोलेशन में स्थित मरीजों के मॉनिटरिंग हेतु निर्धारित कंट्रोल रूम एवं कंट्रोल रूम व कमांड सेंटर का दूरभाष क्रमांक का पर्याप्त प्रचार-प्रसार हो जिस पर कोविड मरीज मेडिकल की प्राप्ति के लिए सूचना दे सकते हैं शेष निकाय में भी स्थापित किए जाने वाले कंट्रोल रूम में दूरभाष नंबर का प्रचार प्रसार करें कंट्रोल रूम एवं कंट्रोल कमांड सेंटर में पर्याप्त संख्या में मेडिसिन एवं मेडिसिन किट उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाए। उपलब्धता में कमी होने पर तुरंत कलेक्टर के संज्ञान में इस बात को लाया जाए। कई जिलों में मेडिकल किट का वितरण स्वास्थ विभाग के फीवर क्लीनिक के माध्यम से भी किया जा रहा है। ऐसे होम आइसोलेशन में स्थित कोविड मरीजों को फिर से सामग्री प्रदान करने की आवश्यकता नहीं है हालांकि प्रतिदिन वितरित सामग्री की जानकारी में फीवर क्लीनिक में बैठी सामग्री भी शामिल किया जाए। राज्य स्तर पर मेडिकल किट एवं स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों के प्रति होम आइसोलेशन में स्थित मरीजों को घर पर वितरण करने की कार्यवाही का मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा स्वयं प्रतिदिन समीक्षा की जाएगी। इसके लिए आयुक्त, नगरीय प्रशासन एवं विकास के मार्गदर्शन में श्री आदित्य सिंह सीईओ भोपाल स्मार्ट सिटी- 9589486865 के नेतृत्व में एक राज्य स्तरीय मॉनिटरिंग सेल स्थापित किया गया है। प्रत्येक संयुक्त संचालक अपने क्षेत्र की समस्त निकाय की जानकारी निर्धारित प्रारूप में एकत्रित कर प्रातः 11:00 बजे तक श्री आदित्य सिंह नोडल अधिकारी को उपलब्ध कराएंगे। श्री आदित्य सिंह नोडल अधिकारी आवश्यक समन्वय कर पूर्ण जानकारी निर्धारित प्रारूप में दोपहर 12:00 बजे तक उपलब्ध कराएंगे। किसी जिले में इस कार्रवाई में आ रही कोई विशेष समस्या को पृथक से फ्लैग किया जाएगा।  

कोई टिप्पणी नहीं: