विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 18 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 18 मई 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 18 मई

जिला प्रशासन की तानाशाहीपूर्ण कार्यशैली से बिगड़े जिले के हालात - शशांक भार्गव


vidisha news
विदिशाः- कांग्रेस पार्टी ने आज विदिशा विधायक शशांक भार्गव के पीतलमील स्थित कार्यालय में जिला प्रशासन के खिलाफ प्रातः 10ः30 से 12 बजे तक सांकेतिक धरना दिया। धरना स्थल पर कोविड गाइडलाइंस का पालन करते हुए विधायक भार्गव के साथ 12-15 पार्टी पदाधिकारी मौजूद थे। धरना प्रदर्शन के माध्यम से विधायक भार्गव व कांग्रेस पार्टी ने मांग की है कि मेडिकल कॉलेज वार्डाे में भर्ती मरीज सहायकों (वार्डवाॅय) की संख्या बढाई जावे एवं वार्डों के वाहर ऐसी व्यवस्था की जावे की परिजन अपने अपने मरीजों को सी.सी.टी.व्ही केमरे के माध्यम से उनके स्वास्थ्य लाभ की जानकारी ले सके और दिन में कम से कम एक वार वार्ड के वाहर से देखने की ईजाजत दी जावे। यदि कोई मरीज ज्यादा गंभीर है, तो पी.पी.ई. किट पहनाकर मरीज से मिलने की ईजाजद दी जानी चाहिए, पूर्व में ऐसा देखा गया है कि रात को 11 बजे तक तो मोबाईल पर मरीज अपने परिजनों से बात करते रहे इसके पश्चात सुवह 10 बजे अस्पताल प्रशासन द्वारा उन्हे सूचना दी गई आपके मरीज अब नहीं रहे आप अंतिम संस्कार के लिये आ जावे। इस प्रकार पुर्नावृत्ति न हो इसके लिये उपर दिये गये सुझावों को मान्य किया जावे साथ-साथ कोविड सहायता केंद्रों पर भी आरटीपीसीआर जांच की संख्या बढ़ाई जाए। वैक्सीन की आपूर्ति एवं वेक्सिनेशन सेंटरों की संख्या बढ़ाई जाए। ग्रामीण इलाकों के बिगड़ते हालात संभालने के लिए कोविड जांच व दवाई वितरण तेज गति से किया जाए, लेकिन जिस तरह से सरकार द्वारा किल कोरोना 3 का काम ग्रामीण क्षेत्रों में आॅगनवाडी कार्यकर्ता, व चैकीदारों से कराया जा रहा है वह सर्वथा अनुचित हैं। कम से कम एक ए.एन.एम. लेवल का कर्मचारी सर्वे टीम के साथ हो जिससे की वह मरीज को जाॅच कर उचित दबाई प्रदान कर सकें। 18-19 अप्रैल व 23 अप्रैल की रात मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों की न्यायिक जांच की जाए। पूर्व में मेडिकल काॅलेज में मृतकों के गहने, कीमती सामान भी मृत्यु उपरांत उतार लिये गये, लेकिन परिजनों के शिकायत करने पर न तो सामान मिला न ही एफ.आई.आर तक की गई।  मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन बेड की संख्या बढ़ाई जाए।  आवश्यक दवाइयों, इंजेक्शन, मेडिकल उपकरण की कालाबाजारी पर ठोस कार्यवाही की जाए।  शहर में करीब 1500 परिवारों द्वारा राशन की अस्थाई पर्ची बनवाने के लिये अधिकारियों को आवेदन सौंपे गये है, लेकिन शायद भाजपा नेताओं के दबाव में प्रशासन किसी उत्सव या अवसर की तलाश में है, जिसकी बजह से गरीबों को 5 माह का मुफ्त राशन प्रदाय नहीं किया जा रहा है। शहर में साफ-सफाई,नालों की बारिश पूर्व सफाई व निचली बस्तियों में टैंकर द्वारा पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित की जाए।  शहर में नागरिकों, व्यापारियो ंव सब्जी मंडी के व्यापारियों पर दमन पूर्ण चालानी पर तुरन्त रोक लगाई जावे। बडे अफसोस के साथ कहना पडता है कि अफसरों के साथ ड्रायवर व स्वीक्रिटी गार्ड भी डंडे बजाने में कसर नहीं छोड रहे है कहावत है बडे मियाॅ तो बडे मियाॅ छोटे मियाॅ तो सुभान अल्लाह।  अभी भी समय है जिला प्रशासन आंकड़ों की बाजीगरी बंद कर स्वास्थ सेवाओं को सुधारे। जिला कांग्रेस प्रभारी महा सचिव राकेश कटारे ने कहा कि जिला प्रशासन के उदासीन रवैये से ग्रामीण क्षेत्रों के हालात बदतर हैं। मौतों का आंकड़ा निरंतर बढ़ता जा रहा है। समय पर जांच व अधिक से अधिक पूर्ण सुविधायुक्त क्वरेंटीन सेंटर बनाया जाना चाहिए। अभी जो सेन्टर बने है उन पर कोई व्यवस्था नहीं होने के कारण मरीज नहीं आ रहे है। हमारे द्वारा पूर्व में दिये प्रस्ताव में कांग्रेस पार्टी द्वारा गुलाबगंज में स्वयं के खर्चे पर कोरेन्टीन सेन्टर खोलने के लिये कलेक्टर से अनुमति मांगी थी, लेकिन भाजपा नेताओं के दबाव में अनुमति नहीं दी गई।  शहर कांग्रेस अध्यक्ष देवेंद्र राठौर ने कहा कि चहेते सीवेज लाइन ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए ठेकेदार की लेवर द्वारा कोविड नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए सीवेज कनेक्शन जोड़े जा रहे हैं। जिससे संक्रमण बढ़ने का खतरा है। जिला कलेक्टर नगरपालिका के प्रशाषक भी हैं पेयजल आपूर्ति व साफ सफाई व्यवस्था दुरुस्त करवाएं। कोविड नियमों का पालन करते हुए धरना स्थल पर सीमित संख्या में कांग्रेस नेतागण मौजूद थे लेकिन कई कार्यकर्ताओं ने घर पर धरना देकर सोशल मीडिया कैंपेन चलाकर धरना में भागीदारी निभाई। इस अवसर पर प्रदेश सचिव नंदकिशोर शर्मा,विधायक प्रतिनिधि अजय कटारे,नरेंद्र रघुवंशी, ग्रामीण ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष दीवान किरार,दीपक कपूर,रवि साहू,पूर्व पार्षद डालचंद अहिरवार,ब्रजेंद्र वर्मा,ओबीसी प्रकोष्ठ अध्यक्ष शिवराज पिपरोदिया,मनोज कुशवाह,अब्दुल हक,कोमल जाटव,अभिराज शर्मा,मुआज कामिल आदि उपस्थित रहे।


कोरोना नियंत्रण हेतु निगरानी दल गठित, संक्रमित क्षेत्रों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त


कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा विदिशा जिले में कोरोना से प्रभावित क्षेत्रों के संक्रमितो को समय पर उपचार व आवश्यक दवाईयां सहित अन्य प्रबंध सुनिश्चित किए जाए तथा संक्रमण के क्षेत्र विस्तार में कटौती हो इसके लिए ग्राम व वार्डवार पृथक-पृथक नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए है। उक्त नोडल अधिकारी निर्धारित वार्डो में पहुंचकर किल कोरोना अभियान के तहत संपादित किए जाने वाले कार्यो को मूर्तरूप दे रहे अमले से सतत सम्पर्क कर क्रियान्वित कार्यो की मानिटिंरंग करेंगे ताकि संबंधित क्षेत्र में कोरोना संक्रमित मरीजो की संख्या में कमी हो साथ ही संक्रमण के प्रभाव को रोका जा सकें। अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने आज नियुक्त नोडल अधिकारियों की बैठक आहूत कर उन्हें सौंपे गए कार्यो का क्रियान्वयन कैसे करना है इस कार्य में उनकी मदद के लिए नियुक्त अमला से कैसे सहयोग प्राप्त करना है साथ ही किल कोरोना अभियान के तहत डोर-टू-डोर सर्वे में प्राप्त होने वाले मरीजो के उपचार की व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराई जायेगी।  अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने कलेक्टर द्वारा नियुक्त किए गए नोडल अधिकारियों को प्रकोष्ठवार सौपे गए दायित्व की जानकारी पावर प्रेजेन्टेशन के माध्यम से प्रस्तुत करते हुए संबंधितों की शंकाओं का समाधान भी मौके पर किया है।  अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह ने बताया कि विदिशा निकाय व ग्रामीण क्षेत्र में सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव संक्रमित मरीज चिन्हित हुए है। अतः ऐसे मरीज जो होम आइसोलेशन में है उन्हें किन मापदण्डो का पालन करना अतिआवश्यक है और उनके द्वारा उनका पालन किया जा रहा है कि नही कि निगरानी कर सूचित करना है। यदि किसी संक्रमित व्यक्ति के द्वारा होम आइसोलेशन में रहकर गाइड लाइन का पालन नही किया जा रहा है तो उसका चुपचाप वीडियो तैयार कर उसे कोरोन्टाइन सेन्टरों में भर्ती कराया जाना है। इसके अलावा गाइड लाइन का उल्लंघन करने वालो खिलाफ पुलिस में प्रकरण दर्ज कराने नोडल अधिकारियों को पूर्ण स्वतंत्रता प्रदाय की गई है और उन्हें की गई कार्यवाही का पालन प्रतिवेदन जिला कार्यालय को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए है।  नवीन कलेक्ट्रेट के बेतवा सभागार कक्ष में आयोजित इस बैठक में सहायक कलेक्टर श्री अनिल कुमार राठौर, विदिशा एसडीएम श्री गोपाल सिंह वर्मा, संयुक्त कलेक्टर द्वय श्री रोशन राय एवं श्री कुमार शानू देवडिया के अलावा समस्त नोडल अधिकारी मौजूद रहें।   अपर कलेक्टर श्री वृदांवनिंसंह ने शासन से प्राप्त नवीन निर्देषों के परिप्रेक्ष्य में इस कार्यालय द्वारा संपूर्ण विदिषा जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के संबंध में प्रतिबंधात्मक आदेष प्रसारित किये गये हैं । वर्तमान में विदिषा अनुभाग क्षेत्र सर्वाधिक रूप से कोरोना संक्रमण से प्रभावित है । इस हेतु विदिषा अनुभाग क्षेत्र में कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु विषेष प्रयास किये जाना आवष्यक है । अतः इस कार्यालय द्वारा प्रसारित प्रतिबंधात्मक आदेषों का पालन सुनिष्चित कराने हेतु विदिषा अनुभाग क्षेत्र में निम्नानुसार ’’कोविड-19 वीडियो निगरानी दल एवं कोविड-19 उडन दस्ता दल’’ गठित किया जाता है :-


कोविड-19 वीडियो निगरानी दल

विदिषा अनुभाग क्षेत्र के समस्त ग्राम पंचायत सचिव, समस्त राजस्व हल्का पटवारी एवं समस्त शहरी क्षेत्रों के वार्ड प्रभारी को पदस्थापना क्षेत्रान्तर्गत ’’वीडियो निगरानी दल के सदस्य’’ के रूप में नियुक्त कर, ग्रामीण क्षेत्रों के लिए श्री के.व्ही. मालवीय, (9893764724) मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत-विदिषा तथा विदिषा नगरीय क्षेत्र के लिए श्री सुधीरसिंह, (9425305333) मुख्य नगरपालिका अधिकारी, विदिषा को प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया जाकर निम्नानुसार कार्य सौंपा जाता है । अनुविभागीय अधिकारी विदिषा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत विदिषा तथा मुख्य नगरपालिका अधिकारी, विदिषा द्वारा तत्संबंधी आदेष संबंधितो को पृथक से प्रदान किया जावे ं।


कोविड-19 वीडियो निगरानी दल के एवं प्रभारी अधिकारी के कार्य एवं दायित्व


vidisha news
जिले में वर्तमान में विवाह समारोह, धार्मिक/निजी कार्यक्रम एवं समस्त प्रकार के आयोजन पूर्णतः प्रतिबंधित है, शवयात्रा में भी अधिकतम 10 व्यक्ति के सम्मिलित होने की अनुमति है, वीडियो निगरानी दल इस अनाधिकृत रूप से आयोजित होने वाले कार्यक्रमो नजर रखेगा और सूचना प्राप्त होने पर तत्काल कार्यवाही/वीडियोग्राफी कराया जाना सुनिष्चित करे। दल प्रभारी एव ंदल के सदस्य आवंटित क्षेत्र में सतत् रूप से भ्रमण करेंगे एवं उल्लंघन करने की दषा में संबंधित के विरूद्ध मोबाईल से वीडियोग्राफी कर एफ.आई.आर. दर्ज करायेंगे ।  ऐसे प्रतिष्ठान/वित्तीय संस्थान जिनको अत्यावष्यक सेवाओ में सम्मिलित होने से लॉकडाउन के दौरान खोले जाने की अनुमति प्राप्त है, उन संस्थानो पर सोषल डिस्टेंसिंग, नो मॉस्क-नो एन्ट्री का पालन कराना अनिवार्य है । इसका उल्लंघन करने पर संबिंंधत के विरूद्ध मोबाईल से वीडियोग्राफी कराई जाकर एफ.आई.आर. दर्ज करवायेंगे ।  होटल/रेस्टोरेंटो को मात्र पार्सल सुविधा हेतु खोले जाने की अनुमति है, उक्त स्थलो पर बैठकर अथवा खड़े रहकर भोजन/नाष्ता करते हुए पाये जाने पर संबंधित प्रतिष्ठानों के विरूद्ध मोबाईल से वीडियोग्राफी कर एफ.आई.आर. दर्ज करायेंगे । ऐसे संस्थान जिनको लॉकडाउन अवधि में खोले जाने की अनुमति है, उन संस्थान में 2 ग्3 फीट के ’’नो मॉस्क-नो एन्ट्री’’ के फ्लैक्स लगाये जाना अनिवार्य है।  औद्योगिक प्रयोजन से ऑक्सीजन उपयोग प्रतिबंधित है, उपयोग होने पर संबंधित के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही सुनिष्चित करेंगे ।  किराना सामग्री एम.आर.पी. से अधिक मूल्य पर विक्रय एवं कालाबाजारी करने पर वैधानिक कार्यवाही किया जाना सुनिष्चित करेंगे । कोरोना कर्फ्यू का पूर्णतः पालन कराना ।  कोविड-19 की रोकथाम हेतु क्षेत्र में आने वाले कोविड केयर सेन्टर, कोविड टेस्टिंग लैब, क्वारंटाईन सेन्टर का निरीक्षण, घर-घर सर्वेक्षण, नमूना संग्रहण, कन्टेनमेंट एरिया में पर्यवेक्षण, साफ-सफाई आदि विभिन्न कार्यों की मॉनिटरिंग करना ।  होम आईसोलेट मरीजो की दवा-आपूर्ति की जानकारी भी प्राप्त करेगे। होम आईसोलेट कोरोना संक्रमित मरीजो एवं उनके परिजनो के माईक्रो कंटोनमेन्ट एरिया के बाहर आवाजाही पर सतत् रूप से नजर रखी जावे, बंध-पत्र उल्लंघन की दषा में संबंधितो के विरूद्व तत्काल एफ.आई.आर. की कार्यवाही संपादित कर संबंधित मरीज एवं उसके परिजनो को कोविड केयर सेन्टर तथा आईसोलेषन केन्द्रो में भर्ती करने की व्यवस्था सुनिष्चित की जावे।  उक्त अधिकारी/कर्मचारी प्रतिदिन अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमण करेंगे तथा भ्रमण के दौरान की गई समस्त कार्यवाही की रिपोर्ट अपने-अपने प्रभारी अधिकारियो को प्रस्तुत करेगे, जिसके आधार पर प्रभारी अधिकारियो द्वारा अपने क्षेत्र की वस्तुस्थिति संबंधी प्रतिवेदन तथा वीडियो जिला कार्यालय के कंट्रोल रूम प्रभारी श्रीमती अमृता गर्ग, डिप्टी कलेक्टर मोबा. 9755038547 विदिषा को प्रस्तुत करेंगे। श्रीमती गर्ग द्वारा प्राप्त समस्त रिपोर्ट अधोहस्ताक्षरकर्ता के समक्ष प्रस्तुत की जावेगी । उक्त कार्य में श्रीमति गर्ग जिला कार्यालय में स्थापित कंट्रोल रूम के निम्नानुसार सहायको का सहयोग प्राप्त कर सकेगी।


कंट्रोल रूम


कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा जिला मुख्यालय पर कोविड 19 कंट्रोल रूम शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के लिए पृथक-पृथक गठित किया है। नगरीय क्षेत्र विदिशा के लिए बनाए गए कंट्रोल रूम का प्रभारी शहरी विकास अभिकरण के सहायक परियोजना अधिकारी श्री केडी पांडे 9406550252 को तथा विदिशा ग्रामीण क्षेत्र के कंट्रोल रूम का प्रभारी सहायक अधीक्षक श्री डीएस पैठारी 9425650240 एवं सहायक अधीक्षक भू-अभिलेख श्री मुजीबउद्दीन खिलजी 9039439363 को दायित्व सौंपा गया है। कंट्रोल रूम के अधिकारी प्राप्त होने वाली सूचनाओं को अनुविभागीय अधिकारी, तहसीलदार, संबंधित सचिव, पटवारी, वार्ड प्रभारी, कोविड 19 उडनदस्ता को अवगत कराएंगे। कंट्रोल रूम के अधिकारी द्वारा वीडियो निगरानी दल से वाटसएप पर प्राप्त होने वाले वीडियो का अवलोकन कर नियमों का उल्लंघन पाए जाने पर संबंधितों को कार्यवाही हेतु निर्देशित करेंगे। 

उडनदस्ता 

कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा विदिशा नगरपालिका क्षेत्र के ऐसे वार्ड जहां संक्रमितों की संख्या अधिक है। उन प्रत्येक वार्ड के लिए एक-एक उडनदस्ता गठित किया है जो संबंधित क्षेत्र में भ्रमण कर सौंपे गए दायित्वों का निर्वहन करेंगे। विदिशा नगरीय क्षेत्र के लिए समन्वय अधिकारी डिप्टी कलेक्टर श्रीमती अमृता गर्ग 9755038547 को तथा प्रभारी अधिकारी का दायित्व मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री सुधीर सिंह 9425305333 को सौंपा गया है।  नगरीय निकाय क्षेत्र विदिशा के लिए कुल 19 उडनदस्तें गठित किए गए है जो चिन्हित वार्डो में भ्रमण करेंगे। इसी प्रकार विदिशा ग्रामीण क्षेत्र के लिए समन्वय अधिकारी श्रम पदाधिकारी श्री सुधीश कमल 8750745277 को तथा प्रभारी अधिकारी जनपद सीईओ श्री केव्ही मालवीय 9893764727 को  दायित्व सौंपा गया है। ग्रामीण क्षेत्र विदिशा के लिए कोविड 19 के तहत कुल 21 उडनदस्ते गठित किए गए है। प्रत्येक उडनदस्तें एवं प्रभारी अधिकारी के द्वारा किन-किन कार्यो का संपादन किया जाएगा साथ ही भ्रमण के दौरान निगरानी के लिए निर्धारित बिन्दुओं की जानकारी एलसीडी प्रोजेक्टर के माध्यम से दी गई है।


बस स्टेण्ड की व्यवस्था में परिवर्तन


विदिशा नगर में कोरोना को नियंत्रण करने हेतु यातायात पुलिस व बस संचालकों की संयुक्त बैठक विदिशा एसडीएम श्री गोपाल सिंह वर्मा के द्वारा आज आयोजित की गई थी जिसमें सर्वसम्मति से बस स्टेण्ड की व्यवस्था में परिवर्तन करने का निर्णय लिया गया है। नवीन निर्णय अनुसार बुधवार 19 मई से 30 मई तक यात्री बसों के संचालन व स्टाप के संबंध में निर्णय लिया गया है कि वर्तमान में बस स्टेण्ड से बसें रवाना नही होगी और ना ही बस स्टेण्ड पर आएंगी। विदिशा एसडीएम श्री गोपाल सिंह वर्मा ने बताया कि तीस मई तक की अवधि में भोपाल से विदिशा तथा करारिया, अम्बानगर, बासौदा, कुरवाई, सिरोंज, अशोकनगर की ओर जाने वाली व तथा इन मार्गो से आने वाली बसे अब विवेकानंद चौराहे पर सवारी छोडेगी और वही से सवारियों को बिठाकर अपने गंतव्य स्थानो की ओर रवाना होगी।  इसी प्रकार सागर की ओर से विदिशा आने वाली बसें वाइपास से अहमदपुर चौराहे की ओर मुडकर अहमदपुर चौराहा पर आकर सवारियों को छोडेगी तथा यही से वापिस जाने हेतु सवारियो को बिठाकर रवाना होगी।  विदिशा एसडीएम श्री गोपाल सिंह वर्मा ने बताया कि इस प्रकार अधिकांश बसे शहर के आंतरिक भाग में प्रवेश नही करेंगी जो बसे भोपाल से सागर की ओर जाती है वह बसे विवेकानंद चौराहे होते हुए नीमताल से होकर अहमदपुर चौराहा रोड से सवारी लेकर वायपास होते हुए सागर की ओर प्रस्थान करेंगी। इसी प्रकार भोपाल की ओर से जाना तय करेंगी। नियत अवधि तक बसों का बस स्टेण्ड में प्रवेश पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा।


हाथ ठेला दोपहर दो बजे के बाद प्रतिबंधित


कोविड 19 गाइड लाइन एवं जारी दिशा निर्देशो के अनुपालन में लिए गए निर्णय से अवगत कराते हुए विदिशा अनुविभागीय दण्डाधिकारी श्री गोपाल सिंह वर्मा ने बताया कि नगर विदिशा में प्रत्येक दिवस हाथ ठेला के माध्यम से सम्पूर्ण दिन सब्जी एवं फलों का विक्रय किया जा रहा है जिसके कारण विदिशा के निवासी सब्जी, फल क्रय करने हेतु आना जाना करते है इस कारण से कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में विभिन्न प्रकार की कठिनाईयों का सामना करना पड रहा है।  अनुविभागीय दण्डाधिकारी श्री गोपाल सिंह वर्मा ने बताया कि विदिशा नगर में हाथ ठेला के माध्यम से सब्जी व फल विक्रय हेतु दोपहर दो बजे तक का समय निर्धारित किया गया है ततसंबंध में धारा 144 के तहत विदिशा शहर में दोपहर दो बजे के बाद फल एवं सब्जी का विक्रय पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है।  ततसंबंध में विदिशा नगरवासियों से अपील की गई है कि वह दोपहर दो बजे तक अपने उपयोगी सब्जी व फलो को अपने-अपने मोहल्ले में आने वाले विक्रेताओें से क्रय कर लें। जारी आदेश का विदिशा नगरपालिका एवं संबंधित थाना प्रभारियों को पालन सुनिश्चित कराने हेतु निर्देशित किया गया है। 


’रजिस्ट्री की गाइडलाईन 30 जून तक यथावत रहेगी’


प्रदेश में संपत्ति की खरीदी- बिक्री के लिए प्रति वर्ष एक अप्रैल से नई गाइडलाईन जारी की जाती है। परंतु कोरोना संक्रमण को देखते हुए वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए राज्य शासन द्वारा गाइडलाईन में 30 जून तक कोई परिवर्तन न करते हुए इसे पूर्ववत रखा गया है। आम नागरिकों की सुविधा को देखते हुए संपत्ति की पंजीयन दर में कोई वृद्धि नहीं की गई है। गाइडलाईन अनुसार महिलाओं के नाम से पंजीयन शुल्क में 2 प्रतिशत की छूट भी पूर्ववत जारी रहेगी। सामान्य पंजीयन की दर 3 प्रतिशत है जबकि महिला आवेदकों के लिए यह दर 1 प्रतिशत रखी गई है। उप पंजीयक कार्यालय चरणबद्ध तरीके से खोले जायें।


जिले में पात्रता विहीन/छूटे हुये गरीब परिवार राषन हेतु अस्थाई पात्रता पर्ची हेतु संपर्क करें 


शासन द्वारा प्रदेष में पात्रता विहीन/छूटे हुये गरीब परिवारों को पात्रता पर्ची जारी करने एवं राष्ट्रीय खादय सुरक्षा अधिनियम अंतर्गत 24 श्रेणी के गरीब परिवारों को पात्रता श्रेणी में सम्मिलित कर छूटे हुये एवं नवीन परिवारों को पात्रता पर्ची जारी करने हेतु निर्देषित किया गया है।  इसके तहत जिले में निवासरत गरीब परिवार जो 24 श्रेणियों के अंतर्गत आते हैं तथा ऐसे पात्र हितग्राही जिनकी पात्रता पर्ची नहीं बनी है। नगर पालिका तथा नगर पंचायत के ऐसे हितग्राही अपने वार्ड प्रभारी तथा नगरीय निकाय कार्यालय या निकाय द्वारा स्थापित केन्द्रों पर आवेदन फार्म जमा कर तीन माह के लिये अपनी अस्थाई पात्रता पर्ची प्राप्त कर सकते हैं।  इसी प्रकार ग्राम पंचायतों में निवासरत गरीब परिवार जो 24 श्रेणियों के अंतर्गत आते हैं तथा ऐसे पात्र हितग्राही जिनकी पात्रता पर्ची नहीं बनी है, वे ग्राम पंचायत सचिव के पास आवेदन फार्म जमा कर तीन माह के लिये अपनी अस्थाई पात्रता पर्ची प्राप्त कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: