दरभंगा : मंत्री के आश्वासन के बावजूद पेंशन एवं वेतन का भुगतान नहीं : विनोद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 6 मई 2021

दरभंगा : मंत्री के आश्वासन के बावजूद पेंशन एवं वेतन का भुगतान नहीं : विनोद

pension-still-pending-binod-chaudhry
दरभंगा (आर्यावर्त संवाददाता) बिहार सरकार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के आश्वासन के बावजूद ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियों को 3 माह से पेंशन एवं 2 माह से वेतन नहीं मिल पाना दुर्भाग्यपूर्ण है बिहार विधान परिषद के पूर्व सदस्य एवं ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय सिंडिकेट के सदस्य प्रोफेसर विनोद कुमार चौधरी ने आज यहां जारी अपने बयान मेसरकार की कार्यशैली की आलोचना करते हुए कहा कि पिछले 3 माह से इस विश्वविद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियों को पेंशन नहीं मिल रहा है वही कार्यरत शिक्षकों एवं कर्मचारियों को भी 2 माह से वेतन नहीं मिल रहा है। प्रोफेसर चौधरी ने कहा है कि बिहार के शिक्षा मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी से लगभग 15 दिन पूर्व मिल करमैंने इस समस्या की ओर उनका ध्यान आकृष्ट किया था और उन्होंने दो से 3 दिनों के अंदर विश्वविद्यालय को वेतन एवं पेंशन मिल जाने का भरोसा मुझे दिलाया था। और उन्होंने इस संबंध में तत्काल अधिकारियों को निर्देश भी दिया था। मुझे लगा तारशिक्षाकर्मी फोन कर रहे है और पूछ रहे हैं कि शिक्षा मंत्री के आश्वासन का क्या हुआ? मैं उनको क्या जवाब दूं मैं तो स्वयं आश्चर्यचकित हूं कि शिक्षा मंत्री के आश्वासन एवं उनके निर्देश का भी विभागीय अधिकारियों पर कोई असर नहीं हो तो ऐसी स्थिति में राज्य का क्या होगा बिहार के मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री से पुनः में अपील करता हूं कि विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियों का वेतन एवं पेंशन तुरंत निर्गत करावे। अब जब ईद का भी छह-सात दिन मात्र बचा है ऐसे में यदि तत्काल वेतन एवं पेंशन सरकार द्वारा नहीं रिलीज किया जाता तो ईद के मौके पर भी शिक्षा कर्मियों को पेंशन एवं वेतन नहीं मिल सकेगा और यह दुर्भाग्यपूर्ण होगा। पूर्वविधान पार्षद ने कहां की एक तो कोरोना संकट ऊपर से वेतन एवं पेंशन नहीं मिलना कहां तक उचित है यह तोराज्य के मुख्यमंत्री को भी सोचना चाहिए। प्रोफेसर चौधरी ने कहा कि संबद्ध महाविद्यालयों एवं नियोजित शिक्षकों के साथ भी ऐसा ही हो रहा है। इन्होंने मुख्यमंत्री को नेट के माध्यम से पत्र भेजकर तुरंत भुगतान की मांग की है।

कोई टिप्पणी नहीं: